यूपीए के दौर में निर्णयों की कमी नहीं थी लेकिन लिए नहीं गए ...नारायण मूर्ति ने 2008-12 का किया खास जिक्र

इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने यूपीए सरकार के दौरान आर्थिक विकास पर अपने विचार रखे और बताया कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की भूमिका क्या थी।

Manmohan Singh, UPA Government, Narayan Murthy, Economic Development
नारायण मूर्ति, इंफोसिस के संस्थापक 
मुख्य बातें
  • पश्चिम के देश पहले चीन को अधिक तवज्जो देते थे
  • अब हालात में बदलाव आए
  • मेक इन इंडिया और स्टॉर्ट अप से बदली तस्वीर

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की शख्सियत असाधारण थी लेकिन यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान भारत की आर्थिक रफ्तार पर ठहर सी गई थी। इस तरह के विचार के जरिए इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने अपनी बात कही। एक वाकये का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि 2012 में जब उन्होंने एचएसबीसी को छोड़ा तो भारत का नाम शायद ही लिया गया हो जबकि चीन का नाम बैठकों में कम से कम 30 बार लिया गया। 

एचएसबीसी की बैठकों का जिक्र
भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद (IIMA) में युवा उद्यमियों और छात्रों के साथ बातचीत के दौरान, श्री मूर्ति ने विश्वास व्यक्त किया कि युवा दिमाग भारत को दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन का एक योग्य प्रतियोगी बना सकते हैं। वो लंदन में (2008 और 2012 के बीच) एचएसबीसी के बोर्ड में हुआ करते थे। पहले कुछ वर्षों में, जब बोर्डरूम (बैठकों के दौरान) में चीन का दो से तीन बार उल्लेख किया गया था, तो भारत का नाम एक बार उल्लेख किया जाएगा।

यूपीए के दौर में आया ठहराव
दुर्भाग्य से मुझे नहीं पता कि बाद में भारत के साथ क्या हुआ। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह एक असाधारण व्यक्ति थे और मेरे मन में उनके लिए बहुत सम्मान है। लेकिन, किसी तरह, भारत ठप हो गया। निर्णय थे लेकिन नहीं लिया और सब कुछ देरी हो गई। मूर्ति ने कहा, इसलिए लगता है कि यह आपकी जिम्मेदारी है कि जब भी लोग किसी अन्य देश, विशेष रूप से चीन का नाम लेते हैं तो भारत के नाम का उल्लेख करें। मुझे लगता है कि आप लोग ऐसा कर सकते हैं।

पश्चिम के लोग पहले भारत के प्रति नहीं थे गंभीर
इंफोसिस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि एक समय था जब ज्यादातर पश्चिमी लोग भारत को नीचा देखते थे, लेकिन आज देश के लिए एक निश्चित स्तर का सम्मान है, जो अब दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।उनके अनुसार 1991 के आर्थिक सुधार, जब मनमोहन सिंह वित्त मंत्री थे, और वर्तमान भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की मेक इन इंडिया और 'स्टार्टअप इंडिया' जैसी योजनाओं ने देश को जमीन हासिल करने में मदद की है। जब मैं आपकी उम्र का था, तब ज्यादा जिम्मेदारी नहीं थी क्योंकि न तो मुझसे और न ही भारत से ज्यादा उम्मीद की जाती थी। आज उम्मीद है कि आप देश को आगे ले जाएंगे। मुझे लगता है कि आप लोग भारत को चीन का एक योग्य प्रतियोगी बना सकते हैं। सॉफ्टवेयर उद्योग के दिग्गज ने कहा कि चीन ने केवल 44 वर्षों में भारत को बड़े अंतर से पीछे छोड़ दिया है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर