फिक्स्ड बनाम फ्लोटिंग रेट डिपॉजिट: जानिए आपके लिए कौन सा विकल्प बेहतर

निवेशकों के बीच फिक्स्ड डिपॉजिट काफी लोकप्रिय है। फ्लोटिंग रेट टर्म डिपॉजिट स्कीम भी हैं। यहां जानिए इन दोनों में कौन सा विकल्प आपके लिए सही है।

Fixed Vs Floating Rate Deposits: Know Which Option Is Better For You?
फिक्स्ड VS फ्लोटिंग रेट डिपॉजिट (तस्वीर सौजन्य-Pixabay) 

निवेशकों के मध्य फिक्स्ड डिपॉजिट अत्यंत लोकप्रिय हैं। इनमें कम जोखिम होता है, साथ ही पैसा निकालने की आसानी के साथ सुनिश्चित रिटर्न मिलता है। लोग अपनी पूंजी की सुरक्षा के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट करते हैं। हालांकि, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरों में कोई बदलाव न करने के फैसले ने डिपॉजिट दरों पर असर डाला है। एफडी के रिटर्न में गिरावट आई है, जिससे निश्चित आय देने वाले इंस्ट्रूमेंट पर भरोसा करने वाले निवेशकों को नुकसान हुआ है। इससे एफडी में अपना निवेश जारी रखने में लोगों की दिलचस्पी कम हो गई है।

कई बड़े बैंकों में तीन साल तक की अवधि के लिए एफडी की दरें लगभग 5.25% प्रति वर्ष हैं। बढ़ती मुद्रास्फीति के साथ, डिपॉजिट पर मिलने वाले रिटर्न की वास्तविक दर ऋणात्मक (निगेटिव) हो गई है, विशेष रूप से टैक्स का भुगतान करने वाले निवेशकों के लिए। ऐसे में वे अपना सारा पैसा एफडी में लगाने से हिचक रहे हैं। एक निवेशक के लिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि वह अपने पैसे को इधर-उधर करता रहे जिससे उसके वास्तविक रिटर्न में सुधार हो सके। जहां आप एफडी लैडरिंग, सबसे अधिक लाभप्रद अवधि चुनने जैसी रणनीतियों या बेहतर रिटर्न के लिए कंपनी एफडी खरीदने का विकल्प चुन सकते हैं, वहीं फ्लोटिंग रेट टर्म डिपॉजिट स्कीम जैसे अन्य विकल्प भी मददगार हो सकते हैं।

एफडी के लिए बैंक दो तरह के ब्याज दर का विकल्प प्रदान करते हैं - पहला, फिक्स्ड रेट डिपॉजिट और दूसरा, फ्लोटिंग रेट डिपॉजिट टर्म (एफआरटीडी) जिसमें ब्याज की दर बदलती रहती है। सूचित निर्णय लेने के लिए इन पर एक नजर डालें।

फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश 

जैसा कि नाम से पता चलता है, फिक्स्ड डिपॉजिट वह निवेश है जिसमें परिपक्वता (मैच्योरिटी) अवधि तक ब्याज की दर एक समान और नियत होती है। उदाहरण के लिए, यदि आप तीन साल की अवधि के लिए 5.5% की दर से एफडी में निवेश करते हैं, तो उस अवधि के दौरान बैंक की ब्याज दर बढ़ने या घटने पर भी आपको मिलने वाले ब्याज की दर एक समान और अपरिवर्तित बनी रहेगी।

अगर आप अपनी एफडी समय से पहले तोड़ना चाहते हैं, तो आपको ब्याज जुर्माना देना होगा जो आमतौर पर एक प्रतिशत होता है। आदर्श रूप से, आपको अपने पैसे की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करना चाहिए, या फिर आप आंशिक निकासी का विकल्प अपना सकते हैं जिसमें ब्याज जुर्माना कम लगता है। फिक्स्ड डिपॉजिट का विकल्प चुनते समय, आप लैडरिंग की रणनीति भी अपना सकते हैं जिसमें आप अपनी एफडी को छोटे-छोटे डिपॉजिट में बांट सकते हैं जो कि कुछ महीनों से लेकर कुछ सालों तक के विभिन्न अंतरालों पर मैच्योर होंगी। इससे आपकी एफडी अलग-अलग समय पर मैच्योर होगी, जिससे आप बढ़ती ब्याज दरों के लिए निवेश कर सकेंगे और दरों में गिरावट के प्रभाव को कम कर सकेंगे। वर्तमान परिदृश्य में, जब दरों में वृद्धि होने की उम्मीद है तो आप कम अवधि की फिक्स्ड डिपॉजिट का विकल्प चुन सकते हैं और मैच्योर होने पर उच्च ब्याज दर पर स्विच कर सकते हैं।

फ्लोटिंग रेट टर्म डिपॉजिट (एफआरटीडी) में निवेश

एफआरटीडी में ब्याज दरें एक बेंचमार्क इंस्ट्रूमेंट की संदर्भ दर से जुड़ी होती हैं। नतीजतन, वे समग्र अवधि के लिए परिवर्तनशील रहती हैं, और अंतर्निहित संदर्भ दर के अनुसार संशोधित होती हैं। बेंचमार्क संदर्भ दर नियमित अंतराल पर रीसेट की जाती है, और इस तरह एफआरटीडी में ब्याज भी उसी अंतराल पर रीसेट होता है। एफआरटीडी आमतौर पर बेंचमार्क से जुड़े होते हैं जैसे ट्रेजरी बिल रेट, रेपो रेट आदि। उदाहरण के लिए, एक बैंक प्रचलित रेपो दर (वर्तमान में 4%) से ऊपर 1% के मार्क-अप के साथ तीन वर्षों के लिए एफआरटीडी की पेशकश करता है। इसका अर्थ है कि अगर आप 3 साल के लिए एफआरटीडी चुनते हैं, तो आपको 5% प्रति वर्ष की दर से रिटर्न मिलेगा। हालांकि, यदि 6 महीने के बाद रेपो दर गिरकर 3% हो जाती है तो आपके एफआरटीडी की दर संशोधित होकर 4% प्रति वर्ष हो जाएगी।

यदि निकट भविष्य में ब्याज दर में वृद्धि की उम्मीद है तो एफआरटीडी अच्छा काम करते हैं। आप अपने टर्म डिपॉजिट को तोड़े बिना भविष्य में ब्याज दरों में वृद्धि का फायदा उठाने के लिए प्रचलित दर पर एफआरटीडी में निवेश कर सकते हैं। ध्यान रखें कि जब ब्याज दर का रुझान नीचे की ओर होता है, तो एफआरटीडी धीरे-धीरे फायदे का सौदा साबित नहीं हो सकते हैं।

एफडी बनाम एफआरटीडी: आपको इनमें से किसे चुनना चाहिए?

एफआरटीडी पर दी जाने वाली ब्याज दर आमतौर पर एफडी के ब्याज दर से कम होती है। एफआरटीडी में निवेश करना तब एक अच्छा विकल्प हो सकता है जब आप एफडी पर मिलने वाले प्रचलित ब्याज दर की तुलना में निकट भविष्य में ब्याज दर में अधिक वृद्धि की उम्मीद करते हैं और यह एफडी के प्रचलित ब्याज दर से नीचे नहीं गिरता है। ऐसा माना जाता है कि निवेशकों के लिए एक उत्पाद के रूप में एफआरटीडी को समझना थोड़ा जटिल हो सकता है। हालांकि, एफआरटीडी आपको ब्याज दरों में वृद्धि होने पर अधिक रिटर्न की पेशकश कर सकते हैं, लेकिन ब्याज दर का रुझान ऋणात्मक (निगेटिव) होने पर इनमें कम रिटर्न मिलने की संभावना हो सकती है।

यदि निकट भविष्य में दरों में वृद्धि की उम्मीद हो, तो आप लैडरिंग तकनीक के माध्यम से एफडी में निवेश कर सकते हैं। इससे आपको निकट भविष्य में ब्याज दर को औसत करने (एवरेज आउट) में मदद मिल सकती है, साथ ही ब्याज दर बढ़ने पर अवसर लागत (ऑपर्च्युनिटी कॉस्ट) में कमी आ सकती है। एफआरटीडी की तुलना में एफडी को समझना आसान है। यदि आप ब्याज दर के रुझान को समझते हैं तो आप एफआरटीडी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं, अन्यथा नियमित एफडी उत्पादों के साथ ही बने रहें।

(इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर:  ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर