Financial Tips : नए वर्ष में वित्तीय प्लानिंग से जुड़ी 5 समझदारी भरी बातें

नए वर्ष की शुरुआत हो चुकी है। पिछले वर्ष 2020 के वित्तीय अनुभव से सीखकर नए वर्ष 2021 में बेहतर तरीके से फैसला लेने के आप ये 5 समझदारी भरे टिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Five wise tips related to financial planning in new year 2021
नए साल में वित्तीय प्लानिंग के 5 बेहतरीन टिप्स 

पिछले वर्ष के आपके वित्तीय अनुभव से आपको नए वर्ष में बेहतर निर्णय लेने में सहायता मिल सकती है। साथ ही, 2021 की शुरुआत वह समय भी है जब आपको 2020 में कोविड-19 महामारी के कारण हुई वित्तीय बाधाओं से छुटकारा पाने की योजना बनानी चाहिए। संभव है कि आप में कुछ लोग पिछले वर्ष अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त न कर सकें हों; 2021 में आपके पास इस सेटबैक से बाहर निकलने का अवसर है। यहां पर उन 5 समझदारी भरे टिप्स को दिया जा रहा है, जिनसे आपको इस वर्ष के लिए प्रभावी वित्तीय योजनाओं को तय करने में सहायता मिल सकती है।

1. अपने निवेश पोर्टफोलियों की समीक्षा करें

नए वर्ष की शुरुआत अपने उस निवेश पोर्टफोलियो की समीक्षा के साथ करें जिसे आप 2020 के उतार-चढ़ाव के बावजूद सुरक्षित रख सके। कोविड-19 के कारण आपको मजबूरी के कारण अपने निवेश के एक हिस्से को रिडीम करवाना पड़ गया होगा या आपको अपनी एसआईपी को रोकना पड़ा होगा या आपको हानि उठानी पड़ी होगी या नए निवेश को शुरू करने के उद्देश्य को पूरा नहीं कर पाए होंगे। नए वर्ष की शुरुआत वह समय है जब आपको अपने निवेश पोर्टफोलियो की समीक्षा कर लेनी चाहिए, समस्याओं की पहचान करनी चाहिए, और अगर जरूरी है तो सुधारात्मक (करेक्टिव) कदमों को उठाना चाहिए।नए साल में, अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए संभव है कि आप अतिरिक्त फंड्स का निवेश करने की योजना बना सकते हैं। आप अपनी उन एसआईपी को फिर से शुरू कर सकते हैं जिन्हें 2020 में रोक दिया गया था या कोई नई एसआईपी की शुरुआत कर सकते हैं। अगर आपके निवेश पोर्टफोलियो में किसी खास एस्सेट क्लास जैसे डेट या ईक्विटी की अधिकता हो गई है, तो आप कुछ फंड्स को स्विच करके पोर्टफोलियो संतुलन को फिर से बनाना चाह सकते हैं।आप ऐसे एस्सेट क्लास में अधिक पैसा निवेश करना चाह सकते हैं जिसकी इससे पहले आपने उपेक्षा की थी। लेकिन, आपको यह सुविचारित सलाह दी जाती है कि आप अपने बड़े निवेश निर्णयों के संबंध में जल्दबाजी न करें और यदि जरूरत है तो किसी सर्टिफाइड निवेश प्लानर की सहायता प्राप्त करें।

2. वित्तीय तैयारियों के समय में अपने सुरक्षा कवच को कमजोर न होने दें

कोविड-19 के कारण, अनेक लोगों द्वारा 2020 में अपने कम बजट के साथ समय बिताया होगा।ऐसे लोग जिनको अपनी आमदनी गंवानी पड़ी या जिनके वेतन में कटौतियां की गई, के पास अपनी वित्तीय ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अपने आकस्मिक (इमरजेंसी) फंड्स का इस्तेमाल करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था। आपको 2021 की शुरूआत अपनी मौजूदा स्थिति के आधार पर अपने वित्तीय बजट को फिर से सेट करके करनी चाहिए। यह कहने के बाद, याद रखें कि महामारी अभी खत्म नहीं हुई है और आपको निकट भविष्य में किसी अन्य वित्तीय आपातस्थिति की तैयारी करने के दौरान अपने सुरक्षा कवच को कमज़ोर नहीं होने देना है।इस बारे में एक सहायक स्ट्रेटजी यह हो सकती है कि पर्याप्त लिक्विडिटी को बनाए रखते हुए अपने डिस्क्रिशनरी (गैर ज़रूरी) खर्चों को कंट्रोल में रखें। यदि आपकी कैश-फ्लो की स्थिति में सुधार हो जाता है, तो आपको यह भी तय करना होगा कि आप कड़े वित्तीय अनुशासन का पालन करके जल्द से जल्द अपने इमरजेंसी फंड को फिर से तैयार करते हैं।

3. अपनी बीमा जरुरतों का आकलन करें

2020 का वर्ष ऐसा समय भी था जब लोगों को अपनी और अपने वित्तीय आश्रितों के लिए पर्याप्त जीवन और स्वास्थ्य बीमा सुरक्षा प्राप्त करने का महत्व भी समझ में आया। क्योंकि यह नए वर्ष की शुरूआत है, आपको इस बात का फिर से आकलन करना चाहिए कि आपको कितने बीमे की आवश्यकता होगी ताकि जिससे आपको निकट भविष्य मे पर्याप्त सुरक्षा मिल सके। कोविड-19 के कारण मेडिकल खर्चे बहुत अधिक बढ़ चुके हैं। यदि आपको आय से संबंधित समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है तो उनके साथ डील करना और भी अधिक चुनौती भरा हो सकता है। इसलिए, यदि आपने चिकित्सा बीमा नहीं करवाया हुआ है तो कम से कम 5 लाख रूपये की बीमा राशि वाला कम्प्रेहेंसिब चिकित्सा प्लान अवश्य ले लेना चाहिए। याद रखें कि, यदि आप अपनी पॉलिसी की शुरूआत कम आयु मे करते हैं, तो आपके वार्षिक प्रीमियम बहुत ही कम होंगे। आप अपनी ज़रूरतों के आधार पर अपनी चिकित्सा बीमा सुरक्षा का और अधिक विस्तार करने के लिए कम लागत वाले टॉप-अप या सुपर टॉप-अप प्लान को भी खरीदने पर विचार कर सकते हैं।

इसी तरह से, यदि आपने जीवन बीमा सुरक्षा प्राप्त नहीं की हुई है, तो अपने आश्रितों के फाइनल फ्यूचर को सुरक्षित करने के लिए एक जीवन बीमा प्राप्त करने को प्राथमिकता देनी चाहिए और ऐसा महामारी के कारण हमारी कमज़ोरियों को ध्यान में रखते हुए तो अवश्य कर लेना चाहिए। इस बात की हमेशा ही सलाह दी जाती रही है कि आपकी मौजूदा वार्षिक आय का 10X के बराबर कुल जीवन बीमा होना चाहिए। आप पर्याप्त सुरक्षा के लिए टर्म प्लान भी खरीद सकते हैं जिनका प्रीमिय कम होगा यदि आप युवावस्था में इसकी शुरूआत करते हैं।

4. अपने कर्ज को चुकाने की योजना का आकलन करें

महामारी के दौरान नौकरियों को खो देने की वजह से और आय में कमी होने के कारण, अनेक लोगों को अपने नियमित खर्चों संबंधी ज़रूरतो को पूरा करने के लिए उधार लेकर मजबूरी में जीवन यापन करना पड़ा था। कुछ लोगों ने अपने लोन संबंधी ईएमआई की रिपेमेंट के लिए मोराटोरियम का विकल्प चुना, जबकि उस पर ब्याज का बढ़ना जारी रहा जिससे उनकी लोन के बोझ को और बढ़ा दिया। इसलिए, नए साल की शुरूआत

करने का सबसे अच्छा तरीका अपने कर्ज को चुकाने की योजना का फिर से आकलन करना है ताकि आप 2020 में महामारी के कारण गंवा चुके अपनी वित्तीय मजबूती को जल्द से जल्द प्राप्त कर सकें। कर्ज चुकाने की एक प्रभावी योजना से आपकी उधार लेने की क्षमता मजबूत होगी जिससे आपको बाद में सहायता मिलेगी जब आपको भविष्य में अपने महत्वपूर्ण वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने की ज़रूरत होगी। आपको निम्न ब्याज वाले लोन की अपेक्षा उच्च ब्याज वाले लोन को चुकाने को प्राथमिकता देनी होगी। यदि आपकी वित्तीय स्थिति से ऐसा संभव है तो आपको बड़े लोन जैसे होम लोन की पर्याप्त प्रिपेमेंट करनी चाहिए ताकि आप जल्द ही डेट-फ्री हो जाएं।

5. अपने क्रेडिट स्कोर को मजबूत करें

अधिकांश बैंकों ने अपने लोन ब्याज दर को उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर से लिंक कर दिया है। इसके मायने हैं कि निम्न क्रेडिट स्कोर से आपको अपने लोन के लिए उच्चतर ब्याज दर देनी पड़ सकती है। बहुत ही खराब स्कोर के कारण, आप कुछ खास प्रकार के लोन के लिए आवेदन भी नहीं कर सकेंगे। यदि आप लोन लेकर घर, कार या अपने कारोबार का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं, तो यह बात बहुत ज़रूरी है कि आप अपने क्रेडिट स्कोर को मजबूत करें। नया वर्ष एक बिलकुल सही समय है जब आपको अपनी खराब बित्तीय आदतों को सुधारना होगा और एक पूर्ण वित्तीय अनुशासन के साथ फिर से शुरूआत करनी होगी जब बात आपके मौजूदा लोन ईएमआई और क्रेडिट कार्ड आउटस्टेंडिंग की समय पर और पूरा भुगतान करने की आती है।आपको एक से अधिक लोन या क्रेडिट कार्ड्स के आवेदन को भी कम से कम करना होगा, अपने रिवाल्विंग क्रेडिट के इस्तेमाल को सीमित करना होगा और अपने क्रेडिट स्कोर में सुधार करने की जल्दबाज़ी में ऐसे क्रेडिट कार्ड को बंद करने से बचना होगा जिसे आप लंबे समय से इस्तेमाल कर रहे हैं।

आखिर में, वित्तीय प्लानिंग से आपको अपने अल्प और दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता मिलेगी बशर्ते कि आप इन प्लान को अपने पिछले अनुभवों के आधार पर तैयार करते हैं। आपको अपने लक्ष्यों के आधार पर वास्तविक स्ट्रेटजी तैयार करनी होगी और हर समय उनका पालन करना होगा। आपको समय-समय पर समीक्षा और जब भी जरूरी हो रिएडजस्टमेंट भी करनी होगी। वर्ष 2021 के दौरान आपकी समृद्धि के लिए मेरी शुभकामनाएं।!

इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर: यह जानकारी एक्सपर्ट की रिपोर्ट के आधार पर दी जा रही है। बाजार जोखिमों के अधीन होते हैं, इसलिए निवेश के पहले अपने स्तर पर सलाह लें।) ( ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर