Investment Tips : ये 5 शॉर्ट टर्म निवेश विकल्प, जिनमें FD से मिलते हैं ज्यादा रिटर्न

बचत योजनाओं और यहां तक की फिक्सड डिपॉजिट पर मिलने वाली ब्याज दरें काफी कम हो गई हैं। ऐसे में 5 कुछ शॉर्ट टर्म प्लान हैं जो एफडी से बेहतर रिटर्न देते हैं। 

Five short-term investment options in which offer higher returns than FDs 
निवेश टिप्स 

फिक्सड डिपॉजिट (एफडी) पर ब्याज दरों में ऐतिहासिक कमी आ गई। जिसकी वजह से लोग अपनी बचत को शॉर्ट टर्म ऑप्शन में डालने लगे। निवेशक एफडी की तुलना में अपेक्षाकृत अधिक लाभ कमाने के लिए वैकल्पिक अवसरों की तलाश कर रहे हैं। यहां 5 कम जोखिम वाली निवेश योजनाएं हैं जो आपको एक वर्ष में फिक्सड डिपॉजिट की तुलना में अधिक रिटर्न अर्जित करने में मदद कर सकती हैं।

आर्बिट्रेज फंड्स (Arbitrage Funds)

इस प्रकार की म्यूचुअल फंड योजनाएं किसी भी शेयर के डेरिवेटिव और कैश मार्केट प्राइस के बीच अंतर से लाभ उठाने की कोशिश करती हैं ताकि रिवर्स पोजिशन लेकर (कैश मार्केट में स्टॉक खरीद सकें और फ्यूचर मार्केट में उसी शेयर को बेच सकें ताकि वे लाभ प्राप्त कर सकें जब कैश और  फ्यूचर मार्केट प्राइस मर्ज हो जाएं। यह एक कम जोखिम वाला फंड है और इसे कराधान के उद्देश्य से इक्विटी म्यूचुअल फंड माना जाता है। 

फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान या एफएमपी (Fixed maturity plans or FMP)

ये क्लोज एंडेड डेट फंड (close-ended debt funds) हैं जो कॉर्पोरेट बॉन्ड, डिपॉजिट सर्टिफिकेट, कमर्शियल पेपर, मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स, सरकारी सिक्योरिटीज और हाई-रेट्स नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर में निवेश करते हैं। इस प्रकार की योजना के लिए अधिकांश सामान्य कार्यकाल 30 दिन से लेकर 180 दिन, 370 दिन और 395 दिन होते हैं। एफएमपी या तो लाभांश या ग्रोथ म्यूचुअल फंड विकल्प हो सकता है। अगर यह मैच्योरिटी लाभांश योजना तय की जाती है, तो फंड हाउस लाभांश वितरण टैक्स (डीडीटी) लगाता है। अगर यह FMP ग्रोथ ऑप्शन है तो पूंजीगत लाभ टैक्स सूचकांक के लाभ के साथ लागू होता है।

ट्रेजरी बिल या टी-बिल (Treasury bills or T-bills)

केंद्र सरकार एक साल तक की मैच्योरिटी वाले ट्रेजरी बिल जारी करती है। ये मनी मार्केट साधन के तीन-मैच्योरिटी हैं - 91 दिन, 182 दिन और 364 दिन। उन्हें छूट पर जारी किया जाता है और फेस मूल्य पर भुनाया जाता है। उदाहरण के लिए, 100 रुपए के ट्रेजरी बिल का 95 रुपए में लिया जा सकता है। मैच्योरिटी के दिन खरीदारों को 100 रुपए प्राप्त कर सकता है। एक्स्ट्रा 5 रुपए ब्याज जमा होगा। यह उपकरण करीब जीरो डिफ़ॉल्ट जोखिम उठाते हैं और अत्यधिक तरल होते हैं।

शॉर्ट टर्म डेट फंड (Short-term Debt Funds)

शॉर्ट टर्म डेट म्युचुअल फंड 1 वर्ष से 3 वर्ष के बीच मैच्योर होते हैं। ये कम-जोखिम वाले डेट फंड हैं और निवेशकों को मध्यम रिटर्न दे सकते हैं। एफडी के विपरीत, ये डेट फंड मैच्योरिटी से पहले भुनाए जाने पर किसी तरह पैनाल्टी नहीं लगती है। अगर आप निवेश छह महीने तक करते हैं, तो आप अल्ट्रा शॉर्ट-टर्म डेट फंड में निवेश कर सकते हैं। जिसमें मैच्योरिटी अवधि 3 से 6 महीने तक होती है। एफडी की तुलना में, इस प्रकार का फंड थोड़ा अधिक रिटर्न देता है।

तरल निधि (Liquid Funds)

ये फंड टी-बिल, कॉमर्शियल पेपर (सीपी) जैसे मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट में निवेश करते हैं, और 3 से 6 महीने के बीच मैच्योरिटी अवधि वाले फिक्स्ड डिपॉजिट होते हैं। यह एक कम जोखिम वाली म्यूचुअल फंड स्कीम है जो समान कार्यकाल के एफडी की तुलना में बेहतर रिटर्न देते हैं। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर