प्रकाश की गति से डेटा ट्रांसफर ! स्टारलिंक को भारत में जल्द लांच कर सकते हैं एलन मस्क

starlink: क्या प्रकाश की गति से डेटा ट्रांसफर हो सकेगा। क्या यह भारत में मुमकिन हो सकेगा। इस संबंध में टेस्ला चीफ एलन मस्क का कहना है कि इस संबंध में विचार कर रहे हैं।

Elon Musk, starlink, satelite based internet service, data transfer at speed of light,
प्रकाश की गति से डेटा ट्रांसफर ! स्टारलिंक को इंडिया में जल्द लांच कर सकते हैं एलन मस्क 

मुख्य बातें

  • सैटेलाइड बेस्ट इंटरनेट सेवा पर जोर, एलन मस्त भारत में जल्द लांच कर सकते हैं स्टारलिंक
  • भारत में कानूनी प्रक्रियाओं का किया जा रहा है अध्ययन
  • संचार क्रांति को नए रूप में पेश करने के लिए तैयार- एलन मस्क

Starlink:टेस्ला के प्रमुख एलन मस्क जल्द ही भारत में अपनी सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवा स्टारलिंक लॉन्च कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी एयरोस्पेस कंपनी स्पेस एक्स नियामक अनुमोदन प्रक्रिया का पता लगाने के बाद भारत में उपग्रह-आधारित इंटरनेट सेवा शुरू कर सकती है। एक ट्विटर पोस्ट का जवाब  में उन्होंने कहा कि भारत में स्टारलिंक सेवाओं को लॉन्चिंग के लिये कंपनी यह पता लगा रही है किभारत में  नियामक अनुमोदन प्रक्रिया स्टारलिंक के लिए कैसे काम करेगी।

प्रकाश की गति से डेटा ट्रांसफर की कवायद
एलन मस्क ने हाल ही में दावा किया था कि स्टारलिंक में प्रकाश जितनी तेज गति से डेटा ट्रांसफर करने की क्षमता होगी। GizmoChina ने बताया कि वर्तमान में Starlink नेटवर्क  डिश, उपग्रहों और ग्राउंड स्टेशनों पर निर्भर करता है। इसे देखने के बाद कंपनी इन ग्राउंड स्टेशनों से छुटकारा पाने की योजना बना रही है। उपग्रहों के साथ लिंक स्थापित करने में लंबे समय के कारण तेजी से डेटा ट्रांसफर में दिक्कत आती है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि लेजर के साथ ट्रांसमिशन की गति ऑप्टिकल फाइबर की तुलना में लगभग 40 प्रतिशत तेज होने की उम्मीद है। इसकी वजह से हमें जमीन पर स्टेशन बनाने की जरूरत नहीं होगी। तेज गति से  इंटरनेट का चलना और डेटा का हस्तांतरण संभव हो सकेगा। मस्क ने सुनिश्चित किया है कि स्टारलिंक जल्द ही पूरे आर्कटिक से ग्राउंड स्टेशन तत्व को काट देगा और पर्याप्त बैंडविड्थ भी प्रदान करेगा।

संचार जगत में होगी क्रांति
मस्क के बयान को ध्यान से देखने के साथ अगर ऑप्टिकल फाइबर के साथ मौजूदा गति के आधार पर गति की गणना करें तो स्टारलिंक 180,832 मील प्रति सेकंड पर डेटा पैकेट स्थानांतरित करने में सक्षम होगा । यह पता चला है कि यह गति एक निर्वात में प्रकाश की गति का लगभग 97 प्रतिशत होगी। इस बीच, स्टारलिंक ने हाल ही में ग्राहकों को 100,000 टर्मिनल भेजे। इस परियोजना का उद्देश्य उपग्रहों के समूह के माध्यम से वैश्विक ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान करना है।

स्पेसएक्स ने नवंबर 2019 में उपग्रह प्रक्षेपण शुरू किया और लगभग एक साल बाद चुनिंदा ग्राहकों के लिए अपना $99 प्रति माह बीटा कार्यक्रम खोला। उस अवधि के बाद से, स्पेसएक्स ने अब तक 1,700 से अधिक उपग्रहों को लॉन्च किया है। शुरुआत के लिए, स्टारलिंक उपग्रहों को जमीन पर एक निर्दिष्ट क्षेत्र के भीतर सभी उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट भेजने के लिए निर्धारित किया गया है। इस निर्दिष्ट क्षेत्र को सेल के रूप में जाना जाता है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर