Edible oil rate today : सरसों, सोयाबीन तेल कीमतों में सुधार, जानिए 31 जुलाई का भाव

बिजनेस
भाषा
Updated Aug 01, 2020 | 13:53 IST

Edible oil rate today, 31 July 2020 :सस्ते आयातित तेल के मुकाबले देशी तेल तिलहन उद्योग के समक्ष बाजार में अपनी ऊपज को खपाना एक बड़ी चुनौती होगी। जानिए आज का भाव।

Edible oil rates today, Mustard, Soybean Improve, know latest prices on 31 July 2020
खाने वाले तेल तिलहन का भाव  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • शुक्रवार को सोयाबीन डीगम सहित सोयाबीन के अन्य तेलों में सुधार देखा गया
  • माल की तंगी से सरसों तेल में सुधार का रुख रहा
  • वायदा बाजार में शुक्रवार को सोयाबीन की कीमत में तेजी रही

Edible oil/oilseed price today, 31 July 2020: सस्ते आयातित तेलों की मांग बढ़ने से स्थानीय तेल तिलहन बाजार में शुक्रवार को सोयाबीन डीगम सहित सोयाबीन के अन्य तेलों में सुधार देखा गया। वहीं दूसरी तरफ सहकारी संस्था नाफेड तिलहन उत्पादक किसानों के हित को ध्यान में रखते हुये घटे भाव पर मंडी में सरसों नहीं निकाल रही है। ऐसे में माल की तंगी से सरसों तेल में सुधार का रुख रहा। बाजार सूत्रों ने कहा कि सस्ते आयातित तेलों की व्यावसायिक मांग बढ़ने के बावजूद मलेशिया में पाम तेल का भारी जमा स्टॉक है तथा आगे भी इसका उत्पादन बढ़ने की संभावना है। इस कारण पाम एवं पामोलीन तेलों के भाव पूर्वस्तर पर बने रहे लेकिन ‘ब्लेंडिंग’ की मांग बढ़ने से, सस्ते आयातित तेल सोयाबीन डीगम के साथ साथ सोयाबीन के अन्य तेलों के भाव में सुधार देखने को मिला।

सूत्रों के अनुसार देश में मूंगफली और सोयाबीन की आगामी फसल काफी अच्छी होने की उम्मीद की जा रही है। किसानों के पास भी पहले के मूंगफली और सोयाबीन का काफी स्टॉक बचा हुआ है। ऐसे में सस्ते आयातित तेल के मुकाबले देशी तेल तिलहन उद्योग के समक्ष बाजार में अपनी ऊपज को खपाना एक बड़ी चुनौती होगी। यही वजह है कि तेल विशेषज्ञों और तेल उद्योग के प्रमुख संगठनों ने सरकार से सस्ते आयातित तेलों पर शुल्क बढ़ाने की मांग की है। सूत्रों ने कहा कि अगस्त में देश के कांडला बंदरगाह पर ही करीब 04 लाख टन सोयाबीन डीगम आने वाली है तो फिर स्थानीय सोयाबीन तेल को कहां खपाया जाएगा। सरकार को इस विरोधाभास को संज्ञान में लेकर संतुलना साधने का उपाय करना चाहिये।

तेल-तिलहन (oil/oilseed) के शुक्रवार को बंद भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपए प्रति क्विंटल)

सरसों तिलहन - 4,860- 4,920 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपए।
मूंगफली दाना - 4,640 - 4,690 रुपए।
वनस्पति घी- 965 - 1,070 रुपए प्रति टिन।
मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 12,200 रुपए।
मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 1,830- 1,880 रुपए प्रति टिन।
सरसों तेल दादरी- 10,120 रुपए प्रति क्विंटल।
सरसों पक्की घानी- 1,595 - 1,735 रुपए प्रति टिन।
सरसों कच्ची घानी- 1,695 - 1,815 रुपए प्रति टिन।
तिल मिल डिलिवरी तेल- 11,000 - 15,000 रुपए।
सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 9,300 रुपए।
सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 9,100 रुपए।
सोयाबीन तेल डीगम- 8,200 रुपए।
सीपीओ एक्स-कांडला-7,370 से 7,420 रुपए।
बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 7,950 रुपए।
पामोलीन आरबीडी दिल्ली- 8,780 रुपए।
पामोलीन कांडला- 8,000 रुपए (बिना जीएसटी के)।
सोयाबीन तिलहन डिलिवरी भाव 3,625- 3,650 लूज में 3,360--3,425 रुपए।
मक्का खल (सरिस्का) - 3,500 रुपए

सोयाबीन वायदा कीमतों में तेजी

दिल्ली मे मजबूत हाजिर मांग के कारण व्यापारियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे वायदा बाजार में शुक्रवार को सोयाबीन की कीमत आठ रुपए की तेजी के साथ 3,786 रुपए प्रति क्विन्टल हो गई। एनसीडीईएक्स में सोयाबीन के अगस्त महीने में डिलीवरी वाले कॉन्ट्रैक्ट की कीमत आठ रुपए या 0.21 प्रतिशत की तेजी के साथ 3,786 रुपए प्रति क्विन्टल हो गयी, जिसमें 20,860 लॉट के लिए कारोबार हुआ। इसी प्रकार, सोयाबीन के सितंबर महीने में डिलीवरी वाले कॉन्ट्रैक्ट की कीमत 16 रुपए या 0.43 प्रतिशत की तेजी के साथ 3,762 रुपए प्रति क्विन्टल हो गई। इसमें 21,165 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार सूत्रों ने कहा कि मांग बढ़ने के कारण सटोरियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से मुख्यत: वायदा कारोबार में सोयाबीन कीमतों में तेजी आई।

अगली खबर