डबल स्टैक लॉन्ग हॉल कंटेनर ट्रेन बदल देगी देश की तस्वीर, जानें क्यों है यह खास

बिजनेस
ललित राय
Updated Jan 07, 2021 | 13:59 IST

पूर्वी डेडीकेटड फ्रेट कॉरिडोर की तरह वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेड कॉरिडोर को पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को समर्पित किया। खास बात यह थी कि दुनिया की पहली डबल स्टैक लॉन्ग हाल कंटेनर की झलक भी दिखाई दी।

डबल स्टैक लॉन्ग हॉल कंटेनर ट्रेन बदल देगी देश की तस्वीर, जानें क्यों है यह खास
वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर दौड़ी डबल स्टैक कंटेनर  |  तस्वीर साभार: YouTube

मुख्य बातें

  • रेवाड़ी- मदार सेक्शन पर दौड़ी डबल स्टैक कंटेनर, पीएम नरेंद्र मोदी ने दिखाई हरी झंडी
  • 1.5 किमी लंबी डबल स्टैक कंटेनर में 14 फीसद अधिक भार को सहन करने की क्षमता
  • ई कॉमर्स जैसी कंपनियों को मिलेगा सबसे ज्यादा फायदा

गुरुवार का दिन देश के लिए खास था। एक तरफ वेस्टर्न डेडिकेटड फ्रेट कॉरिडोर को पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकार्पण किया तो दूसरी तरफ डबल स्टैक लॉन्ह हाल कंटेनर को भी पटरी पर हरी झंडी दिखाई। यह मौका इसलिए खास बना क्योंकि दुनिया की पहली 1.5 किमी लंबी डबल स्टैक कंटेनर अपने मंजिल पर जाने के लिए तैयार थी। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा हमें विकास को इस तरह से ही गति प्रदान करना है। यह कॉरिडोर और ट्रेन बेशक अभी एक हिस्से में शुरू की गई है लेकिन इससे विकास की गति और तेज होगी।

समर्पित माल गलियारे पर दौड़ी डबल कंटेनर
समर्पित माल गलियारा (डीएफसी) देश में एक सुरक्षित और कुशल माल परिवहन प्रणाली बनाने के लिए है। वर्तमान में, हरियाणा और महाराष्ट्र को जोड़ने वाले पश्चिमी DFC और पंजाब और पश्चिम बंगाल को जोड़ने वाले पूर्वी DFC निर्माणाधीन हैं। पश्चिमी और पूर्वी डीएफसी की संयुक्त लंबाई लगभग 2,843 किमी है। उत्तर-दक्षिण (दिल्ली-तमिलनाडु), पूर्व-पश्चिम (पश्चिम बंगाल-महाराष्ट्र), पूर्व-दक्षिण (पश्चिम बंगाल-आंध्र प्रदेश) और दक्षिण-दक्षिण (तमिलनाडु-गोवा) DFC की योजना बनाई जा रही है।

WDFC का रेवाड़ी-मदार खंड और डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन

  1. रेवाड़ी-मदार खंड हरियाणा में, महेंद्रगढ़ और रेवाड़ी जिलों में लगभग 79 किमी और राजस्थान में लगभग 227 किमी, जयपुर, अजमेर, सीकर, नागौर और अलवर जिलों में स्थित है।
  2. इसमें नौ नवनिर्मित डीएफसी स्टेशन शामिल हैं, जिनमें से छह न्यू डाबला, न्यू भगेगा, न्यू श्री माधोपुर, न्यू पचार मलिकपुर, न्यू सकून और न्यू किशनगढ़ के क्रॉसिंग स्टेशन हैं, जबकि अन्य तीन रेवाड़ी, न्यू अटेली और न्यू फुलेरा में हैं जंक्शन स्टेशन।
  3. डबल स्टैक लांग हाल कंटेनर करीब 1.5 किमी लंबी, करीब 14 फीसद अधिक भार वहन की क्षमता।
  4. राष्ट्रीय ट्रांसपोर्ट के लिए यह जबरदस्त तरीके से मायने रखता है। 

मौजूदा रेल लाइन पर नहीं मिल पाती है मालगाड़ियों को प्राथमिकता
वर्तमान में, मालगाड़ियों को यात्री ट्रेनों पर प्राथमिकता नहीं मिलती है। एक बार पूरा होने के बाद, कम से कम 70% माल गाड़ियों को DFCCIL नेटवर्क पर स्थानांतरित किया जाएगा जो कार्गो के समय पर आवागमन में मदद करेगा। इसके अलावा, इससे भविष्य में अधिक यात्री ट्रेनों की शुरुआत हो सकती है।डीएफसी पर ट्रैक भारतीय रेलवे के अधिकांश हिस्सों की तुलना में भारी भार उठाने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। DFC को पैरेंट इंडियन रेलवे से ट्रैक एक्सेस चार्ज मिलेगा, साथ ही वह खुद का फ्रेट बिजनेस भी तैयार करेगा।


यह व्यवसायों को कैसे मदद करता है?

अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कंपनियां समर्पित फ्रेट कॉरिडोर परियोजना के पूरा होने के बाद रेलवे के माध्यम से माल परिवहन कर सकेंगी। ई-कॉमर्स के अलावा, माल ढुलाई गलियारा परियोजना भी ऑटोमोबाइल क्षेत्र के लिए दरवाजे खोल देगा।

कौन सी ट्रेनें नए सेक्शन का उपयोग करेंगी?
अब से इस खंड पर चलने वाली फ्रेट ट्रेनों को भारतीय रेलवे की मौजूदा कानपुर-दिल्ली मुख्य लाइन को दूर करने में मदद मिलेगी, जो वर्तमान में अपनी लाइन क्षमता के 150% पर ट्रेनों को संभालती है। इस खंड में वर्तमान में 50 से अधिक यात्री ट्रेनें और लगभग 60 माल ट्रेनें हैं। भारतीय रेलवे मेनलाइन पर नए सेक्शन का मतलब है, अधिक यात्री ट्रेनों को पंप किया जा सकता है और वे ट्रेनें, बदले में, बेहतर समय की पाबंदी हासिल कर सकती हैं।Representational Image
उत्तरी क्षेत्र से खाद्यान्न और उर्वरकों को पूर्वी और पूर्वोत्तर क्षेत्रों में ले जाया जाता है। पूर्व और पूर्वोत्तर से कोयला, लौह अयस्क, जूट और पेट्रोलियम उत्पादों को उत्तर और पश्चिम में ले जाया जाता है। ध्यान देने वाली बात है कि इससे पहले अपने उद्घाटन भाषण के दौरान, पीएम मोदी ने कहा था कि डीएफसी के बाकी काम में तेजी लाई जाएगी। 46 किलोमीटर का खुर्जा-दादरी लिंक मार्च तक तैयार हो जाएगा और यह 53 प्रतिशत पूरा हो जाएगा। 127 किलोमीटर की रेवाड़ी-दादरी लाइन अगले साल दिसंबर तक तैयार हो जाएगी। 335 किलोमीटर लंबा मदार-पालनपुर खंड 83 प्रतिशत पूर्ण है और अगले तीन महीनों में तैयार हो जाएगा। पालनपुर-मकरपुरा खंड मार्च 2022 तक तैयार हो जाएगा और आधा तैयार हो जाएगा।


(साभार- यू ट्यूब)
रफ्तार में तेजी, दो बार लोड

इस ट्रैक पर 100 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति से मालगाड़ियों के चलने की उम्मीद है। इससे पहले, DFCCIL ने इस स्ट्रेच पर 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से वैगन के साथ ट्रेनों को सफलतापूर्वक चलाया था। इस मार्ग पर उपयोग किए जाने वाले वैगनों में वर्तमान में उपयोग किए जा रहे वैगनों की तुलना में 14% अधिक भार वहन क्षमता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर