Air fare: हवाई यात्रा करने वाले के लिए बुरी खबर! बढ़ सकता है किराया, ये है वजह

बिजनेस
भाषा
Updated Jul 16, 2021 | 18:31 IST

आम आदमी पर महंगाई की मार लगातार बढ़ रही है। अब हवाई यात्रा और महंगी होने वाली है। 

Bad news for air traveller! fare may hike, this is the reason
हवाई किराये में हो सकती है बढ़ोतरी 

मुख्य बातें

  • जेट ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी हो गई है। 
  • जेट ईंधन की कीमतों में कोई भी वृद्धि परिचालन लागत को बढ़ा देती है।
  • जनवरी 2021 से एटीएफ की कीमतें 40% के करीब पहुंच गई हैं।

नई दिल्ली : सरकार द्वारा संचालित रिफाइनरीज ने शुक्रवार को जेट ईंधन की कीमतों में इजाफा किया है। इससे महामारी की नई लहर के चलते कई रुकावटों का सामना करने के बाद परिचालन को फिर से शुरू करने के लिए संघर्ष कर रहे भारतीय वाहकों के लिए चिंताएं और बढ़ गई हैं। इस कदम से हवाई यात्रा के और महंगी होने और मांग पर असर पड़ने की उम्मीद जताई जा रही है। राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार को घरेलू एयरलाइंस के लिए एटीएफ की कीमतें 1 जुलाई से 2.44 प्रतिशत बढ़कर 68,262.35 रुपए प्रति किलो लीटर से 16 जुलाई को 69,857.97 रुपए हो गईं। मुंबई में भी एटीएफ 66,482.90 रुपए प्रति किलो लीटर के स्तर से बढ़कर 68,064.65 रुपए प्रति किलो लीटर हो गया है।

सरकार द्वारा संचालित रिफाइनरीज द्वारा जेट ईंधन की कीमतों में कोई भी वृद्धि भारतीय वाहकों की परिचालन लागत को बढ़ा देती है। भारत में एयरलाइन चलाने की लागत में एविएशन टर्बाइन फ्यूल (एटीएफ) का योगदान 35-50 प्रतिशत है। इसके अलावा, कीमतों में तेजी से हो रही इस वृद्धि से उन एयरलाइनों की बैलेंस शीट पर और दबाव डाल सकती है, जो इंडस्ट्री में टिके रहने के लिए काफी प्रयास कर रही हैं।

इस साल जनवरी से एटीएफ की कीमतें 40 फीसदी के करीब पहुंच गई हैं, जो साल की शुरुआत में सिर्फ 50,000 रुपए प्रति किलोलीटर के स्तर से बढ़कर अब 70,000 रुपए प्रति किलोलीटर हो गई है। हालांकि एयरलाइंस के पास विदेशों से भी एटीएफ खरीदने का विकल्प है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय परिचालन में कटौती के साथ इस विकल्प के लाभ भी सीमित हैं। साथ ही साथ कोरोना के इस समय में यात्रियों की संख्या में कमी होने के चलते एयरलाइनों के पास लागत में हुई वृद्धि को यात्रियों से वसूलने का विकल्प भी नहीं है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर