Automatic Coach Washing Plant: इस तरह हो रही ट्रेन के डिब्बों की सफाई, समय-पानी की हो रही बचत

Coach Washing Plant: देश में अलग-अलग जगह पर रेलवे ऑटोमेटिक कोच वाशिंग प्लांट लगा रही है। इससे ट्रेनों की सफाई में समय और पानी के साथ-साथ मानव शक्ति का बचाव होगा।

railway
भारतीय रेलवे 

Automatic Coach Washing Plants: भारतीय रेलवे ने ट्रेनों की धुलाई प्रक्रिया को पूरा करने के लिए समय, पानी और मानव शक्ति को कम करने के लिए पर्यावरण के अनुकूल कदम उठाए हैं। पश्चिम रेलवे जोन ने कहा है कि उसने हमेशा विभिन्न तरीकों से हरित और पर्यावरण के अनुकूल प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहित किया है, चाहे वह भारतीय रेलवे की पुश एंड पुल परियोजना के माध्यम से हो या ऊर्जा बचाने और पर्यावरण के संरक्षण के लिए सौर पैनलों की स्थापना के माध्यम से हो। इन पर्यावरण हितैषी प्रयासों को जारी रखते हुए पश्चिमी क्षेत्रीय रेलवे द्वारा हाल ही में बांद्रा टर्मिनस कोचिंग डिपो और गांधीधाम कोचिंग डिपो में दो स्वचालित कोच वाशिंग प्लांट (एसीडब्ल्यूपी) चालू किए गए हैं।

ACWP पानी, समय के साथ-साथ पूरी ट्रेन की धुलाई प्रक्रिया को प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए मानव शक्ति को कम करने में मदद करता है। रेलवे द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, इन संयंत्रों के स्वचालन और दक्षता के कारण उम्मीद है कि इस कदम से कोचिंग डिपो के लिए बाहरी धुलाई लागत में प्रति वर्ष अनुमानित 50 लाख रुपए की बचत होगी। 

रेल मंत्रालय ने इसका वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, 'ट्रेन वाशिंग प्लांट के माध्यम से स्वचालित ड्राइव को ईएमयू कार शेड, राणाघाट, पश्चिम बंगाल में चालू किया गया। भारतीय रेलवे पर अपनी तरह के पहले संयंत्र को ईएमयू और एमईएमयू दोनों डिब्बों को धोने के लिए डिजाइन किया गया है।'

आगे इसे पर्यावरण के लिए उपयोगी बताया गया। कहा गया कि ईएमयू कार शेड, राणाघाट, पश्चिम बंगाल में चालू किए गए ट्रेन वाशिंग प्लांट में उपयोग किए गए पानी के पुन: उपयोग के लिए जल शोधन और पुनर्चक्रण की व्यवस्था की गई है।संयंत्र में कई ब्रशिंग इकाइयां सभी रखरखाव क्षेत्रों को बेहतर तरीके से साफ कर सकती हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर