ऑटो पेमेंट नियमों में 1 अक्टूबर से होगा बदलाव, जानिए क्रेडिट, डेविट कार्ड यूजर्स कैसे होंगे प्रभावित

ऑटो पेमेंट नियमों में 1 अक्टूबर से बदलाव होने की पूरी संभावना है। इससे लाखों क्रेडिट, डेविट कार्ड यूजर्स प्रभावित हो सकते हैं। यहां विस्तार से जानिए।

Auto payment rules to change from October 1, know how credit, debit card users will be affected
ऑटो डेबिट नियमों में बदलाव होगा 

नई दिल्ली: ऑटो पेमेंट नियमों में 1 अक्टूबर से बदलाव की संभावना है। लाखों ई-मैंडेट या ऑटो-डेबिट की विफलता की संभावना पर कई संगठनों द्वारा उठाई गई चिंताओं पर ध्यान दिया गया है क्योंकि सभी बैंकों ने अपने सिस्टम को अपग्रेड नहीं किया है, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने  इस साल अप्रैल में अनुपालन समय सीमा 6 महीने बढ़ा दी थी। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने पहले कहा था कि डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) या अन्य प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (PPI) का उपयोग करने वाले रेकरिंग ट्रांजेक्शन के लिए एडिशनल फैक्टर ऑथेंटिकेशन (AFA) की जरुरत होगी। अगस्त 2019 में नए ढांचे की घोषणा की गई थी, और आरबीआई ने चेतावनी दी थी कि "गैर-अनुपालन से गंभीरता से निपटा जाएगा"। बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस नए नियम के बारे में जानकारी देनी शुरू कर दी है।

एक्सिस बैंक द्वारा भेजे गए मैसेज के अनुसार आरबीआई के रेकरिंग पेमेंट गाइलाइन्स के अनुसार 20 सितंबर से प्रभावी हुआ है। रेकरिंग ट्रांजेक्शन के लिए एक्सिस बैंक कार्ड पर स्थाई निर्देशों का ऑनर्ड नहीं किया जाएगा। आप निर्बाध सेवा के लिए सीधे अपने कार्ड का उपयोग करके व्यापारी को भुगतान कर सकते हैं। 

RBI ने पहले भारतीय बैंक संघ के अनुरोध पर 31 दिसंबर, 2020 से समय सीमा बढ़ा दी थी और कहा है कि हितधारकों को पर्याप्त समय दिए जाने के बावजूद फ्रेमवर्क को पूरी तरह से लागू नहीं किया गया है। RBI ने कहा कि यह गैर-अनुपालन गंभीर चिंता के साथ नोट किया गया है और इससे अलग से निपटा जाएगा। कुछ हितधारकों द्वारा कार्यान्वयन में देरी ने संभावित बड़े पैमाने पर ग्राहक असुविधा और डिफॉल्ट की स्थिति को पैदा किया है। इसमें कहा गया है कि ग्राहकों को किसी भी तरह की असुविधा से बचाने के लिए आरबीआई ने हितधारकों के लिए फ्रेमवर्क में माइग्रेट करने की समयसीमा छह महीने बढ़ाने का फैसला किया है।

नए नियमों के तहत, सभी रेकरिंग ट्रांजेक्शन को अतिरिक्त प्रमाणीकरण की आवश्यकता होगी। 5,000 रुपए से अधिक के भुगतान के लिए, हर बार भुगतान देय होने पर ग्राहक द्वारा वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) को सत्यापित करना होगा। यह घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों तरह के सभी क्रेडिट और डेबिट कार्डों पर लागू होगा।

ये नए नियम यूजर्स को कैसे करेंगे प्रभावित?

  1. चूंकि सभी स्थायी निर्देशों को प्रोसेस्ड नहीं किया जाएगा, इसलिए अनिवार्य रजिस्ट्रेशन, मोडिफिकेशन और डिलिटेशन के लिए एडिशनल फैक्टर प्रमाणीकरण की आवश्यकता होगी।
  2. बड़ी संख्या में क्रेडिट और डेबिट कार्ड यूजर्स बिजली और गैस से लेकर संगीत और मूवी सब्सक्रिप्शन तक की वस्तुओं और सेवाओं के लिए ऑटो-भुगतान निर्देश सेट करते हैं, और नए नियम लाखों यूजर्स के लिए अराजकता का कारण बन सकते हैं।
  3. अगर यूजर्स के बैंक खाते में बिल भुगतान के लिए स्थायी निर्देश रजिस्टर्ड हैं, तो कोई परिवर्तन नहीं होगा। नए नियम केवल डेबिट और क्रेडिट कार्ड पर स्थायी निर्देशों को प्रभावित करेंगे।
  4. मैंडेट रजिस्ट्रेशन, मोडिफिकेशन, डिलिटेशन के लिए एडिशनल फैक्टर ऑथेंटिकेशन (AFA) की आवश्यकता होगी।
  5. ग्राहकों को डेबिट से 24 घंटे पहले एक प्री-डेबिट (एसएमएस/ई-मेल) नोटिफिकेशन मिलेगा।
  6. 5,000 रुपए से अधिक की राशि के किसी भी रेकरिंग लेनदेन के लिए हर बार राशि डेबिट होने पर AFA की आवश्यकता होगी।
  7. ग्राहक प्रत्येक एसआई के लिए अधिकतम राशि निर्धारित कर सकते हैं। अगर लेन-देन की राशि ग्राहक द्वारा निर्दिष्ट अधिकतम राशि से अधिक है, तो प्री-डेबिट अधिसूचना में ग्राहक के लिए AFA के साथ लेनदेन को प्रमाणित करने के लिए एक लिंक होगा। इस प्रमाणीकरण के बिना, लेनदेन प्रोसेस्ड नहीं किया जाएगा।

इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) जिसमें नेटफ्लिक्स, डिजनी + हॉटस्टार और अमेजन जैसे सदस्य शामिल हैं। पहले इस फ्रेमवर्क को लागू करने के लिए बैंकों की तत्परता के बारे में चिंता जताई थी। एसोसिएशन ने नीति आयोग को एक नोट में कहा कि उद्योग परामर्श से पता चलता है कि अधिकांश प्रमुख अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के पास रजिस्ट्रेशन, ट्रैकिंग, संशोधन और ई-जनादेशों को वापस लेने की आवश्यकताओं का अनुपालन करने के लिए उन्नत क्षमता नहीं है। इस कारण से, पारिस्थितिकी तंत्र में अन्य प्रतिभागियों जैसे अधिग्रहणकर्ता और कार्ड नेटवर्क इन सर्कुलर दिशानिर्देशों के तहत उनके लिए आवश्यक दायित्वों का पालन करने में सक्षम नहीं हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर