नई या पुरानी, कार खरीदते समय ध्यान में रखें ये जरूरी बातें

Cars Purchasing Precautions : कोरोना वायरस महामारी के कारण लोगों को भीड़भाड़ वाले पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन से बचने के लिए पर्सनल वाहन खरीदने के बारे में सोचने पर मजबूर होना पड़ा है।

When Purchasing a car, new or old, keep in mind these important things
कार खरीदने से पहले कुछ महत्वपूर्व बातें जानना जरूरी है  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस की वजह से पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन असुरक्षित लगने लगा है
  • अब सुरक्षा के लिए लोग निजी वाहन को प्रायोरिटी देने लगे हैं
  • इसलिए पर्सनल गाड़ी खरीदने के बारे में सोचने पर मजबूर होना पड़ रहा है

Precautions When Purchasing Cars : कोविड-19 वैश्विक-महामारी के कारण लोगों के लिए अब सामाजिक दूरी बनाकर चलना जरूरी हो गया है। लोग अपनी दैनिक गतिविधियों के दौरान या काम पर जाने के दौरान संक्रमण से बचने के तरीके ढूंढ रहे हैं। पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन, असुरक्षित लगने लगा है। इसलिए, लोग अब सुरक्षित ट्रांसपोर्टेशन को प्रायोरिटी देने लगे हैं। हाल ही में हुए सर्वे से पता चला है कि इस वैश्विक-महामारी के कारण लोगों को भीड़भाड़ वाले पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन से बचने के लिए पर्सनल ट्रांसपोर्टेशन खरीदने के बारे में सोचने पर मजबूर होना पड़ा है। इससे पर्सनल गाड़ियों की मांग में 15% तक बढ़ोत्तरी हो सकती है, ख़ास तौर पर 35 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की तरफ से। इस वैश्विक-महामारी के कारण कुछ हेल्थ रिस्क के साथ-साथ कुछ आर्थिक मुश्किलें भी पैदा हो गई हैं जिससे इस समय, नौकरी और आमदनी में कटौती के कारण, लोगों को नई गाड़ी खरीदने में परेशानी हो सकती है। इसलिए, इस समय अपनी पहली कार खरीदते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

नई या पुरानी कार?

इस समय आपको अपनी जरूरत और हैसियत के हिसाब से कार खरीदनी चाहिए। कहने का मतलब है कि आपको सबसे पहले यह देखना चाहिए कि क्या एक नई कार खरीदने के लिए आपके पास पर्याप्त पैसे हैं या क्या एक पुरानी कार से भी काम चल सकता है। पुरानी कार थोड़ी सस्ती होती है। दोनों तरह की कार के लिए लोन मिल सकता है। पुरानी कारों का लोन, नई कारों के लोन से थोड़ा महंगा होता है। इसलिए यह देखना जरूरी है कि आने वाले समय के हिसाब से कौन-सा लोन लेना बेहतर होगा। इस समय कम-से-कम फाइनेंसियल प्रेशर के साथ सुरक्षित ढंग से काम करना जरूरी है। आपको इस समय बड़ी सावधानी के साथ अपने पैसे खर्च करने चाहिए क्योंकि इन दोनों ऑप्शन में कम-या-ज्यादा, पैसे तो खर्च होंगे ही, और इसे वसूल करने में थोड़ा समय भी तो लगेगा, ख़ास तौर पर अगर यह संकट जारी रहा तो। यदि आप कोई बढ़िया कार खरीदना चाहते थे तो पैसे बचाने के लिए आप अपनी मनपसंद कार का बेसिक वेरिएंट भी खरीद सकते हैं। लेकिन, ऐसा करते समय, सेफ्टी फीचर्स जैसे एयरबैग्स के साथ समझौता न करें। यदि इस समय एक हाई-फाई या लग्जरी कार खरीदना महंगा लग रहा हो तो आप कॉम्पैक्ट SUV, बजट सेडान, और हैचबैक भी खरीद सकते हैं।

क्या आप एक लोन अफोर्ड कर सकते हैं?

किसी भी तरह का लोन लेने से पहले, अपना क्रेडिट स्कोर जरूर चेक करें। आप ऑनलाइन से मुफ्त में अपनी क्रेडिट रिपोर्ट हासिल कर सकते हैं। यदि आपका स्कोर, 750 से अधिक है तो आपको कुछ बेस्ट लोन डील्स मिल सकते हैं। यदि यह 700 से कम है तो आपको ज्यादा इंटरेस्ट देना पड़ सकता है। इसके अलावा, आपको यह भी देखना चाहिए कि आपकी मौजूदा आमदनी, एक मंथली लोन पेमेंट करने लायक है या नहीं। आपके सभी लोन की EMI, आपके घर-ले-जाने-लायक इनकम का 40% से कम होना चाहिए। इसके अलावा, आपके पास कुछ मार्जिन मनी भी होनी चाहिए क्योंकि एक लोन, कार की कुल लागत का 80-90% तक ही कवर करेगी।

क्या खरीदें, क्या नहीं

आपको सिर्फ कार पर ही नहीं बल्कि एक्सेसरीज, इंश्योरेंस, रजिस्ट्रेशन, और टैक्स पर भी पैसे खर्च करने पड़ेंगे। इसलिए इन पर भी ध्यान देना जरूरी है। रजिस्ट्रेशन और टैक्स से बचा नहीं जा सकता क्योंकि ये कानूनी आवश्यकताएं हैं। लेकिन, इंश्योरेंस और एक्सेसरीज से जुड़े खर्च में कटौती की जा सकती है। इंश्योरेंस, एक बेसिक थर्ड-पार्टी कवर से लेकर एक कम्प्रिहेंसिव कवर तक, कई तरह के होते हैं। इंश्योरेंस कवरेज जितना ज्यादा होगा, प्रीमियम उतना ज्यादा लगेगा। एक्सेसरीज के मामले में, ऑडियो सिस्टम और प्रीमियम आइटम खरीदने का मन कर सकता है। लेकिन इन्हें खरीदना अभी जरूरी नहीं है। आप पैसे आने पर उन्हें बाद में भी खरीदकर लगा सकते हैं।

फाइनेंस स्कीम्स और डिस्काउंट्स

ऑटो डीलर्स, कार खरीदने वालों की सुविधा के लिए कई तरह की फाइनेंस स्कीम्स देते हैं जैसे अभी खरीदें बाद में पैसे दें, बैलून पेमेंट्स, स्टेप-अप EMI, और लम्बे रीपेमेंट पीरियड वाला लोन। इनमें से किसी का भी चुनाव करने से पहले अपने फाइनेंसियल कंडीशन का जायजा लेना जरूरी है। इन स्कीम्स के चार्ज और इंटरेस्ट की भी तुलना करनी चाहिए। जैसे, स्टेप-अप EMI के मामले में, शुरू के सालों में कम, और बाद में इनकम बढ़ने पर ज्यादा पेमेंट करने की सुविधा मिलती है। लेकिन इस कोरोना काल में कुछ भी कहना मुश्किल है। इसलिए आपको यह समझना चाहिए कि एक लॉन्ग-टर्म लोन, आपके फाइनेंस को कैसे प्रभावित कर सकता है और किसी कारण से इनकम बंद हो जाने पर आप क्या करेंगे।

ऊपर बताई गई बातों के अलावा आपको इस समय ज्यादा-से-ज्यादा पैसे बचाने और कम-से-कम खर्च करने की कोशिश करनी चाहिए। यदि कार खरीदना जरूरी है तो जरूर खरीदें लेकिन अपने बजट के भीतर। कार लोन के साथ-साथ कार की खरीदारी से जुड़े तरह-तरह के चार्ज के बारे में भी जान लें। इससे पैसे बचाने में काफी मदद मिल सकती है।

(इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर: यह जानकारी एक्सपर्ट की रिपोर्ट के आधार पर दी जा रही है। बाजार जोखिमों के अधीन होते हैं, इसलिए निवेश के पहले अपने स्तर पर सलाह लें।) ( ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर