Taj Mahal: ताजमहल नहीं जनाब, अब इसे कहिये तेजो महालय! आगरा नगर निगम में बीजेपी पार्षद ने पेश किया प्रस्ताव

Taj Mahal: ताजमहल का नाम बदलने का विवाद एक बार फिर से बढ़ सकता है। इस बार आगरा नगर निगम के एक पार्षद ने निगम ने ताजमहल का नाम बदलकर तेजो महायलय रखने का प्रस्‍ताव रखा है। इस प्रस्‍ताव पर बुधवार यानी आज चर्चा की जाएगी।

Taj mahal
ताजमहल का नाम बदलकर तेजो महालय रखने का प्रस्‍ताव   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • आज यानी बुधवार दोपहर तीन बजे होगी प्रस्‍ताव पर चर्चा
  • ताजगंज के पार्षद शोभाराम राठौर ने रखा प्रस्‍ताव
  • दावा ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर मांगेंगे समर्थन

Taj Mahal: विश्‍व विख्‍यात मोहब्बत की सबसे खूबसूरत और अनूठी इमारत ‘ताजमहल’ का नाम बदलने की तैयारी है। इस संबंध में आगरा नगर निगम में प्रस्ताव लाया जा रहा है। ताजगंज के बीजेपी पार्षद शोभाराम राठौर ने ताजमहल का नाम बदलकर तेजो महालय करने का प्रस्ताव दिया है। इस प्रस्‍ताव पर बुधवार यानी आज दोपहर 3 बजे होने वाली नगर निगम के अधिवेशन में चर्चा के लिए रखा जाएगा। पार्षद राठौर का कहना है कि उन्होंने प्रस्ताव संख्या 4(7) में इसके संबंध में कई ऐतिहासिक तथ्य रखे हैं। जिसके आधार पर ही ताजमहल का नाम तेजो महालय करने का प्रस्ताव सदन के सामने रखा जाएगा।

पार्षद शोभाराम राठौर ने कहा कि, शहर में मुगल रोड, आजम खां समेत कई सड़कों और चौराहों के नाम बदले गए हैं। अब वक्त आ गया है कि ताजमहल का नाम भी बदलकर तेजो महालय रखा जाए। उन्‍होंने कहा कि, वे ऐतिहासिक तथ्यों के साथ सदन में साथी पार्षदों से समर्थन की मांग करेंगे। बता दें कि ताजमहल का नाम बदलकर तेजो महालय रखने की मांग और विवाद लंबे समय से चल रहा है। अब इस प्रस्‍ताव ने इस विवाद को एक बार फिर से हवा दे दी है।

हाईकोर्ट में दायर हो चुकी है याचिका

बता दें कि, इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में ताजमहल को लेकर एक याचिका दायर की गई थी। जिसमें मांग की गई थी कि ताजमहल के तहखाने में मौजूद 22 कमरों को पब्लिक के लिए खोल दिया जाना चाहिए। इस याचिका में दावा किया गया है कि 22 कमरों में ऐसे साक्ष्य मौजूद हैं, जिससे यह सिद्ध किया जा सकता है कि ताजमहल पहले शिव मंदिर था। वही, ताजमहल के नाम को लेकर भी लंबे समय से विवाद हो रहा है। हिंदू संगठनों का दावा है कि ताजमहल का नाम पहले तेजो महल था। इन संगठनों का दावा है कि मकबरे के नीचे भगवान शिव का शिवलिंग है जिस पर पानी की बूंद टपकती रहती हैं। इन संगठन के नेताओं ने कई बार ताजमहल में भगवा कपड़े पहनकर और हनुमान चालीसा का पाठ करने की कोशिश भी की।

Agra News in Hindi (आगरा समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर