लाइव टीवी
open in app

सिर्फ 250 रुपये के लिए टीचर ने ले ली मासूम की जान- परिवार का आरोप, फीस नहीं मिलने पर बच्चे को पीटा

Updated Aug 19, 2022 | 20:26 IST

श्रावस्ती के पुलिस अधीक्षक अरविंद के मौर्य ने कहा कि छात्र के चाचा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि 8 अगस्त को उसके स्कूल शिक्षक ने उसे पीटा था। जिसके कारण उसकी मौत हुई है।

Loading ...
UP Student die, UP Police, Shravasti
तस्वीर साभार:&nbspTimes Now
टीचर की मार से छात्र की मौत
मुख्य बातें
  • यूपी के एक निजी स्कूल में पढ़ता था मासूम
  • क्लास थर्ड का छात्र था मृतक बच्चा
  • आठ अगस्त को बच्चे की हुई थी पिटाई

उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जिले में एक छात्र की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। फीस न मिलने पर स्कूल के एक टीचर ने बच्चे  को इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी मौत हो गई। इस मामले को लेकर यूपी पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार बच्चे की पिटाई आठ अगस्त को की गई थी, जब वह अपने गांव के बगल में स्थित एक निजी स्कूल में पढ़ने गया था। छात्र पर स्कूल का 250 रुपया फीस बकाया था, जिसे लेकर मासूम को टीचर से पीट दिया। इसके बाद जब बच्चे की तबीयत बिगड़ी को उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान 17 अगस्त को उसकी मौत हो गई। 

श्रावस्ती के पुलिस अधीक्षक अरविंद के मौर्य ने इस मामले को लेकर कहा कि छात्र के चाचा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि 8 अगस्त को उसके स्कूल शिक्षक ने बच्चे को पीटा था। उन्होंने कहा- "तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले एक 13 वर्षीय छात्र की 17 अगस्त को बहराइच के एक अस्पताल में मौत हो गई। उसके चाचा ने शिकायत की कि उसे उसके स्कूल के शिक्षक ने 8 अगस्त को पीटा था। संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और आगे की जांच जारी है।"

ये भी पढ़ें-  Rajasthan: दलित छात्र ने पेयजल का मटका छुआ तो आगबबूला हुआ टीचर, बेरहम पिटाई से फट गई कान की नस; हुई मौत

 

वहीं पीड़ित परिवार ने इस मामले को लेकर कहा कि सिरसिया थाना क्षेत्र में स्थित चैलही क्षेत्र के पंडित ब्रह्मदत्त हायर सेकेंडरी स्कूल के एक शिक्षक अनुपम पाठक ने बच्चे को पीटा था। परिवार वालों का कहना है कि स्कूल की फीस के रूप में 250 रुपये नहीं देने पर शिक्षक ने बच्चे की पिटाई की थी।

Advertising
Advertising

इस घटना के बाद परिवार वालों ने लड़के को शुरू में जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जिसके बाद जब हालत में सुधार नहीं दिखा तो उसे मेडिकल कॉलेज ले जाया गया, जहां 8 दिन बाद बच्चे की मौत हो गई। मौत की खबर मिलते ही ग्रामीण भड़के उठे और उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। काफी प्रयासों के बाद प्रशासन ने किसी तरह से इस हंगामे को शांत कराया। पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।