LIVE BLOG
More UpdatesMore Updates

टोक्यो में 4 महाशक्तियों का महामंथन, हिंद-प्रशांत में क्वाड को मजबूत बनाने पर सभी ने दिया जोर

क्वाड देशों अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, भारत और जापान की बैठक टोक्यो में जारी है। चीन के खिलाफ माने जा रहे इस समूह के फैसलों एवं चर्चाओं पर दुनिया भर की नजर है। इस बैठक में चीन को घेरने एवं हिंद प्रशांत क्षेत्र को सुरक्षित रखने, आर्थिक संबंधों को नई ऊंचाई देने के बारे में अहम फैसले हो सकते हैं। क्वाड की तरफ से सोमवार को एक बड़ी पहल हुई। अमेरिका के नेतृत्व में 'इंडो-पेसिफिक इकोनॉमिक फोरम' (IPEF) की घोषणा हुई।

PM Modi Japan Visit :
क्वाट बैठक लाइव अपडेट्स।

टोक्यो में IPEF की घोषणा के बाद आयोजित भोज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापान के पीएम फूमियो किशिदा एवं अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन के साथ बैठे। आईपेफ की घोषणा के बारे में पीएम मोदी ने कहा कि यह फ्रेमवर्क क्षेत्र को वैश्विक आर्थिक विकास का इंजन बनाने की हमारी सामूहिक इच्छाशक्ति को दर्शाता है। इस मौके पर पीएम मोदी ने अहम पहल की शुरुआत करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति को बधाई दी। उन्होंने कहा, 'एक समावेशी एवं लचीला हिंद-प्रशांत इकोनॉमिक फ्रेमवर्क बनाने के लिए भारत आप सभी लोगों के साथ मिलकर काम करेगा।' उन्होंने कहा कि 'मुझे उम्मीद है कि यह फ्रेमवर्क हिंद-प्रशांत क्षेत्र में विकास, शांति एवं समृद्ध लेकर आएगा।'

May 24, 2022  |  08:06 AM (IST)
पुतिन ने एक संस्कृति को खत्म करने की कोशिश की-बाइडेन

रूस पर हमला बोलते हुए बाइडेन ने कहा कि पुतिन ने एक संस्कृति को खत्म करने की कोशिश की। यह केवल यूरोप का मुद्दा नहीं है। रूस ने यूक्रेन से खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति यदि रोकी तो दुनिया में खाद्य संकट और भी गंभीर हो जाएगा। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में हम एक मजबूत एवं बराबरी के साझीदार होंगे। हम साझा मूल्यों के चलते एकजुट बने रहेंगे। क्वाड के रूप में हमें अभी बहुत से कार्य करने हैं। हमें इस क्षेत्र को स्थिर एवं शांतिपूर्ण रखना है। हमें कोरोना महामारी एवं जलवायु संकट से भी निपटना है। 
 

May 24, 2022  |  08:01 AM (IST)
लोकतांत्रिक ताकतों को नई ऊर्जा दे रही है है यह बैठक-PM मोदी
बैठक को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि क्वाड ने कम समय में ही दुनिया में अपना एक अहम स्थान प्राप्त कर लिया है। हमारा आपसी विश्वास एवं दृढ़इच्छाशक्ति लोकतांत्रिक ताकतों को एक नई ऊर्जा एवं उत्साह दे रही है। हमें आसियान, दक्षिण एशिया के साथ-साथ प्रशांत के द्विपीय देशों की आवाज को भी सावधानी पूर्वक सुनना चाहिए।
May 24, 2022  |  08:00 AM (IST)
हिंद-प्रशांत क्षेत्र को आर्थिक रूप से और मजबूत बनाएंगे-अल्बानीस

ऑस्ट्रेलिया के पीएम अल्बानीस ने कहा कि उनकी सरकार क्वाड के देशों के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार है। हमने जलवायु परिवर्तन से लड़ने की प्रतिबद्धता को अपनी प्राथमिकताओं में शामिल किया है। हम हिंद-प्रशांत क्षेत्र को आर्थिक रूप से और मजबूत बनाएंगे। क्वाड ने नया आकार लिया है। इसमें भागीदारी को और मजबूत बनाने की जरूरत है। हमें इस क्षेत्र में मिसाल पेश करना चाहिए।     

May 24, 2022  |  07:44 AM (IST)
दुनिया में क्वाड का अहम स्थान-पीएम मोदी

क्वाड सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस समूह का विश्व में महत्वपूर्ण स्थान है। यह मित्रों की ताकत दिखाता है। कोरोना संकट का उल्लेख करते हुए पीएम ने कहा कि महामारी के दौरान भारत ने दुनिया के 80 से ज्यादा देशों को वैक्सीन की आपूर्ति की। क्वाड से नई ऊर्जा मिलती है और इस समूह में संभावनाएं बहुत ज्यादा हैं।  

May 24, 2022  |  07:44 AM (IST)
बाइडेन ने रूस पर बोला हमला

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने रूस-यूक्रेन युद्ध का जिक्र करते हुए कहा कि इस युद्ध में रूस ने मानवाधिकारों का उल्लंघन किया। उसने चर्च एवं कल्चरल सेंटर पर हमला किए और निर्दोष लोगों को निशाना बनाया। बाइडन ने कहा कि क्वाड के देश जलवायु संकट से मिलकर लड़ेंगे।

May 24, 2022  |  07:44 AM (IST)
सोमवार को प्रवासी भारतीयों को पीएम ने संबोधित किया

क्वाड की बैठक में हिस्सा लेने के लिए सोमवार को टोक्यो पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने वहां प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जापान से प्रभावित होकर स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कि हर भारतीय नौजवान को अपने जीवन में कम से कम एक बार जापान की यात्रा ज़रूर करनी चाहिए। मैं स्वामी जी की इस सद्भावना को आगे बढ़ाते हुए, मैं चाहूंगा कि जापान का हर युवा अपने जीवन में कम से कम एक बार भारत की यात्रा करनी चाहिए। आज की दुनिया को भगवान बुद्ध के विचारों पर, उनके बताए रास्ते पर चलने की बहुत ज़रूरत है। यही रास्ता है जो आज दुनिया की हर चुनौती, चाहे वो हिंसा हो, अराजकता हो, आतंकवाद हो, क्लाइमेट चेंज हो, इन सबसे मानवता को बचाने का यही मार्ग है