तो क्‍या किम जोंग-उन के बाद अब ईरान के राष्‍ट्रपति हसन रूहानी से मिलेंगे डोनाल्‍ड ट्रंप?

दुनिया
Updated Sep 13, 2019 | 09:58 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग-उन से मिलकर इतिहास रचने वाले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने संकेत दिए हैं कि उनकी अगली मुलाकात अब ईरान के राष्‍ट्रपति हसन रूहानी से हो सकती है।

Donald Trump
अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि ईरान का नेतृत्‍व उनसे मिलना चाहता है  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने संकेत दिए हैं कि वह ईरान के शीर्ष नेतृत्‍व से मिलने को तैयार हैं
  • राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ईरान का शीर्ष नेतृत्‍व उनसे मुलाकात करना चाहता है

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता से बीते वर्ष हुई ऐतिहासिक मुलाकात ने पूरी दुनिया को चौंका दिया था। दोनों नेताओं की पहली ऐतिहासिक मुलाकात 12 जून, 2018 को सिंगापुर में हुई थी, जिसके बाद से वह अब तक तीन बार मिल चुके हैं। यह मुलाकात ऐसे समय में हुई थी, जबकि कुछ महीने पहले तक ही दोनों नेता एक-दूसरे के खिलाफ आग उगल रहे थे।

इस मुलाकात से निश्चित तौर पर अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के रिश्‍तों पर जमी बर्फ को पिघलाने में मदद मिली थी। अब अमेरिका और ईरान में तनाव के बीच दोनों देशों के शीर्ष नेताओं की मुलाकात को लेकर उम्‍मीद जगी है और इसका आधार खुद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप का वह बयान है, जिसमें उन्‍होंने कहा कि ईरानी नेतृत्‍व उनसे मिलना चाहता है। 

अमेरिकी राष्‍ट्रपति का यह बयान ऐसे समय में आया है, जबकि अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम पर है और दोनों ओर से तीखी बयानबाजियों का दौर जारी है। ईरान से तनाव के बीच ट्रंप ने कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि ईरानी नेतृत्व उनसे मुलाकात और बातचीत करना चाहता है।

व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा, 'मैं आपको बता सकता हूं कि ईरान मुलाकात करना चाहता है।' उन्‍होंने यह भी कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र महासभा के आगामी सत्र के दौरान अपने ईरानी समकक्ष के साथ शिखर वार्ता की कोशिशों में जुटे हैं।

यहां उल्‍लेखनीय है कि ट्रंप पहले भी कई बार इसके संकेत दे चुके हैं कि वह ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से मिलने के लिए तैयार हैं। रूहानी के इसी महीने न्यूयॉर्क में होने वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में शामिल होने की संभावना है। ऐसे में ट्रंप के बयान को देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि यहां दोनों नेताओं की मुलाकात हो सकती है। हालांकि ईरान की ओर से इस संबंध में अब तक कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

अगली खबर