TTP सरगना नूर वली महसूद ग्लोबल आतंकी घोषित, पेशावर में 132 मासूमों के कत्ल का रहा है जिम्मेदार

दुनिया
Updated Sep 12, 2019 | 11:07 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के मुखिया नूर वली महसूद को अमेरिका ने वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया है। 9/11 हमले की पूर्व संध्या पर अमेरिका ने ये कदम उठाया है।

TTP Chief declared global terrorist
पाकिस्तान तालिबान मुखिया ग्लोबल आतंकी घोषित  |  तस्वीर साभार: Twitter

नई दिल्ली : पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठनों पर लगातार अमेरिका के द्वारा शिकंजा कसा जा रहा है। हाल ही में मसूद अजहर को अमेरिकी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ग्लोबल टेरेरिस्ट घोषित कर दिया था, अब एक बार फिर अमेरिका ने आतंकवाद पर पर नकेल कसने की तरफ बड़ा कदम उठाया है।

पाकिस्तान तालिबान (टीटीपी-तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान) के प्रमुख नूर वली महसूद को अमेरिकी की डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने ग्लोबर टेरेरिस्ट घोषित कर दिया है। अमेरिका पर हुए 9/11 हमले की 18वीं बरसी की पूर्व संध्या पर अमेरिकी प्रशासन ने महसूद को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया।

अफगानिस्तान में पूर्व टीटीपी मुखिया मुल्लाह फजलुल्लाह की मौत के बाद महसूद जून 2018 में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान में शामिल हुआ था। नूर वली को मुफ्ती मुफ्ती नूर वली महसूद के नाम से जाना जाता है। नूर वली के नेतृत्व में पूरे पाकिस्तान में अनगिनत खतरनाक आतंकी हमलों को अंजाम दिया गया।

आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए उपयोग किए जाने वाले सभी संसाधनों के इस्तेमाल से उसे वंचित कर दिया गया है। अमेरिका ने अमेरिका स्थित उसकी कई संपत्तियों को अमेरिकी प्रशासन ने प्रतिबंधित कर दिया है। मालूम हो कि अमेरिका ने ऐसे समय में ये कदम उठाए हैं जब इसी दिन भारत ने भी पाकिस्तान को वैश्विक आतंकवाद का केंद्र बताया।

बता दें कि टीटीपी पाकिस्तान में कई सारे खतरनाक आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार है। 2014 में पेशावर के स्कूल में 132 मासूम बच्चों की मौत का जिम्मेदार इसके अलावा 2012 में स्वात घाटी में स्कूली गर्ल मलाला युसूफजई पर भी जानलेवा हमले के लिए जिम्मेदार है। बता दें कि मलाला को बाद में उनकी बहादुरी के लिए नोबेल पुरस्कार से भी नवाजा गया था। 

अमेरिका ने टीटीपी प्रमुख फजलुल्लाह पर 5 मिलियन डॉलर का भी इनाम घोषित किया था। इससे पहले जुलाई में अमेरिका ने पाकिस्तान की अलगाववादी बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (एलबीए) को विदेशी आतंकी संगठन के तौर पर बैन कर दिया था। इस संगठन के उपर पाकिस्तान में चीनी नागरिकों के उपर हमले करने का आरोप है।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...