कोरोना वायरस : ब्रिटेन में बिगड़ी स्थिति, लंदन के अस्‍पतालों में मरीजों की भीड़ से 'सुनामी' जैसे हालात

कोरोना वायरस से यूरोप में स्थिति बिगड़ती जा रही है। लंदन के अस्‍पतालों में मरीजों की इतनी भीड़ पहुंच रही है कि मेडिकल स्‍टाफ को डर है कि आने वाले कुछ सप्‍ताह में हालात बेकाबू हो सकते हैं।

कोरोना वायरस : ब्रिटेन में बिगड़ी स्थिति, लंदन के अस्‍पतालों में मरीजों की भीड़ से 'सुनामी' जैसे हालात
कोरोना वायरस : ब्रिटेन में बिगड़ी स्थिति, लंदन के अस्‍पतालों में मरीजों की भीड़ से 'सुनामी' जैसे हालात  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस से दुनियाभर में हाहाकार मचा है, जहां इस बीमारी से 22 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है
  • सबसे अधिक यूरोप तबाह हुआ है, ज‍हां इटली और स्‍पेन में मरने वालों का आंकड़ा चीन से भी अधिक हो गया है
  • ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी में भी हालात खराब होते जा रहे हैं और अस्‍पतालों में मरीजों की संख्‍या लगतार बढ़ रही है

लंदन : कोरोना वायरस से दुनियाभर में हाहाकार मचा हुआ है। इस घातक वायरस के संक्रमण से सबसे अधिक यूरोप तबाह हुआ है, ज‍हां इटली और स्‍पेन में मरने वालों का आंकड़ा चीन से भी अधिक हो गया है। ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और अन्‍य यूरोपीय देशों में भी हालत खराब होती जा रही है। इस बीच लंदन के अस्‍पतालों में मरीजों की इतनी भीड़ पहुंचने लगी है कि आगामी कुछ सप्‍ताहों में वहां बिस्‍तर कम पड़ने की आशंका जताई जा रही है। चिकित्‍सा अधिकारियों का कहना है कि मरीजों की भीड़ के कारण वे 'सुनामी' जैसे हालात का सामना कर रहे हैं।

यूरोप में हालात बेकाबू

ब्रिटेन में कोरोना वायरस से अब तक 465 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 9,529 लोग इससे संक्रमित हैं। वहीं, इटली में सर्वाध‍िक 7,503 लोगों की जान इस घातक वायरस के कारण गई है, जबकि 74,386 लोग इससे संक्रमित हैं। यूरोप में इटली के बाद सर्वाधिक प्रभावित स्‍पेन हुआ है, जहां इस संक्रमण की वजह से 4,089 लोगों की जान चली गई है, जबकि 56,188 लोग इससे संक्रमित हैं। फ्रांस में भी इस बीमारी से 1,331 लोगों की जान गई है, जबकि 25,233 लोग इससे संक्रमित हैं। जर्मनी में 222 लोगों की इस बीमारी से जान गई है, जबकि 39,457 संक्रमित हैं।

सड़कें सूनी, गलियों में सन्‍नाटा

यूरोप में जिस तरह से हालात बिगड़ते जा रहे हैं, उससे यहां की सड़कों पर सन्‍नाटा छा गया है। इटली में पहले से ही लॉकडाउन जारी है। संकट को देखते हुए स्‍पेन ने भी आपातकाल घोषित कर दिया है। लॉकडाउन के कारण लोग अपने घरों में ही रहने को मजबूर हैं, जिसके कारण यहां सड़कें और गलियां सूनी हो गई हैं। इटली में पाबंदी इस तरह की है कि लोग 200 मीटर से ज्यादा दूर नहीं जा सकते। उन्‍हें घर में ही सरकार की ओर से राशन आदि पहुंचाया जा रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के उपचार में लगे मेडिकल स्‍टाफ का शुक्रिया अदा करने के लिए लोग रोजाना रात 8 बजे अपने घरों से बाहर निकल तालियां बजाते हैं।

घरों में कैद हुए अरबों लोग

यूरोप ही नहीं, इस वैश्किव महामारी से पूरी दुनिया जूझ रही है, जिसकी शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई। चीन में दिसंबर 2019 में ही यह मामला सामने आया था, जिसके बाद अब तक वहां 3,287 लोगों की मौत हुई है, जबकि 81,285 संक्रमित हैं। चीन में हालात अब हालांकि काबू में नजर आ रहे हैं, लेकिन दुनिया के अन्‍य हिस्‍सों में यह तेजी से फैलता जा रहा है। बीमारी के फैलने की रफ्तार कम करने के लिए भारत सहित अन्‍य देशों ने भी लॉकडाउन की घोषणा की है। इस संक्रामक महामारी से लड़ने की जद्दोजहद के बीच करीब 70 देशों की लगभग तीन अरब आबादी को घरों में ही रहने को कहा गया है। दुनियाभर में इस घातक संक्रमण से मरने वालों की संख्‍या 22,025 हो गई है, जबकि विभिन्‍न देशों में संक्रमण के 4,86,863 मामले सामने आए हैं।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...