S 400 missile system: रूस ने चीन को दिया बड़ा झटका, एस 400 मिसाइल की डिलिवरी को किया सस्पेंड

दुनिया
ललित राय
Updated Jul 28, 2020 | 08:16 IST

S- 400 missile defence system: रुस ने चीन को एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की आपूर्ति को निलंबित रखने का फैसला किया है। इसके चीन के लिए बड़ा झटका बताया जा रहा है.

S 400 missile system: रूस ने चीन को दिया बड़ा झटका, एस 400 मिसाइल की डिलिवरी को किया सस्पेंड
सर्फेस टू एयर मिसाइल डिफेंस सिस्टम है एस- 400 

मुख्य बातें

  • सतह से हवा में मार करती है एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम
  • दुश्मन के मिसाइल अटैक के खिलाफ शील्ड का काम करती है एस-400
  • भारत चीन तनाव के बीच रूस ने पीएलए को सप्लाई करने पर अस्थाई रोक

नई दिल्ली। कहते हैं कि सब दिन होत न एक समाना। इसके पीछे वजह भी है। अभी कुछ महीने पहले तक चीन दुनिया पर राज करने की फिराक में था। लेकिन एक करतूत के बाद वो बैकफुट पर है। अगर बात रूस और चीन के संबंध की करें तो दोनों देश कभी भी सीधे तौर पर एक दूसरे के सामने नहीं आए हैं। लेकिन जिस तरह से चीन अपने विस्तारवादी नीति पर आगे बढ़ रहा है उसके बाद रूस में भी गुस्सा है और उसका असर एस-400 मिसाइल डिफेंस पर दिखाई भी दे रहा है। रूस ने सरफेस टू एयर मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डिलीवरी देने से मना कर दिया है। 

चीन को झटका, एस-400 की डिलिवरी रोकी गई
चीनी अखबार सोहू का हवाला देते हुए, उवैर ने बताया कि इस बार, रूस ने चीनी एस -400 प्रणाली के लिए मिसाइलों के वितरण को स्थगित करने की घोषणा की। एक निश्चित सीमा तक यही कहा जा सकता है कि यह चीन के लिए अच्छा संकेत नहीं है।  हथियार प्राप्त करने के बाद चालान पर हस्ताक्षर करना उतना आसान नहीं है। इन हथियारों को पहुंचाने का काम काफी जटिल है। जबकि चीन को प्रशिक्षण के लिए कर्मियों को भेजना पड़ता है, रूस को हथियारों को सेवा में लगाने के लिए बहुत सारे तकनीकी कर्मियों को भी भेजना पड़ता है। 

चीन का आरोप, दबाव के तहत फैसला
रूस की घोषणा के बाद, चीन ने कथित तौर पर कहा है कि मास्को को इस तरह का निर्णय लेने के लिए मजबूर किया गया था क्योंकि यह चिंतित है कि इस समय एस -400 मिसाइलों का वितरण पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की महामारी विरोधी गतिविधियों को प्रभावित करेगा और वह नहीं चाहता है परेशान करने के लिए 2018 में, चीन को S-400 मिसाइल का पहला बैच मिला।

दुनिया के बेहतर मिसाइल शील्ड डिफेंस सिस्टम में से एक
एस -400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली को रूस में अपनी तरह का सबसे उन्नत माना जाता है, जो 400 किलोमीटर की दूरी तक लक्ष्य को नष्ट करने में सक्षम है और 30 किलोमीटर तक की ऊंचाई है।रूस द्वारा चीन को एस -400 मिसाइलों को निलंबित करने के बाद मास्को में पहले भी जासूसी का आरोप लगा था, इसके बावजूद दोनों देशों ने वर्षों में काफी अच्छे संबंधों का आनंद लिया था। TASS ने बताया कि रूसी अधिकारियों ने अपने सेंट पीटर्सबर्ग आर्कटिक सोशल साइंसेज एकेडमी के अध्यक्ष वालेरी मिट्को को 'चीनी खुफिया में वर्गीकृत सामग्री' सौंपने का दोषी पाया है।

अगली खबर