इराक के ताजी बेस पर रॉकेट से हमला, अमेरिकी सैनिक थे मौजूद: स्थानीय मीडिया

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम पर है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक इराक के ताजी बेस को रॉकेट के जरिए निशाना बनाया गया है,जहां अमरिकी सैनिकों के होने की खबर थी।

इराक के ताजी बेस पर रॉकेट से हमला, अमेरिकी सैनिक थे मौजूद
अमेरिका और ईरान में चरम पर तनाव  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • स्थानीय मीडिया के मुताबिक इराक के ताजी बेस पर रॉकेट से हमला
  • ताजी बेस पर अमेरिकी सैनिक थे मौजूद, किसी के हताहत होने की खबर नहीं
  • कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान में तनाव चरम पर

नई दिल्ली: अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम पर है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक इराक के ताजी बेस को रॉकेट के जरिए निशाना बनाया गया है,जहां अमरिकी सैनिकों के होने की खबर थी। इस हमले में किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है और ना ही इसके बारे में अमेरिका, ईरान या इराक की तरफ से किसी तरह का बयान आया है। ईरान के टॉप कमांडक कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम पर है और इराकी जमीन अखाड़ा बनी हुई है। 
कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद ईरान ने साफ कर दिया था कि अमेरिका की तरफ से युद्ध का आगाज हो चुका है और वो उसे अंजाम तक पहुंचाएगा। जिस दिन सुलेमानी के जनाजे को सुपर्दे खाक किया गया उसके ठीक एक दिन बाद बगदाद में अमेरिका के दो बड़े सैन्य ठिकानों पर कत्यूषा मिसाइलों से हमला किया गया था हाालंकि अमेरिका ने किसी बड़े नुकसान से इंकार किया था।


इरान की इस कार्रवाई के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वो जब तक राष्ट्रपति रहेंगे ईरान अपने आपको परमाणु संपन्न शक्ति बनने का सपना छोड़ दे। ईरान के खिलाफ अमेरिकी सरकार की तरफ से पुरजोर कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ईरान की जनता हमारी दुश्मन नहीं है। लेकिन जिस तरह से वहां की सरकार जनता को मोहरा बना कर हमें ब्लैकमेल करने का काम कर रही है उसे किसी भी सूरत में स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर