तनाव के बीच नेपाल के PM ओली ने प्रधानमंत्री मोदी को किया फोन, कोरोना पर हुई चर्चा

भारत के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया और उन्हें बधाई दी। दोनों नेताओं ने कोविड 19 की स्थिति को लेकर बातचीत की।

oli modi
भारत और नेपाल के प्रधानमंत्रियों के बीच बातचीत  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने की पीएम मोदी से फोन पर बात
  • दोनों नेताओं के बीच कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर चर्चा हुई
  • पिछले कुछ महीनों से दोनों देशों के बीच तनाव देखा गया है

नई दिल्ली: भारत और नेपाल के बीच हाल के दिनों में तनाव देखने कोमिला है। लेकिन इसी बीच नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया है। भारत के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नेपाल के पीएम द्वारा ये फोन किया गया है। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी को बधाई दी और दोनों नेताओं ने कोविड 19 की स्थिति पर चर्चा की।

विदेश मंत्रालय ने इस पर बयान जारी करते हुए कहा, 'पीएम मोदी को आज नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली का टेलीफोन कॉल आया। पीएम ओली ने 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारत की सरकार और भारत के लोगों को बधाई दी और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में भारत के हालिया चुनाव के लिए बधाई भी दी।' 

बयान में कहा गया, 'दोनों नेताओं ने दोनों देशों में कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए किए जा रहे प्रयासों के संदर्भ में आपसी एकजुटता व्यक्त की। पीएम मोदी ने इस संबंध में नेपाल को भारत के निरंतर समर्थन की पेशकश की।' इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेपाल के प्रधानमंत्री को टेलीफोन कॉल के लिए धन्यवाद दिया और भारत और नेपाल की सभ्यता और सांस्कृतिक संबंधों को याद किया।

इससे पहले ओली ने ट्वीट किया, 'प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को भारत के लोगों और सरकार को 74वें स्वतंत्रता दिवस के मुबारक अवसर पर बधाई और शुभकामनाएं। भारत के लोगों की अधिक प्रगति और समृद्धि के लिए शुभकामनाएं।' 

हाल ही में नेपाल सरकार द्वारा भारतीय क्षेत्र के कुछ हिस्सों को शामिल कर एक नया नक्शा जारी किया गया है, जिसके बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव पैदा हो गया है। नेपाल सरकार ने मई में कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा के भारतीय क्षेत्रों को शामिल करते हुए देश का नया नक्शा जारी किया था। हालांकि भारत ने नेपाल के इस दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया था और कहा था कि भारत ने कहा था कि ये मानचित्र ऐतिहासिक तथ्यों और साक्ष्यों पर आधारित नहीं है। नेपाल के दावों को भारत ने कृत्रिम बताया था।


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर