Covid-19: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री भी नहीं बचे कोरोना से, बोरिस जॉन्सन का कोरोनवायरस टेस्ट आया पॉजिटिव

दुनिया
रवि वैश्य
Updated Mar 27, 2020 | 18:27 IST

 कोरोना की मार से ब्रिटेन जूझ रहा है वहीं अब ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्सन का कोरोनवायरस टेस्ट भी पॉजिटिव आया है वो आइसोलेशन में हैं।

corona
बोरिस जॉनसन (फाइल फोटो) 

यूनाइटेड किंगडम के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन को शुक्रवार का नोवेल कोरोनावायरस या COVID-19 के टेस्ट पॉजिटिव आया है।अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर, ब्रिटिश पीएम ने पुष्टि की कि पिछले 24 घंटों में लक्षणों के प्रदर्शन के बाद कोरोनोवायरस के लिए पॉजिटिव टेस्ट किया गया है।

यह कहने से पहले कि उसने खुद को अलग-थलग कर लिया है, जॉनसन ने दावा किया कि वह वीडियो-सम्मेलन के माध्यम से सरकार की प्रतिक्रिया का नेतृत्व करना जारी रखेंगे।

अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने कहा, "मैंने कोरोनोवायरस के हल्के लक्षण महसूस किए हैं, यह एक तापमान और लगातार खांसी है।

बोरिस जानसन इस वक्त डाउनिंग स्ट्रीट में सेल्फ-आइसोलेशन में हैं. इंग्लैंड के चीफ मेडिकल ऑफिसर प्रफेसर क्रिस विटी की सलाह पर उनका टेस्ट कराया गया था।

ब्रिटिश सरकार ने अभी तक यह घोषणा नहीं की है कि डाउनिंग स्ट्रीट के कितने कर्मचारियों और वरिष्ठ मंत्रियों को अब खुद को अलग करने की आवश्यकता होगी, क्योंकि उनमें से कई लोगों का हाल के दिनों में जॉनसन के साथ संपर्क था।

वहीं बकिंघम पैलेस का कहना है कि रानी ने आखिरी बार 11 मार्च 2020 को प्रधान मंत्री को देखा था और वो सभी उचित सलाह का पालन कर रही है 'उनका स्वास्थ्य अच्छा है।'

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बोरिस जानसन के स्वास्थ्य को लेकर ट्वीट किया है।

ब्रिटेन ने कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए लॉकडाउन  लागू किया है। बंदी के तीसरे दिन लोगों पर इसका असर दिख रहा है और वे घरों में रह रहे हैं।

ब्रिटेन में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या करीब 9,500 पहुंच गई है जबकि 465 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। लोगों का मानना है कि सामाजिक मेल मिलाप में दूरी के सख्त नियमों का अनुपालन कराते हुए बीमारी और निराशा से लड़ने का जज्बा बनाए रखना है।

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के नेतृत्व में शुरू ‘‘विशेष धन्यवाद’’ प्रकट करने के अभियान के प्रति संतोषजनक प्रतिक्रिया देखने को मिली है। राज्य द्वारा वित्तपोषित राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना (एनएचएस) की सहायता के लिए सरकार की ओर से अपील करने के 24 घंटे के भीतर पांच लाख स्वयंसेवकों ने अपना नाम पंजीकरण कराया है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर