​इस राजा के 365 रानियां और 50 से ज्यादा बच्चे, इस तरह करते थे रात बिताने का चुनाव

May 24, 2022
By: Kaushlendra Pathak

काफी दिलचस्प है राजा की कहानी

इतिहास के गर्भ में आपको कई कहानियां पढ़ने को मिलती हैं। खासकर, राजा-महाराजाओं के तो कई किस्से आपको मिल जाएंगे। पटियाला के महाराजा भूपिंदर सिंह की कहानी भी काफी दिलचस्प है।

Credit: Social-Media

9 साल की उम्र में राजगद्दी पर बैठे थे भूपिंदर सिंह

12 अक्टूबर 1891 को महाराजा भूपिंदर सिंह का जन्म हुआ था और 9 साल की उम्र में वो राजगद्दी पर बैठ गये थे। हालांकि, राज्य का कार्यभार उन्होंने 18 साल की उम्र में संभाला था। महाराजा भूपिंदर सिंह ने 38 साल तक राज किया

Credit: Social-Media

राजा के 365 रानियां

महाराजा भूपिंदर सिंह की एक-दो नहीं, बल्कि 365 रानियां थीं। इन 10 रानियों में से उनके 83 बच्चे हुए थे। लेकिन, उनमें से केवल 53 बच्चे ही जिंदा रह पाए।

Credit: Social-Media

रानियों के लिए काफी सुख-सुविधाएं

सभी रानियों के लिए हमेशा चिकित्सा सुविधा मौजूद रहती थी।

Credit: Social-Media

bhupendra_2

महाराजा भूपिंदर की 365 रानियां थीं। इसलिए, उनके महल में हर दिन 365 लालटेन जलाई जाती थीं।

Credit: Social-Media

ऐसे तय करते थे राज गुजारने का समय

इन सभी लालटेनों पर रानियों के नाम लिखे होते थे। जो लानटेन सबसे पहले बंद होती। राजा उसी रानी के साथ रातभर समय गुजारते।

Credit: Social-Media

रंगीन मिजाज के थे राजा

महाराजा को रंगीन मिजाज का भी बताया जाता है। इसी शौक के लिए उन्होंने पटियाला में लीला भवन बनवाया था।

Credit: Social-Media

महंगी चीजों का शौक

महाराजा को पार्टी करने के साथ-साथ हीरे-जेवरात और महंगी कारों का काफी शौक था।

Credit: Social-Media

राजा के पास खुद का विमान

राजा पास इतना पैसा था कि उन्होंने खुद का विमान भी खरीद लिया था। खुद का विमान लेने वाले वे पहले भारतीय बन गये थे।

Credit: Social-Media

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

अगली स्टोरी: इसे कहते हैं परफेक्ट टाइमिंग, नसीब से देखने को मिलते हैं ऐसे बेहतरीन नजारे