देश का सबसे रहस्यमयी शिव मंदिर, जिसकी गुफा में छिपा है दुनिया के अंत का राज!

Jul 21, 2022
By: Aditya Sahu

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर

हमारे देश में कई ऐसे रहस्यमयी मंदिर और गुफाएं हैं, जिनका रहस्य आज तक वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए हैं। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में एक मंदिर है। माना जाता है कि इस मंदिर की गुफा में दुनिया के खत्म होने का राज छिपा है।

Credit: social-media

भगवान शिव का रहस्यमयी गुफा मंदिर

पिथौरागढ़ में स्थित इस रहस्यमयी गुफा मंदिर का नाम पाताल भुवनेश्वर है। हिंदू धर्म के पुराणों में भी इस गुफा के बारे में लिखा गया है।

Credit: social-media

गुफा के गर्भ में छिपा मंदिर के खात्मे का रहस्य!

मान्यता है कि इस मंदिर के गुफा के गर्भ में दुनिया के खत्म होने का राज छिपा हुआ है। इस मंदिर में आने के लिए गुफा से होकर गुजरना पड़ता है। मंदिर तक पहुंचने के लिए गुफा से ही एक बेहद पतला रास्ता है।

Credit: social-media

नागों के राजा की कलाकृति

गुफा में आपको नागों के राजा अधिशेष की कलाकृति देखने को मिलेगी। मान्यता है कि नागों के राजा अधिशेष ने ही दुनिया का भार अपने सिर पर संभाला हुआ है।

Credit: social-media

समुद्र तल से 90 फीट की गहराई

यह मंदिर समुद्र तल से 90 फीट की गहराई पर स्थित है। गुफा में प्रवेश करने के बाद जब आप मंदिर की ओर जाएंगे तो यहां की चट्टानों की कलाकृति हाथी की तरह दिखाई देगी।

Credit: social-media

मंदिर में चार दरवाजे

पुराणों के अनुसार, मंदिर में चार दरवाजे हैं। एक रणद्वार, दूसरा पापद्वार, तीसरा धर्मद्वार और चौथा मोक्षद्वार। मान्यता है कि जब रावण की मृत्यु हुई थी तो पापद्वार बंद हो गया था। वहीं महाभारत की लड़ाई के बाद रणद्वार को भी बंद कर दिया गया था।

Credit: social-media

भगवान शिव करते हैं निवास

स्कंदपुराण के अनुसार, पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर में भगवान शिव निवास करते हैं। माना जाता है कि सभी देवी-देवता भगवान शिव की पूजा करने यहां आते हैं।

Credit: social-media

सूर्य वंश के राजा ने की थी मंदिर की खोज

पुराणों के अनुसार, पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की खोज सूर्य वंश के राजा ऋतुपर्णा ने की थी। त्रेता युग में ऋतुपर्णा का अयोध्या पर शासन था। नागों के राजा अधिशेष से ऋतुपर्णा की इसी स्थान पर मुलाकात हुई थी। अधिशेष ही इस गुफा के अंदर राजा ऋतुपर्णा को लेकर गए थे। यहां पर उनको भगवान शिव और अन्य देवी-देवताओं के दर्शन हुए थे।

Credit: social-media

पांडव करने आते थे भगवान शिव की पूजा

बाद में पांडवों ने द्वापर युग में इस रहस्यमयी गुफा की खोज की थी। वह इस गुफा में भगवान शिव की पूजा करने आते थे।

Credit: social-media

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

अगली स्टोरी: इस पाकिस्तानी शख्स के कारण Air India के 'महाराजा' की मूछें है ऐसी, दिलचस्प है कहानी

ऐसी और स्टोरीज देखें