देश का अनोखा मंदिर, जो मानसून को लेकर करता है सटीक भविष्यवाणी

May 25, 2022
By: Kaushlendra Pathak

अनोखा मंदिर

मई , जून का महीना आते ही सबके मन में एक ही सवाल उठने लगता है कि मानसून कब आएगा और उसकी स्थिति क्या होगी? इसके लिए लोग मौसम विभाग पर निर्भर रहते हैं। लेकिन, इस देश में एक मंदिर ऐसा है, जो पहले ही बता देता है कि मानसून कब आएगा। इतना ही लोग इस पर आंख मूंद कर भरोसा करते हैं।

Credit: Social-Media

जगन्नाथ जी के नाम से जाना जाता है मंदिर

यह अनोखा मंदिर उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के घाटमपुर तहसील में बहेटा बुजुर्ग गांव में मौजूद है। लोग इस मंदिर को जगन्नाथ मंदिर के नाम से जानते हैं।

Credit: Social-Media

मंदिर में तीनों की मूर्तियां

इस मंदिर की संरचना एक गुंबंद वाले मंदिर के रूप में की गई है। मंदिर के गर्भगृह में भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा की मूर्तियां मौजूद हैं।

Credit: Social-Media

मानसून आने से पहले पानी गिरने लगता है।

जगन्नाथ जी की मूर्ती के ऊपर एक लाल पत्थर जड़ा है जिससे मानसून आने से पहले पानी रिसने लगता है। लोगों का कहना है कि पूरे साल इस पत्थर से पानी नहीं टपकता, लेकिन जैसे ही मानसून आने वाला होता है तो ये उसके आने के संकेत पानी की बूंदों के रूप में देने लगता है।

Credit: Social-Media

आज तक नहीं सुलझ सका रहस्य

लोगों का कहना है कि मानसून से 7-15 दिन पहले इससे पानी रिसने लगता है। पानी कहां से आता है और इसका क्या रहस्य है आज तक कोई नहीं सुलझा पाया।

Credit: Social-Media

मंदिर बताता है बारिश कितनी होगी

मंदिर के पुजारियों और स्थानीय लोगों का मानना है कि अगर पत्थर से कम पानी गिरता है, तो मानसून खराब रहता है। वहीं, अगर पानी अधिक गिरता है तो मानसून बहुत अच्छा होता है।

Credit: Social-Media

मंदिर की भविष्यवाणी आज तक गलत नहीं हुई

लोगों का कहना है कि आज तक इस मंदिर की भविष्यवाणी गलत साबित नहीं हुई है।

Credit: Social-Media

हजारों साल पहले हुआ था मंदिर का निर्माण

इस अनोखे मंदिर का निर्माण किसने करवाया इसकी जानकारी उपलब्ध नहीं है। लेकिन, ग्रामीणों का मानना है कि हजारों साल पहले इस मंदिर को महर्षि दधीचि ने बनवाया था।

Credit: Social-Media

मंदिर को लेकर सटीक जानकारी नहीं

मंदिर में आखिरी बार 11वीं शताब्दी में जीर्णोद्धार कराए जाने के साक्ष्य मिलते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि इसका निर्माण देवी-देवताओं ने किया है। लेकिन, मंदिर को लेकर सटीक जानकारी कहीं नहीं है।

Credit: Social-Media

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

अगली स्टोरी: भारत ही नहीं पाकिस्तान में भी है लाल किला, 87 साल में बनकर हुआ था तैयार