भारत में चाय का स्‍वर्ग - दार्जिलिंग

By: Medha Chawla
Oct 23, 2020

पॉपुलर टूर‍िस्‍ट प्‍लेस

वेस्‍ट बंगाल का दार्जिलिंग एक पॉपुलर टूर‍िस्‍ट स्‍पॉट है जहां नेचर और एडवेंचर लवर्स, दोनों ही जाना पसंद करते हैं।

Credit: Istock

टाइगर हिल

दार्जिलिंग से 11 किमी दूर है टाइगर हिल, जहां आप पैदल या फिर जीप के जरिए ही पहुंच सकते हैं। यह 2,590 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

Credit: Istock

बतासिया लूप

टॉय ट्रेन की सैर के दौरान आपको यह खूबसूरत नजारा द‍िखेगा। यहां से गुजरते वक्त ट्रेन पूरे 360 डिग्री घूम जाती है।

Credit: Istock

सक्या मठ

यह सक्या सम्‍प्रदाय का ऐतिहासिक और महत्‍वपूर्ण मठ है। इसकी स्‍थापना 1915 में हुई थी। यह दार्जिलिंग से 8 क‍िमी की दूरी पर है।

Credit: Istock

रॉक गार्डन

चट्टानों और पहाड़ों को काटकर रॉक गार्डन को बनाया गया है। यहां कलाकृत‍ियों के अलावा ड‍िजाइन और हर‍ियाली भी लुभाती है।

Credit: Istock

विक्टोरिया वॉटरफॉल

ये वॉटरफॉल आपको अलग ही दुनिया में लेकर जाते हैं। सैलानी यहां आना बेहद पसंद करते हैं और खासा वक्‍त ब‍िताते हैं।

Credit: Istock

घूम रॉक

घूम रॉक दार्जिलिंग का एक पर्यटक व्यू पॉइन्ट है और बहुत ही सुन्दर घाटी भी है। यहां से सूर्योदय का नजारा बेहद दिलकश और सुन्दर लगता है।

Credit: Istock

हैपी वैली टी एस्‍टेट

दार्जिलिंग का ये चाय बागान दुनिया का दूसरा सबसे पुराना चाय का बागान है। इसकी स्थापना सन 1854 में की गई थी।

Credit: Istock

रोपवे

रोपवे को 2012 में पर्यटकों के ल‍िए दोबारा खोला गया था। इसमें सफर करते हुए आप झरने, पहाड़, चाय के बागान इन सब का आनंद उठा सकते हैं।

Credit: Istock

जापानी मंदिर

यह भारत के 6 शांति स्‍तूपों में से एक है। इसकी स्‍थापना महात्‍मा गांधी के मित्र फूजी गुरु ने की थी। इसे 1992 में आम लोगों के ल‍िए खोला गया था।

Credit: Istock

दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे

UNESCO की तरफ से इसे सन 1919 में विश्व धरोहर स्थल घोषित कर दिया गया था। इसे टॉय ट्रेन के नाम से भी जाना जाता है ज‍िसका न‍िर्माण 1881 के करीब हुआ था।

Credit: Istock

Discover these and more on www.timesnowhindi.com