By: Parmeeta Sharma

जोधपुर: ब्लू सिटी जाएं तो ये 10 जगह जरूर घूमें

Jun 13, 2020

मंडोर गार्डन

जोधपुर जाएं तो मंडोर गार्डन घूमने जरूर जाएं। यहां कई ऐसे स्मारक हैं जो हिंदू मंदिरों की तरह बनाए गए हैं जो इसकी खूबसूरती को और बढ़ाते हैं। ये शहर घूमने का अच्छा समय सर्दियों का है इसलिए यहां अक्टूबर से मार्च के बीच जाएं।

Credit: Shutterstock

उम्मैद भवन पैलेस

साल 1943 में बना उम्मेद भवन पैलेस जोधपुर की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है। यह जोधपुर के राजा गज सिंह का घर तो है ही साथ ही ये हेरिटेज होटल और म्यूजियम भी है।

Credit: Shutterstock

मेहरानगढ़ किला

मेहरानगढ़ किला का निर्माण राव जोधा ने साल 1459 में किया था, जो कि देश के सबसे बड़े किलों में से एक है। जोधपुर जाएं तो मेहरानगढ़ किले जाना ना भूलें।

Credit: iStock

मेहरानगढ़ की खास‍ियत

सात दरवाजे वाला यह किला दिल्ली के कुतुब मीनार से भी ऊंचा है। किले की चोटी से पाकिस्तान की सीमा दिखती है।

Credit: YouTube

जसवंत थड़ा

जसवंत थड़ा जोधपुर की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है। इसे साल 1899 में महाराज सरदार सिंह ने अपने पिता महाराज जसवंत सिंह II की याद में बनवाया था।

Credit: iStock

घंटा घर

जोधपुर का घंटा घर यानी क्लॉक टावर जोधपुर की सबसे मशहूर जगहों में से एक है जिसका निर्माण करीब 200 साल पहले महाराजा सरदार सिंह ने किया था। यहीं शहर का सबसे मशहूर बाजार भी है।

Credit: iStock

फ्लाईंग फॉक्स जोधपुर

फ्लाईंग फॉक्स जिपलाइन जोधपुर के सबसे यादगार एक्सपीरियंस में से एक साबित हो सकता है। यह 6 जिप लाइंस का सेटअप है जिसमें दीवारों, किलों और झीलों का सफर करवाया जाता है।

Credit: Shutterstock

तूरजी का झालरा

तूरजी का झालरा, जिसे स्टेपवॉल ऑफ जोधपुर भी कहा जाता है। यह जोधपुर की उन संरचनाओं में से एक है जो इस शहर की जल प्रबंधन प्रणालियों को दर्शाती है।

Credit: iStock

कायलाना झील

कायलाना झील काफी खूबसूरत है इसकी खासियत यह है कि यह मानव निर्मित है जो 84 स्क्वायर किलोमीटर में फैली है। इसका निर्माण साल 1872 में किया गया था।

Credit: iStock

बालसमंद झील

अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर बालसमंद झील एक हैरिटेज होटल भी है, जिसका निर्माण 12वीं शताब्दी में हुआ था। जोधपुर जाएं तो यहां जाना ना भूलें।

Credit: iStock

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क का निर्माण मेहरानगढ़ किले के पीछे चट्टानी बंजर भूमि में साल 2006 में किया था। हालांकि लोगों के लिए यह साल 2011 में खोला गया।

Credit: iStock