बड़ा मुक्‍केबाज - विजेंदर सिंह

Jan 6, 2021

By: Kuldeep Raghav

नंबर-1 मुक्‍केबाज

अंतरराष्‍ट्रीय मुक्‍केबाजी एसोसिएशन ने 2009 में विजेंद्र को नंबर-1 रैंक दिया। उन्‍होंने 75 किग्रा मिडिलवेट वर्ग में रहकर पहला स्‍थान हासिल किया।

Credit: Instagram

झेली मुश्‍क‍िलें

विजेंदर सिंह ने परिवार को सहारा देने के ल‍िए बॉक्‍स‍िंग शुरू की थी। उनके पापा हर‍ियाणा रोडवेज में ड्राइवर थे और खर्च के ल‍िए ओवरटाइम करते थे।

Credit: Zoom

बीजिंग ओलिंपिक

विजेंदर साल 2008 के बीजिंग ओलिंपिक में ब्रोन्ज मेडल जीतकर फेमस हुए थे। वहीं अब वे प्रोफेशनल बॉक्सिंग में लगातार मैच जीत रहे हैं।

Credit: Twitter

एशियन गेम्‍स में स्‍वर्ण

दो साल के बाद विजेंदर ने एशियन गेम्‍स में स्‍वर्ण पदक जीता। उन्‍होंने दो बार के विश्‍व चैंपियन उज्‍बेकिस्‍तान के अब्‍बोस एटोव को फाइनल मुकाबले में 7-0 से एकतरफा हराया।

Credit: Instagram

राजीव गांधी खेल रत्‍न

विजेंदर सिंह भारतीय खेलों के सर्वश्रेष्‍ठ पुरस्‍कार राजीव गांधी खेल रत्‍न से सम्‍मानित हो चुके हैं।

Credit: Instagram

ड्रग्‍स लेने का आरोप

2013 में विजेंदर के करियर में सबसे बड़ा मोड़ आया। पंजाब पुलिस ने उन पर एनआरआई से कई बार ड्रग्‍स खरीदने का आरोप लगाया। हालांकि उन पर मामला साबित नहीं हुआ।

Credit: BCCL

मुक्‍केबाज नहीं तो सोल्‍जर होते

विजेंदर ने कहा था कि वह मुक्‍केबाज ना बनते तो अपने बड़े भाई की तरह आर्मी में जाते।

Credit: Instagram

सीरियल्‍स में आ चुके हैं नजर

2008 में एक कार्यक्रम में विजेंदर बॉलीवुड अदाकारा बिपाशा के साथ थिरक चुके हैं। इसके अलावा दस का दम में नजर आ चुके हैं।

Credit: Twitter

बॉलीवुड डेब्‍यू

विजेंदर ने बॉलीवुड में फिल्‍म फगली से पदार्पण‍ किया था। विजेंदर ने एक इंटरव्‍यू में बताया था कि अक्षय कुमार उनके अच्‍छे दोस्‍त हैं। वह हमेशा ही उन्हें प्रोत्‍साहित करते रहते हैं।

Credit: Instagram

हरियाणा पुलिस में डीएसपी

विजेंदर डीएसपी हैं। एक इंटरव्यू में विजेंदर ने बताया था की उन्होंने बॉक्सिंग की शुरुआत सरकारी नौकरी पाने के लिए ही की थी।

Credit: Twitter