Jul 11, 2022

​भूलकर भी सावन में ना करें यह काम, जान लें यह नियम

Bhagya Yadav

कब से शुरू हो रहा है सावन?

वर्ष 2022 में सावन 14 जुलाई 2022 से प्रारंभ होकर 12 अगस्त 2022 को समाप्त हो जाएगा।

Credit: iStock

​सावन का महत्व

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार, सावन का महीना अत्यंत कल्याणकारी माना गया है। सावन के पवित्र महीने में भोले की आराधना करने से भक्तों की सभी इच्छाएं पूर्ण होती हैं। इस पावन‌ मास में भक्तों को कुछ नियमों का पालन अवश्य करना चाहिए।

Credit: iStock

​मांस-मछली के सेवन से करें परहेज

सावन के महीने में भक्तों को मांस-मछली के सेवन से परहेज करना चाहिए। इस महीने में भक्तों का भोजन सात्विक होना चाहिए।

Credit: iStock

​इस सब्जी का ना करें सेवन

माना जाता है कि सावन में बैंगन खाने से भी परहेज करना चाहिए। बैंगन को अशुद्ध सब्जी माना गया है इसीलिए कई लोग द्वादशी और चतुर्दशी को इसका सेवन नहीं करते हैं।

Credit: iStock

​ना पिएं दूध

मान्यताओं के अनुसार, सावन के महीने में दूध नहीं पीना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि श्रावण मास में भगवान शिव और शिवलिंग का अभिषेक दूध से किया जाता है।

Credit: iStock

​शिवलिंग को ना करें यह अर्पित

श्रावण मास में भगवान शिव को धतूरा, बेलपत्र, भांग आदि अर्पित किया जाता है लेकिन इस महीने में शिवलिंग को हल्दी अर्पित नहीं करना चाहिए।

Credit: iStock

इस चीज से बचें

इस पवित्र माह में दूसरों का अपमान ना करें। इसके साथ सावन मास में मन में बुरे विचार ना लाएं।

Credit: iStock

​ना करें यह चीज

अगर आपके घर के पास कोई गाय या बैल आए तो उसे मारने की जगह उसे कुछ खाने को दें। माना जाता है कि, गाय या बैल को मारना भगवान शिव की सवारी नंदी का अपमान करने के बराबर है।

Credit: iStock

​शरीर पर ना लगाएं तेल

भगवान शिव की आराधना के महीने में लोगों को अपने शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए। इसके साथ कांस के बर्तनों में भोजन करना चाहिए।

Credit: iStock

​ना चढ़ाएं यह चीज

भगवान शिव या शिवलिंग को इस महीने में कैतकी ना चढ़ाएं। इसके साथ इस‌ महीने में दिन के वक्त सोने से बचें।

Credit: iStock

Thanks For Reading!

Next: बाहुड़ा रथ यात्रा शुरू, भगवान जगन्नाथ लौट रहे वापस