​कुंडली में पितृ दोष क्यों माना गया है अशुभ, जानें यहां

May 12, 2022

By: Bhagya Yadav

​पितृ दोष माना गया है अशुभ

कुंडली में नव ग्रहों की दशा कभी-कभी दोष उत्पन्न करती है। इन्हीं दोषों में से एक पितृ दोष है जिसका कुंडली में होना अशुभ माना गया है।

Credit: iStock

​क्या है पितृ दोष?

कई ज्योतिष आचार्यों के अनुसार, अगर किसी मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार ना किया गया हो या किसी भी व्यक्ति की अकाल मृत्यु हो जाए तो उस व्यक्ति के परिवार वालों को कई पीढ़ियों तक पितृ दोष का दंश झेलना पड़ता है।

Credit: iStock

​ऐसे भी लगता है पितृ दोष

कहा जाता है कि पूर्वजों द्वारा किए गए अशुभ कार्य का दुष्प्रभाव आने वाली पीढ़ी को भुगतना पड़ता है। पितरों द्वारा किए गए कर्मों को अगर कोई व्यक्ति नहीं करता है या फिर अपने पितरों को कोसता रहता है तो पितर नाराज होकर श्राप देते हैं।

Credit: iStock

​इन कर्मों की वजह से भी लगता है पितृ दोष

अगर कोई व्यक्ति पीपल, नीम या बरगद के पेड़ को कटवा देता है या फिर नाग की हत्या करता है तो उसे पितृ दोष लग सकता है।

Credit: iStock

​पितृ दोष के लक्षण

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में पितृ दोष है तो उसे संतान सुख की प्राप्ति नहीं होती है। अगर ऐसे व्यक्ति की संतान है तो वह विकलांग, मंदबुद्धि या चरित्रहीन निकलती है।

Credit: iStock

​नौकरी में होती है हानि

अगर नौकरी या व्यवसाय में जी तोड़ मेहनत करने के बावजूद भी हानि हो रही है तो इसे पितृ दोष का लक्षण माना गया है।

Credit: iStock

​परिवार में कलेश

अगर किसी व्यक्ति के परिवार में हमेशा झगड़ा होता रहता है या फिर कोई व्यक्ति हमेशा बीमार रहता है तो यह भी पितृ‌ दोष का लक्षण हो सकता है।‌

Credit: iStock

​पितृ दोष से बचने के उपाय

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में पितृ दोष है तो उसे दक्षिण दिशा में पितरों की फोटो लगाकर रोजाना माला चढ़ाना चाहिए।

Credit: iStock

​ब्राह्मणों को कराएं भोजन

पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए ब्राह्मणों को श्रद्धा पूर्वक भोजन करवाना चाहिए और दान देना चाहिए।

Credit: iStock

​दक्षिण दिशा में जलाएं दीपक

पितृ दोष के निवारण के लिए दक्षिण दिशा में रोजाना शाम को दीपक जलाएं। अगर रोजाना नहीं जला सकते तो पितृ पक्ष में जरूर जलाएं।

Credit: iStock

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

Next: कब लगेगा वर्ष 2022 का पहला चंद्र ग्रहण?