जूस बनाते वक्त न करें ये गलत‍ियां

Jun 30, 2020
By: Shivam Pandey

स्वस्थ लाइफस्टाइल का अहम हिस्सा

जूस स्वस्थ लाइफस्टाइल का एक अहम हिस्सा है। अगर आप भी हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाना चाहते हैं तो आज ही जूस को अपनी डाइट का हिस्सा बना लें। ताजे फलों का जूस शरीर में औषधि का भी काम करता है।

Credit: istock

जूसर को जरूर करें साफ

जूस बनाने के लिए सबसे अहम चीज होती है जूसर। जूस बनाने से पहले अपने जूसर को जरूर साफ करें। जूसर में कई बैक्टिरियां जमा होता है। इससे आपके शरीर को बीमारी पकड़ सकती है।

Credit: istock

ताजा फलों के जूस

जूस यदि आपके दिनचर्या का हिस्सा है तो ध्यान रखें कि हमेशा ताजा फलों के जूस का ही सेवन करें। बासी जूस नुकसानदायक होता है। बासी जूस में पोषण भी खत्म हो जाते हैं।

Credit: istock

अगर होती है एस‍िड‍िटी

कई लोगों को जूस पीने के बाद एस‍िड‍िटी महसूस होती है। ऐसे में जूस में थोड़ा पानी म‍िलाया जा सकता है।

Credit: Zoom

डाइटिशियन से जरूर संपर्क करें

जूस पीने से पहले डाइटिशियन से जरूर संपर्क करें। डायटिशियन की सलाह के बाद ही सब्जी और फल का तालमेल करें।

Credit: istock

सबसे जरूरी फाइबर

फलों में सबसे जरूरी चीज होती है फाइबर। ऐसे में फलों का जूस बनाते समय उसे फिल्टर न करें।

Credit: istock

गुठली को जरूर निकाल दें

जब आप सेब, प्लम या चैरी जैसे फलों का जूस बना रहे हैं तो उसकी गुठली को जरूर निकाल दें। इसके अलावा गूदे से ही जूस बनाएं।

Credit: istock

न करें जल्दबाजी

जूस को पीने में जल्दबाजी न करें। इसे हल्के-हल्के पिएं। जूस मुंह की लार के साथ मिलकर आपके पाचन तंत्र को मजबूत करता है।

Credit: istock

सब्जियों का जूस

आप यदि सब्जियों का जूस पी रहे हैं तो ध्यान रखें कि सब्जियां कच्ची न हो। कच्ची सब्जियों को पचाने में काफी मुश्किल आती है।

Credit: istock

​​गन्ने का जूस

गन्ने का जूस पीते वक्त इस बात का खास ध्यान रहे कि उसमें फफूंदी ने ली हो। इससे हेपेटाइटिस ए, डायरिया और पेट की बीमारियां होती है।

Credit: istock

पुदीने का करें इस्तेमाल

पुदीने की पत्तियों में विटामिन ए, फॉलेट, जिंक और मैग्नीशियम अच्छी मात्रा में होते हैं।जूस बनाते वक्त आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

Credit: istock