जानें ब‍िरयानी की कहानी

By: मेधा चावला
Dec 21, 2020

कहां हुआ पहला ज‍िक्र

हिंदुस्तान में पहली बार बेरयान का जिक्र नुस्खा-ए-शाहजहानी में मिलता है, जिसमें 17वीं सदी के मुगल बादशाह शाहजहां के दौर की रेसिपी है।

Credit: Istock

ईरान से आई

बिरयानी ईरान से आई है। इसका नाम फारसी शब्द 'बिरिंज बिरियान' से निकला है जिसका मतलब है भूना हुआ चावल।

Credit: Istock

ईरान की शैली

ईरान में बिरयानी को देग यानी हांडी में दम यानी धीमी आंच पर पकाया जाता है। इसमें चावल परतों में रखे जाते हैं और मसालों का खासा प्रयोग होता है।

Credit: Istock

बदला गया तरीका

एक र‍िपोर्ट के अनुसार ईरान में अब चावल की ब‍िरयानी की जगह रुमाली रोटी और मीट के कॉम्‍ब‍िनेशन ने ले ली है।

Credit: Istock

भारत में ब‍िरयानी

ये पक्‍का नहीं है क‍ि मुगल ही ब‍िरयानी को भारत में लाए। लेक‍िन अब भारत में इसके साथ स्‍थानीय स्‍वाद जुड़ गए हैं।

Credit: Istock

भोपाल की ब‍िरयानी

यहां की ब‍िरयानी को अफगानी स्‍वाद वाली माना जाता है जिसके तार अहमद शाह अब्दाली जुड़े हैं।

Credit: Istock

दिल्‍ली की ब‍िरयानी

यहां म‍िलने वाली ब‍िरयानी का स्‍वाद मुरादाबादी है। वहीं हैदराबादी जायके के शौकीन भी खूब हैं।

Credit: Istock

पॉपुलर स्‍ट्रीट फूड

रेस्‍तरां में ब‍िरयानी भले ही खास मेन्‍यू हो लेक‍िन ये स्‍ट्रीट फूड के तौर पर भी पहचान बना चुकी है।

Credit: Zoom

मगर अफसोस

हालांक‍ि अफसोस इस बात का है क‍ि ब‍िरयानी अब पारंपर‍िक स्‍वाद जैसी नहीं बन रही। इसे बस फ्राइंग पैन बिरयानी ही कहा जा सकता है।

Credit: Istock