आयुष्मान ने ऐसे बदला बॉलीवुड का चेहरा

Jul 1, 2020
By: Kuldeep Raghav

​नए विषयों से बनाई पहचान

आयुष्‍मान खुराना लीक से हटकर फ‍िल्‍में करने के ल‍िए पहचाने जाते हैं। उनकी फ‍िल्‍मों के विषय हमारे समाज से होते हैं लेकिन उन पर अक्‍सर चर्चा नहीं होती।

Credit: Twitter

​जब स्‍पर्म डोनर बने

आयुष्‍मान खुराना अपनी पहली ही फ‍िल्‍म 'विक्‍की डोनर' में स्‍पर्म डोनर बने थे। 2012 में आई इस फ‍िल्‍म ने ऐसा विषय उठाया था जिसे लोग गलत नजर से देखते हैं। हालांकि फिल्‍म खूब पसंद की गई।

Credit: Twitter

​शुभ मंगल सावधान

यौन समस्‍याओं पर बात करना भी हमारे समाज में अभिशाप माना जाता है लेकिन इस विषय को जब आयुष्‍मान पर्दे पर ले आए तो सिनेमाघरों में युवाओं का तांता लग गया।

Credit: Instagram

बधाई हो

आम परिवारों की एक ऐसी कहानी उठाई जिसकी कल्‍पना सिनेमाप्रेमी कर भी नहीं सकते थे। अधिक उम्र में एक औरत के मां बनने पर उसके परिवार में क्‍या माहौल होता है, वह इस फ‍िल्‍म में दिखाया।

Credit: Twitter

​अलग रोल से हिट हुए

अंधाधुन, ड्रीम गर्ल, बाला जैसी फ‍िल्‍मों ने आयुष्‍मान ने ऐसे रोल किए जो पर्दे पर पहले कभी नहीं आए। यह रोल फ‍िल्‍म के हीरो को सर्वश्रेष्‍ठ दिखाने की कोशिश नहीं करते।

Credit: Twitter

कॉमन मैन की पसंद

किरदारों के चयन के अलावा आयुष्मान खुराना पर्दे पर इतने सहज रहते हैं क‍ि आम दर्शक उनसे जुड़ाव महसूस करता है।

Credit: Zoom

बदला बॉलीवुड का विषय

आयुष्‍मान खुराना ने बॉलीवुड फ‍िल्‍मों के विषयों के चुनाव में विविधता लाने का काम किया। अब कंटेट आधारित फ‍िल्‍में बनती हैं जिसमें आयुष्‍मान का अहम योगदान है।

Credit: Instagram

​छोटे शहरों को मिली पहचान

मुंबई की चकाचौंध से इतर फ‍िल्‍मों में अब छोटे शहरों की छलक दिखने लगी है। कानपुर, लखनऊ, बनारस, मथुरा, बरेली जैसे शहरों की कहानियों को आयुष्‍मान पर्दे पर लाए।

Credit: Twitter

​नया ट्रेंड किया सेट

आयुष्‍मान ने विषय, शहर और रोल के माध्‍यम से हिंदी सिनेमा में नया ट्रेंड सेट किया है जिसे कई फ‍िल्‍ममेकर फॉलो कर रहे हैं।

Credit: Instagram

स्‍टार वैल्‍यू हुई पीछे

बीते कुछ वर्षों में स्‍टार वैल्‍यू पीछे हुई है और कंटेट सिनेमा आगे आया है। आयुष्‍मान खुराना ने इसमें अहम रोल अदा किया है।

Credit: Twitter