रेपो रेट बढ़ने से आम आदमी पर क्या होता है असर?

Aug 4, 2022

By: Dimple Alawadhi

आरबीआई की एमपीसी बैठक

अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के साथ महंगाई पर काबू पाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति समिति की बैठक करता है।

Credit: BCCL

एमपीसी की बैठक में क्या होता है?

MPC की बैठक तीन दिनों तक चलती है, जिसमें रेपो रेट के निर्णय के साथ अर्थव्यवस्था औ महंगाई के परिदृश्य को लेकर चर्चा होती है।

Credit: BCCL

रेपो रेट में बढ़ोतरी संभव

पिछले कुछ समय में अमेरिका सहित यूरोपीय यूनियन और हांगकांग जैसे कई देशों के केंद्रीय बैंकों ने ब्‍याज दरें बढ़ाई हैं। अनुमान है कि RBI भी रेपो रेट बढ़ा सकता है।

Credit: iStock

रेपो रेट बढ़ने से क्या होता है?

Repo Rate बढ़ने का असर सीधा आम जनता पर पड़ता है क्योंकि इससे आपके होम और कार लोन जैसे कर्जों की EMI बढ़ जाती है।

Credit: iStock

एफडी अकाउंट पर भी पड़ता है असर

रेपो रेट बढ़ने का असर सेविंग बैंक अकाउंट और फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर भी पड़ता है। बैंक इनपर मिलने वाला ब्याज बढ़ा सकते हैं।

Credit: BCCL

आपके काम की टिप

अगर आप खुद पर ईएमआई का बोझ नहीं बढ़ने देना चाहते तो आप पहले जितनी EMI रखकर लोन की अवधि आगे बढ़ा सकते हैं।

Credit: iStock

सबके लिए अहम होती है आरबीआई की बैठक

बैंक रेपो रेट का बोझ ग्राहकों पर डालते हैं। ऐसे में एमपीसी बैठक सिर्फ बैंकों के लिए ही नहीं, बल्कि ग्राहकों के लिए भी जरूरी हो जाती है।

Credit: iStock

क्या है रेपो रेट?

बैंक अपनी जरूरत के अनुसार आरबीआई से उधार ले सकते हैं। यह कर्ज उन्हें जिस ब्याज दर के साथ चुकाना होता है, उसे रेपो रेट कहा जाता है।

Credit: BCCL

क्या है रिवर्स रेपो रेट?

जब बैंक रकम को आरबीआई के पास जमा करते हैं, उसपर उन्हें ब्याज मिलता है। इस ब्याज दर को रिवर्स रेपो रेट कहा जाता है।

Credit: BCCL

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

Next: कितनी मिलेगी ग्रेच्युटी? इस फॉर्मूले से करें पता