कैसे पता चलता है सोना शुद्ध है या नहीं?

May 12, 2022
By: Dimple Alawadhi

भारत में लोकप्रिय है सोना

भारतीयों का सोने के प्रति प्रेम किसी से छुपा नहीं है। निवेश के लिए सोना देश के शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में लोकप्रिय है।

Credit: iStock

ग्राहकों को साथ होती है धोखाधड़ी

लेकिन देशभर में ऐसे कई मामले सामने आते हैं, जहां ग्राहकों को सोने के दाम पर कम शुद्धता वाले सोने के गहने बेच देए जाते हैं।

Credit: iStock

क्या है हॉलमार्क?

अगर गोल्ड के गहनों पर हॉलमार्क है, तो इसका मतलब होता है कि उसकी शुद्धता प्रमाणित है।

Credit: iStock

गोल्ड हॉलमार्किंग अनिवार्य

अब भारत में ग्राहक सोने के गहने खरीदते समय धोखा नहीं खाएंगे क्योंकि हाल ही में देश में गोल्ड हॉलमार्किंग अनिवार्य की गई थी।

Credit: iStock

देशभर में ग्राहकों को होता है फायदा

ग्राहकों को ज्वैलरी पर अंकित शुद्धता के अनुसार ही आभूषण दिए जाते हैं। देशभर में ग्राहकों को फायदा पहुंचाने के लिए हॉलमार्किंग अनिवार्य की गई थी।

Credit: iStock

मिलती है शुद्धता की गारंटी

गोल्ड ज्वैलरी पर भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) अपने मार्क के माध्यम से शुद्धता की गारंटी देता है

Credit: iStock

4 निशान बताते हैं सोना हॉलमार्किंग वाला है या नहीं

हॉलमार्किंग पहचानने के चार चिह्न होते हैं- BIS का मार्क, सोने का कैरेट, हॉलमार्किंग सेंटर की पहचान और ज्वैलर का कोड।

Credit: iStock

कितने कैरेट के सोने के गहने मिलते हैं?

देश में ज्वैलर्स सिर्फ 14 कैरेट, 18 कैरेट और 22 कैरेट के सोने के गहने बेच सकते हैं।

Credit: iStock

24 कैरेट सोना होता है सबसे शुद्ध

24 कैरेट सोना सबसे शुद्ध सोना होता है। लेकिन इसके आभूषण नहीं बनते वो बहुत मुलायम हो जाता है।

Credit: iStock

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

अगली स्टोरी: बैंक फ्रॉड का शिकार होने से कैसे बचें? ये रहे टिप्स