इन राशियों पर शनि देव हमेशा रहते हैं मेहरबान

लवीना शर्मा

Dec 4, 2022

कर्मफल दाता हैं शनि देव

ज्योतिष में शनि देव को कर्मफल दाता कहा जाता है। इसका मतलब है कि ये लोगों को उनके कर्मों के अनुसार फल देते हैं।

Credit: Twitter

तीन राशियां हैं शनि की प्रिय

ज्योतिष शास्त्र अनुसार शनि की प्रिय राशियां तुला, कुंभ और मकर हैं। क्योंकि तुला राशि में शनि उच्च के होते हैं तो मकर और कुंभ के ये स्वामी ग्रह हैं।

Credit: Twitter

ज्योतिष में शनि ग्रह का महत्व

शनि ग्रह को आयु, दुख, तकनीकि का कारक माना जाता है। ये मकर और कुंभ राशि के स्वामी ग्रह हैं। तुला में उच्च के होते हैं तो मेष में नीच के हो जाते हैं।

Credit: Twitter

शनि के उच्च होने के लाभ

जिस व्यक्ति की कुंडली में शनि की स्थिति मजबूत होती है वो व्यक्ति रंक से राजा बन जाता है। शनि 27 नक्षत्रों में तीन नक्षत्र पुष्य, अनुराधा और उत्तराभाद्रपद के स्वामी हैं।

Credit: Twitter

सूर्य और छाया के पुत्र हैं शनि

हिंदू धार्मिक मान्यताओं अनुसार शनि देव सूर्य और माता छाया के पुत्र हैं। पौराणिक कथाओं अनुसार शनि सूर्य देव के विरोधी हैं। इसलिए इन दोनों ग्रहों की युति को शुभ नहीं माना जाता।

Credit: Twitter

न्याय देवता कैसे बनें शनि देव

पौराणिक कथाओं अनुसार शनि देव को ये उपाधि भगवान शिव ने दी थी। इसलिए शनि मनुष्य को कर्म के अनुसार फल देते हैं।

Credit: Twitter

शनि बीज मंत्र

'ओम शं शनैश्चराय नमः' शनि देव के इस बीज मंत्र का जाप करने से हर प्रकार की परेशानियों से मुक्ति मिल जाती है।

Credit: Twitter

शनि के उपाय

हर शनिवार शनि मंदिर में दर्शन के लिए जाएं। वहां जाकर शनि की प्रतिमा के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

Credit: Twitter

शनि रत्न

शनि को मजबूत करने के लिए रत्न ज्योतिष नीलम धारण करने की सलाह देते हैं।

Credit: Twitter

इस स्टोरी को देखने के लिए थॅंक्स

Next: Jaya Kishori: भूलकर भी इन 5 बातों का जिक्र किसी से न करें

ऐसी और स्टोरीज देखें