Sep 29, 2022

अबॉर्शन पर नया नियम, क्या बरतें सावधानियां

Shivam Pandey

सुप्रीम कोर्ट का एतिहासिक फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात पर एतिहासिक फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने अविवाहित और नाबालिग महिलाओं को भी 20 से 24 सप्ताह तक मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के तहत गर्भपात का अधिकार दिया है।

Credit: istock

दवाइयों से होता है गर्भपात

मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक प्रक्रिया है, इसके तहत दवाइयों के द्वारा गर्भपात किया जाता है। ये दवाइयां गर्भाशय में स्थित लाइनिंग को खत्म कर देती है। इससे भ्रूण नष्ट हो जाता है।

Credit: wikimedia

खुद से न लें दवाएं

ध्यान रखें कि खुद से अंदाज लगाकर अबॉर्शन की दवाएं बिल्कुल भी न लें, ये खतरनाक साबित हो सकता है। प्रेग्नेंसी के चार से छह हफ्ते में जब अल्ट्रासाउंड में यूटरेस दिखने लगे, इसके बाद ही दवाओं के जरिए अबॉर्शन संभव है।

Credit: wikimedia

जरूर कराएं अल्ट्रासाउंड

बिना मॉनिटरिंग यदि अबॉर्शन पिल्स ले रहे हैं तो ये काम नहीं करती है। ऐसे में सबसे पहले डॉक्टर से मिलें और अपना अल्ट्रासाउंड करवाएं।

Credit: wikimedia

डाइट में शामिल करें ये चीजें

अबॉर्शन के बाद अपनी डाइट का खास ख्याल रखें। डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां, दूध, सूखे मेवे खासकर शामिल करें। डॉक्टर से सलाह लेकर विटामिन डी, आयरन और कैल्शियम जैसे सप्लीमेंट्स लें।

Credit: wikimedia

जंक फूड से रहें दूर

जिन महिलाओं का गर्भपात हुआ है वह जंक फूड, प्रोसेस्ड फूड और शुगर फ्री ड्रिंक का सेवन भूलकर भी न करें।

Credit: wikimedia

शरीर को रखें हाईड्रेट

गर्भपात के बाद शरीर को हाइड्रेट रखें। इसके लिए गर्म पानी जरूर पीएं। इसके अलावा कैल्शियम, आयरन और फोलिक एसिड से भरपूर खाने का सेवन करें।

Credit: istock

करें बॉडी मसाज

गर्भपात के बाद कुछ वक्त आराम जरूर करें। इसके अलावा आप बॉडी मसाज करें। मसाज के लिए सरसो के तेल का जरूर इस्तेमाल करें।

Credit: istock

न करें ये काम

गर्भपात के बाद भारीभरकम काम न करें। इसके अलावा कपड़े धोने और पानी की बाल्टी उठान से बचें।

Credit: istock

Thanks For Reading!

Next: अनुष्का शर्मा के हेयर केयर टिप्स