Oct 31, 2022

सरदार वल्लभभाई पटेल के विचारों पर झलक

नीलाक्ष सिंह

काम प्रेम और शांति से होना चाहिए

"संस्कृति समझ-बूझकर शांति पर रची गई है। मरना होगा तो वे अपने पापों से मरेंगे। जो काम प्रेम, शांति से होता है, वह वैर-भाव से नहीं होता।"

Credit: Timesnow Hindi

भेदभावों से रहें दूर

''आज हमें ऊंच-नीच, अमीर-गरीब, जात पात के भेदभावों को समाप्त कर देना चाहिए।"

Credit: Timesnow Hindi

कुछ अनूठा है भारत देश की मिटटी में

"भारत देश की मिट्टी में कुछ अनूठा है, जो कई बाधाओं के बावजूद हमेशा महान आत्माओं का निवास रहा है।"

Credit: Timesnow Hindi

अच्छाई को न बनने दें मार्ग में बाधक

"आपकी अच्छाई आपके मार्ग में बाधक बन सकती है, इसलिए अपनी आंखों को क्रोध से लाल होने दीजिये, और अन्याय का सामना मजबूती से कीजिए।"

Credit: Timesnow Hindi

ताकत के अभाव में विश्वास का कोई फायदा नहीं

"ताकत के अभाव में विश्वास का कोई फायदा नहीं है। किसी भी महान कार्य को पूरा करने के लिए विश्वास और शक्ति दोनों आवश्यक हैं।"

Credit: Timesnow Hindi

अपमान सहने की कला को अपनाएं

"आपको अपना अपमान सहने की कला आनी चाहिए।"

Credit: Timesnow Hindi

एकता सबसे बड़ी ताकत है

"जब जनता एक हो जाती है, तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शासन भी नहीं टिक सकता। अतः जात-पांत के ऊंच-नीच के भेदभाव को भुलाकर सब एक हो जाइए"

Credit: Timesnow Hindi

मनुष्य को क्रोध नहीं करना चाहिए

"मनुष्य को क्रोध नहीं करना चाहिए क्योंकि लोहा भले ही गर्म हो जाए, हथौड़े को तो ठंडा ही रहना चाहिए अन्यथा वह स्वयं अपना हत्था जला डालेगा।"

Credit: Timesnow Hindi

जाति, समुदायों को तेजी से होगा भूलना

"जाति, समुदाय तेजी से गायब हो जाएगा। हमें इन सभी चीजों को तेजी से भूलना होगा। ऐसी सीमाएं हमारे विकास में बाधा डालती हैं।"

Credit: Timesnow Hindi

साझा प्रयास से बन सकते हैं महान

"साझा प्रयास से हम देश को एक नई महानता तक ले जा सकते हैं, जबकि एकता की कमी हमें नई आपदाओं के लिए उजागर करेगी।"

Credit: Timesnow Hindi

Thanks For Reading!

Next: RRB Group D RESULT 2022 - कब, कहां व कैसे करें चेक