1 जनवरी को ही दुनिया क्यों मनाती है नए साल का जश्न, जानिए

ट्रेंडिंग/वायरल
Updated Dec 30, 2019 | 16:05 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Happy New Year 2020: दुनियाभर में 1 जनवरी को नए साल का जश्न मनाया जाता है। क्या आप जानते हैं 12 महीनों में जनवरी को ही साल का पहला महीना और 1 जनवरी को ही साल का पहला दिन क्यों मानते हैं, जानिए-

happy new year 2020
हैपेपी न्यू ईयर 2020 (Credit: pixabay) 

नई दिल्ली : 2019 खत्म होने वाला है और 2020 दरवाजे पर दस्तक दे रहा है। नए साल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। समय है पुरानी बातों को भूल कर एक नई और फ्रेश शुरुआत करने की। नया लक्ष्य बना कर उसे पाने की। लेकिन हर साल 31 दिसंबर की मध्यरात्रि को जब घड़ी का कांटा 12 पर अटकता है और 1 जनवरी की शुरुआत होती है, क्या आपने कभी सोचा इसी खास घड़ी को ही नए साल का जश्न मनाया जाता है। 

आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनिया के अधिकतर हिस्सों में भले ही 1 जनवरी को नया साल मनाया जाता हो लेकिन आज भी कई ऐसे देश हैं जहां पर 1 जनवरी को नए साल का जश्न नहीं मनाया जाता है। कई जगह ऐसी है जहां अलग-अलग तारीख को न्यू ईयर मनाया जाता है।

जानते हैं नया साल 1 जनवरी को क्यों मनाया जाता है और इससे जुड़ी अन्य दिलचस्प बातें-

1 जनवरी को ही नए साल के तौर पर क्यों चुना गया?

पूरी दुनिया नए साल का बांहें फैला कर स्वागत करने को तैयार है। आपको बता दें कि लगभग 4000 साल पहले बेबीलोन में 21 मार्च को नया साल मनाया जाता था। जो वसंत के आने की तिथि भी मानी जाती थी। प्राचीन रोम में भी नया साल तभी मनाया जाता था। रोम के बादशाह जूलियन सीजर ने ईसा पूर्व 45 वर्ष में जब जूलियन कैलेंडर की स्थापना की थी तब विश्व में पहली बार 1 जनवरी को नए साल का उत्सव मनाया गया। हालांकि अलग-अलग संस्कृतियों के अपने-अपने अलग-अलग कैलेंडर होते हैं, और आज भी विश्व के कई देश अपने-अपने कैलेंडर के मुताबिक नया साल मनाते हैं।

साल के पहले माह का नाम जनवरी ही क्यों पड़ा?

ऐसा माना जाता है कि जनवरी महीने का नाम रोमन देवता जानुस के नाम पर रखा गया था। जानुस दो मुख वाले देवता थे जिनमें एक मुख आगे की और एक मुख आगे की ओर था। माना जाता है कि उन्हें आने वाले समय और बीते हुए समय की जानकारी होती थी। इसलिए जानुस के नाम पर जनवरी को साल का पहला महीना माना गया और 1 जनवरी को साल का पहला दिन मनाया जाता है। 

क्या इसके पीछे खगोलीय कारण है?

इसके पीछे खगोलीय कारण भी है। 1 जनवरी के दिन पृथ्वी और सूर्य बेहद करीब होते हैं इसलिए भी इसे साल का पहला दिन माना जाता है। इसके अलावा ये भी मान्यताएं हैं कि 31 दिसंबर को साल का सबसे छोटा दिन होता है, और उसके बाद आने वाले दिन लम्बे होते है, इसी तर्क को मानते हुए साल की शुरुआत 1 जनवरी से की जाती है।

किन देशों में कब मनाया जाता है नया साल

23 जनवरी 2000 ईसा पूर्व को नया साल मनाया गया। मिस्र और पर्शिया में 20 सितंबर को नया साल मनाया जाता है। वहीं ग्रीक में 20 दिसंबर को नए साल मनाने का रिवाज है। भारत जैसे देश में गुड़ी पड़वा के दिन नए साल का जश्न मनाया जाता है। जापान में 29 दिसंबर की रात से शुरू होकर 3 जनवरी तक नए साल का जश्न मनाया जाता है। म्यांमार में अप्रैल के मध्य में नया साल मनाया जाता है। थाईलैंड में 13 से 15 अप्रैल तक नए साल का उत्सव मनाते हैं। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर