छात्रा के सिर पर चढ़ा इस मोबाइल गेम का भूत, 17 दिनों में 7 शहरों का कर लिया भ्रमण

ट्रेंडिंग/वायरल
Updated Jul 22, 2019 | 14:39 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

उत्तराखंड में एक लड़की मोबाइल गेम टैक्सी ड्राइवर 2 से प्रेरित होकर दिल्ली आ पहुंची। वो लड़की 17 दिनों में 7 शहरों में घूमी।

 school girls travels 7 cities in 20 days
गेम के चक्कर में घर से भागी स्कूल की छात्रा  |  तस्वीर साभार: Representative Image

मुख्य बातें

  • उत्तराखंड में गेम के चक्कर में स्कूल की छात्रा ने छोड़ा घर
  • छात्रा के सिर पर चढ़ा था गेम 'टैक्सी ड्राइवर 2' का भूत
  • 20 दिन के अंदर घूमे 7 शहर


नई दिल्ली। school girls travels 7 cities in 20 days गेम का भूत बच्चों के सिर पर बेशुमार छाया हुआ रहता है। गेम से जुड़ा ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुन आप हैरान रह जाएगे।1 जुलाई को उत्तराखंड के पंतनगर से लापता हुई एक छात्रा कथित तौर पर मोबाइल गेम टैक्सी ड्राइवर 2 से प्रेरित होकर कई शहरों में घूमकर 2 सप्ताह बाद अपने घर वापस लौट आई।  

ये लड़की गेम के लिए इतनी पागल थी कि इसने अपने घर भी छोड़ दिया। लड़की का साहसिक कार्य दिल्ली में जब समाप्त हुआ जब कमला मार्किट इलाके में मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे देखा और उससे उसके ठिकाने के बारे में पूछताछ की। लड़की ने पहले दावा किया कि वो अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में पढ़ाई कर रहे अपने भाई से मिलने के लिए यहां आई है, लेकिन बाद में उसने असली वजह बता दी। पुलिस को उसके पास से कागज का एक टुकड़ा मिला, जिसपर एक फोन नंबर लिखा हुआ था।

पुलिस ने उस नंबर के जरिए पता किया जहां उन्हें लड़की के स्कूल से पता चला कि वो पिछले 17 दिनों से गायब है। इसके बाद पुलिस ने उसके घरवालों से संपर्क किया। पुलिस ने लड़की के घर वालों को सूचना दी और कहा कि उनकी लड़की दिल्ली में घूम रही है। जब लड़की के घरवाले उसको लेने के लिए दिल्ली पहुंचे। 

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, लड़की ने ये कदम एक 3 डी मोबाइल ड्राइविंग गेम 'टैक्सी ड्राइवर 2' को खेलते हुए उठाया। इस गेम में खेलने वाले लोग टैक्सी ड्राइवर के पीछे-पीछे चलते और अपने ग्राहकों क साथ एक विशाल महानगर तक दौड़ लगाते है। लड़की ने ये गेम अपनी मां के फोन पर खेला। 

1 जुलाई से से जब उसने अपना घर छोड़ा तो उसकी जेब में 14,000 रुपये थे। जिसमें उसने  ऋषिकेश, हरिद्वार, उदयपुर, जयपुर, अहमदाबाद और यहां तक कि पुणे की यात्रा की। पुलिस ने बताया कि लड़की 24 घंटे उस फोन में लगी रही और रास्ते चुनती गई। वो रात में यात्रा के दौरान यात्रा करती और दिन में शहरों में घूमती। 

पुलिस ने जब इस घटना के बारे में लड़की के परिवार से पूछा तो उन्होंने इससे इनकार कर दिया। लेकिन लड़की के एक दोस्त ने बताया वो ज्यादा समय इस गेम में ही बिताती थी। पुलिस ने इस घटना के बाद लड़की के परिवार वालों को कहा कि अगर माता-पिता ही अपने बच्चों को गेम खेलने से नहीं रोकेगे तो हर दिन ऐसी घटनाएं सामने आएगी। उन्हें अपने बच्चों का ख्याल रखना चाहिए। 


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर