तमिलनाडु के एक किसान ने बनाया पीएम मोदी का मंदिर, भगवान की तरह करता है पूजा

तमिलनाडु का एक किसान पीएम नरेंद्र मोदी से इतना प्रभावित है कि उनकी पूजा करने के लिए एक मंदिर का निर्माण कर दिया।

तमिलनाडु के एक किसान ने बनाया पीएम मोदी का मंदिर, भगवान की तरह करता है पूजा
पीएम मोदी का मंदिर बनाकर भगवान की तरह पूजा करता है तमिलनाडु का एक किसान  |  तस्वीर साभार: IANS

मुख्य बातें

  • पीएम मोदी के व्यक्तित्व और केंद्र सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से प्रभावित किसान पी संकर ने मंदिर का निर्माण किया
  • प्रधानमंत्री किसान निधि, प्रधानमंत्री उज्ज्वला स्कीम, शौचालय स्कीम जैसी कल्याणकारी योजनाओं से प्रभावित हैं किसान
  • आठ x आठ फुट टाइल छत वाले इस मंदिर को करीब 1.2 लाख रुपए की लागत से बनाया गया है 

तिरुचिरापल्ली: वैसे तो हमारे प्रधानमंत्री के फैन दुनिया भर में हैं। लेकिन इस किसान की बात ही अलग है। वे पीएम को भगवान की तरह पूजते हैं। इस किसान ने अपने गांव के पास एक खेत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक मंदिर बनाया। पीएम का मंदिर बनाने पर किसान ने कहा कि मैं उनसे प्रभावित हुआ हूं और मुझे प्रधानमंत्री किसान निधि जैसी कल्याणकारी योजनाओं से लाभ मिला है। 50 वर्षीय किसान पी संकर ने पिछले सप्ताह अपने खेत में मंदिर का उद्घाटन किया।  जो यहाँ से लगभग 63 किमी दूर सोई अरकुडी गांव में है और वह प्रतिदिन पीएम को 'आरती' करते हैं। 

एक पारंपरिक 'कोल्लम' (रंगोली) लोगों का स्वागत करता है। यह  8x8 फुट टाइल छत वाला मंदिर है, जिसे लगभग 1.2 लाख रुपए की लागत से बनाया गया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुस्कुराती प्रतिमा को मंदिर के केंद्र में रखा गया है। उनकी ट्रेडमार्क सफेद दाढ़ी और केश विन्यास भी पेश करता है। पीएम मोदी की प्रतिमा के दोनों तरफ पारंपरिक दीपक रखा गया है। माथे पर तिलक, गुलाबी कुर्ता और एक नीले रंग की शॉल में प्रधानमंत्री की प्रतीमा पर खूब खिलता है। प्रतिमा को माला और फूलों से सजाया गया है।

मंदिर बनाने वाले संकर ने कहा कि अय्या के लिए एक मंदिर बनाने का काम (अंग्रेजी में सर के बराबर एक तमिल शब्द 'अय्या' है और यह पीएम मोदी को संदर्भित करता है) आठ महीने पहले शुरू हुआ था। मैं बाधाओं के कारण इसे तुरंत पूरा नहीं कर सका और पिछले सप्ताह मंदिर का उद्घाटन किया गया था।

यह पूछे जाने पर कि आप मंदिर बनाकर पूजा अर्चना क्यों करते हैं? उन्होंने कहा कि मैंने केंद्र सरकार के कल्याणकारी उपायों से लाभ उठाया है और इस तरह की पहल की वजह से मैं प्रधानमंत्री को पसंद करता हूं। उन्होंने कहा कि मुझे (प्रधानमंत्री किसान निधि) स्कीम से 2,000 रुपए मिले और मैंने गैस (प्रधानमंत्री उज्ज्वला स्कीम) और शौचालय (व्यक्तिगत घरेलू लैट्रीन स्कीम) सुविधाएं प्राप्त कीं। मैं उसके व्यक्तित्व से भी प्रभावित हूं। मैं उत्सुकता से उसे लंबे समय से देख रहा हूं।

यह पूछे जाने पर कि क्या संकर एक पार्टी कार्यकर्ता थे, बीजेपी के तिरुचिरापल्ली जोनल प्रभारी और राष्ट्रीय परिषद के सदस्य ला कन्नन ने कहा कि वह किसान पार्टी का सदस्य नहीं था। उन्होंने कहा कि मोदी जी के लिए इस मंदिर के बारे में पता चलने के बाद मैंने अपने पार्टी के पदाधिकारियों को उनसे मिलने के लिए भेजा। हमने उनसे बीजेपी में शामिल होने और लोगों के कल्याण के लिए काम करने का अनुरोध किया है। शंकर ने कहा कि मैंने बीजेपी का सदस्य बनने के लिए सहमति दे दी है क्योंकि मैं अय्या को पसंद करता हूं। उन्होंने कहा कि अब मेरी इच्छा है कि मंदिर के लिए एक कुंभ अभिषेक कराया जाए।

प्रधानमंत्री को व्यक्तिगत रूप से करीब से देखने के लिए उत्सुक शंकर ने कहा कि वह अक्टूबर में चेन्नई के पास ममल्लापुरम गए थे, जब मोदी अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग के साथ अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के लिए समुद्री तट पर गए थे। उन्होंने कहा कि मैं उनसे नहीं मिल सका। लेकिन मुझे दूर से ही उनकी झलक पाने की खुशी है। किसान ने कहा कि वह अपने गांव में जमीन खरीदने के लिए खाड़ी देश में वर्षों तक संघर्ष करने के बाद खुद को खड़ा किया।

इस मंदिर में पीएम मोदी की प्रतिमा के अलावा देवताओं की तस्वीरें, महात्मा गांधी, प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस आइकन के कामराज, अन्नाद्रमुक के दिग्गज एम जी रामचंद्रन और जे जयललिता, गृह मंत्री अमित शाह और तमिलनाडु के मुख्य मंत्री के पलानीस्वामी की तस्वीरें भी हैं।


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर