नवजात बेटी को पॉलिथीन में बंद करके नाले में फेंका, कुत्तों ने ऐसे बचाई जान

ट्रेंडिंग/वायरल
Updated Jul 19, 2019 | 13:42 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

हरियाणा के कैथल जिले में एक मां को ने लड़की को जन्म दिया और बाद में उसे पॉलिथीन में बंद करके नाले में फेंक दिया, लेकिन मौके पर मौजूद कुत्तों ने भौंक-भौंककर उसकी जान बचा ली।

dogs save baby girl life
कुत्तों ने भौंक-भौंककर बचाई नवजात बच्ची की जान  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • हरियाणा में बेटी पैदा हुई तो फेंका नाले के अंदर
  • कुत्तों ने भौंक-भौंककर बचाई जान
  • बेटी पैदा हुई तो निराश होकर मां ने उठाया ये कदम

चंडीगढ़। Mother threw baby girl in Sewer: मां और औलाद का रिश्ता दुनिया का सबसे अनमोल रिश्ता होता है। मां अपने बच्चों को बचाने के लिए कुछ भी कर जाती है। लेकिन यहां एक मां ने अपने ही मासूम बच्ची को अपने से दूर कर दिया। जी हां, हरियाणा के कैथल जिला के डोगर गेट पर सुबह एक महिला ने बेटी को जन्म दिया। यह देखकर वह निराश हो गई और उसने अपनी नवजात बेटी को पॉलिथीन में बंद करके पास के एक गंदे नाले में फेंक दिया।

महिला जब अपनी बेटी को नाले में फेंक रही थी तभी वहां मौजूद कुत्तों ने उसे देख लिया। यह देख वो जोर-जोर से भौंकने लगे जिसके बाद मौके पर पहुंचे लोगों ने नवजात बच्ची को गंदे नाले से निकाल लिया। कुत्ते ने इस बच्ची की जान बचाने में बहुत मदद की है। अगर कुत्ते न होते तो ये बच्ची गंदे नाले में बह गई होती।

इस घटना के बाद आस-पास के लोगों ने इस बात की सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहंची पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। नवजात बच्ची को कैथल के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज किया जा रहा है। आरोपी महिला वहां लगे हुए सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई है।

पुलिस सीसीटीवी फुटेज की मदद से महिला को पकड़ने में जुट गई है। अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि बच्ची का वजन करीब एक किलो 100 ग्राम है। बच्ची का इलाज जारी है जब वो ठीक हो जाएगी तोउसे बाल संरक्षण विभाग को सौंप दिया जाएगा।

वहां से उसे पंचकूला अनाथालय में भेज दिया जाएगा। वहां बच्ची की पूरी देखभाल की जाएगी। पुलिस आरोपी महिला की तलाश कर इस मामले पर सख्त कार्रवाई करेगी। हरियाणा में आज भी बेटियों को बेटों से कम माना जाता है। वहां आज भी महिलाओं पर दबाव बनाया जाता है कि बस बेटा ही पैदा करे। आज भी वहां बेटियां पैदा होते ही उन्हें मार दिया जाता है। कुछ महिलाएं अपने ससुराल के दबाव के कारण अपनी बेटियों की जान ले लेती है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर