India Smartphone Market: 10 साल में कैसे बदला स्मार्टफोन बाजार, चीनी कंपनियों का बढ़ा दबदबा

India Smartphone Market In Last 10 Years : पिछले 10 साल में स्मार्टफोन बाजार में बड़ा बदलाव देखने को मिला है। नोकिया जैसी कंपनी का दबदबा कम हुआ है, जबकि चीनी कंपनियों का बोल बाला हुआ है।

India Smartphone Market
India Smartphone Market: 10 साल में कितना बदल गया स्मार्टफोन बाजार  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली: पिछले 10 सालों में हमारे आसपास बहुत सी चीजें बदली हैं। एक गैजेट जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन गया है, वह स्मार्टफोन है। साल 2010 से अब तक स्मार्टफोन इंडस्ट्री में बहुत कुछ बदला है। साल 2010 में एप्पल ने आईफोन 4 लॉन्च किया था, जो साल 2019 में आईफोन 11 तक पहुंच गया है। वहीं सिंगल रियर कैमरे की जगह तीन और चार कैमरे वाले सेटअप ने ले ली है।

आईडीसी इंडिया, एसोसिएट रिसर्च मैनेजर, क्लाइंट डिवाइस, उपासना जोशी ने बताया, 'भारत जो कि कुछ साल पहले तक फीचर फोन बाजार था, 2013 के बाद तेजी से स्मार्टफोन बाजार की ओर सिफ्ट हुआ है। अभी भी फीचर फोन का 40 से 45 फीसदी बाजार पर प्रभाव है, लेकिन कम कीमत और ज्यादा फीचर के कारण स्मार्टफोन तेजी से आगे आए हैं। इंटरनेट के बढ़ते इस्तेमाल के कारण स्मार्टफोन की मांग बढ़ी है।'

चीनी कंपनियों का दबदबा बढ़ा

उन्होंने बताया, 'कुछ साल पहले तक स्मार्टफोन बाजार में सैमसंग और नोकिया जैसे ग्लोबल ब्रांड और माइक्रोमैक्स, लावा जैसे स्थानीय ब्रांड की धाक थी, लेकिन बीते कुछ वर्षों में बाजार तेजी से बदला है और चीनी स्मार्टफोन कंपनियों का दबदबा बढ़ा है। शाओमी, वीवो, ओप्पो जैसी कंपनियों का दबदबा बढ़ा है। मौजूदा वक्त में 80 फीसदी बाजार में सिर्फ 5 ब्रांड का प्रभाव है।'

ऑनलाइन बाजार का प्रभाव बढ़ा

उपासना ने बताया, 'बीते दस सालों में हमारा बाजार भी काफी बदला है। पारंपरिक ऑफलाइन बाजार तेजी से ऑनलाइन बाजार की ओर बढ़ा है। पिछले दो से तीन साल में चीन के वेंडर्स ने इस रास्ते भारतीय बाजार में एंट्री की है। ज्यादा डिस्काउंट, किफायती कीमत, बायबैक, कैशबैक आदि ऑफर लोगों को लुभा रहे हैं।'

कम कीमत में मिल रही बेहतर टेक्नोलॉजी

बीते कुछ वर्षों में स्मार्टफोन की टेक्नोलॉजी ज्यादा बेहतर हुई है। कम कीमत में ज्यादा बेहतर फीचर मिलने लगे हैं। 20 से 35 हजार रुपये का बाजार तेजी से बदला है। इस सेगमेंट में ज्यादा से ज्यादा ब्रांड अपने बेहतरीन फोन लॉन्च कर रहे हैं। बीते वर्ष (2019) में 5जी एडॉप्सन का ट्रेंड नजर आया है। इसके साथ ही ऑनलाइन पेमेंट, खरीदारी आदि का ट्रेंड भी कुछ वर्षों में बढ़ा है।

फोन का इस्तेमाल रोजमर्रा की जिंदगी में बढ़ा

अरिजीत तालापात्रा, सीईओ, ट्रांसियॉन इंडिया ने बताया, 'पहले के दिनों में मोबाइल फोन का इस्तेमाल सिर्फ कॉल करने, टेक्स्ट करने, तस्वीरें खींचने और फोन गेम तक ही सीमित था। पिछले 10 वर्षों के दौरान यह चलन बदला है और समय के साथ-साथ स्मार्टफोन की इस्तेमाल भी बढ़ा है और अब यह हमारे रोजमर्रा जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। अपने बिल भरने से लेकर नींद की आदतें ट्रैक करने तक आज के स्मार्टफोन सब कुछ करते हैं।' 

उन्होंने बताया, '2010 के मोबाइल फोन में जहां एलईडी फ्लैश और पैनोरमा शॉट्स जैसे बेसिक फीचर्स होते थे वहीं मौजूदा पीढ़ी के स्मार्टफोन एआई कैमरा, फेस अनलॉक, फिंगरप्रिंट सेंसर, नॉच डिस्प्ले और भी कई इनोवेटिव टैक्नोलॉजी लेकर आ रहे हैं और वो भी किफायती कीमतों पर। भारत को दुनियाभर में सबसे तेजी से उभरता हुआ स्मार्टफोन बाजार बना रहा है। काउंटरपॉइंट की रिपोर्ट के अनुसार, अन्य क्षेत्रों में मंदी के बावजूद, भारतीय स्मार्टफोन बाजार ने 2019 की तीसरी तिमाही के दौरान दोहरे अंक में विस्तार करते हुए 49 मिलियन यूनिटों की बिक्री दर्ज करायी है।'

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर