मुरली श्रीशंकर ने रचा इतिहास, पुरुष लांग जंप फाइनल में क्‍वालीफाई करने वाले बने पहले भारतीय

Murali Sreeshankar creates history in long jump: एथलेटिक्‍स विश्‍व चैंपियनशिप में दो इवेंट्स में भारत के मजबूत प्रतिनिधित उतरेंगे। मुरली श्रीशंकर और अविनाश साबले ने दमदार प्रदर्शन के साथ फाइनल में प्रवेश किया।

Murali Sreeshankar
मुरली श्रीशंकर  |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • मुरली श्रीशंकर ने इस सीजन में निरंतर बेहतर प्रदर्शन किया है
  • 23 साल के लांग जंपर क्‍वालीफाई करने वाले एकमात्र भारतीय बने
  • अविनाश साबले ने पुरुषों की 3000 मीटर स्‍टीपलचेज 8:18.75 के समय में पूरी की

यूजीन (अमेरिका): मुरली श्रीशंकर विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के फाइनल्स के लिये क्वालीफाई करने वाले लंबी कूद के पहले पुरूष एथलीट बन गये, जबकि 3000 मीटर स्टीपलचेज एथलीट अविनाश साबले ने यहां प्रतियोगिता के पहले दिन उम्मीद के अनुरूप फाइनल में जगह बनायी। सत्र के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले एथलीट की सूची में दूसरे स्थान पर रहने वाले श्रीशंकर ने पूरे आठ मीटर की सर्वश्रेष्ठ कूद लगायी, जिससे वह ग्रुप बी के क्वालीफिकेशन दौर में दूसरे और ओवरऑल सातवें स्थान पर रहे।

अंजू बॉबी जॉर्ज विश्व चैम्पियनशिप लंबी कूद फाइनल्स के लिये क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय थी और वह पदक जीतने वाली भी पहली भारतीय हैं, जिन्होंने पेरिस में 2003 चरण में कांस्य पदक जीता था। दो अन्य भारतीय जेस्विन एल्ड्रिन (7.79 मीटर) और मोहम्मद अनीस याहिया (7.73 मीटर) फाइनल दौर के लिये क्वालीफाई करने में असफल रहे, दोनों ग्रुप ए क्वालीफिकेशन में क्रमश: नौंवे और 11वें स्थान पर रहे। स्पर्धा में 8.15 मीटर या दोनों ग्रुप के सर्वश्रेष्ठ 12 एथलीट ने रविवार को होने वाले फाइनल्स के लिये क्वालीफाई किया।

इस तरह फाइनल में पहुंचे श्रीशंकर

श्रीशंकर हालांकि 8.15 के स्वत: क्वालीफाई करने की कूद नहीं लगा सके, लेकिन सर्वश्रेष्ठ 12 एथलीट में से एक रहकर फाइनल में पहुंचे। 23 साल का यह एथलीट निरंतर प्रदर्शन कर रहा है जिन्‍होंने अप्रैल में 8.36 मीटर की कूद लगायी थी जिसके बाद यूनान में 8.31 मीटर और राष्ट्रीय अंतरराज्यीय चैम्पियनशिप में 8.23 मीटर की कूद लगायी थी।

क्वालीफाइंग दौर में केवल जापान के युकी हाशियोका (8.18 मीटर) और अमेरिका के मारक्विस डेंडी (8.16 मीटर) ही 8.15 मीटर की कूद लगा सके। यूनान के ओलंपिक चैम्पियन मिल्टियाडिस टेंटोग्लू (8.03 मीटर) ग्रुप बी क्वालीफिकेशन में श्रीशंकर से आगे शीर्ष पर रहे। उनके अलावा सत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले एथलीट में शीर्ष पर रहने वाले स्विट्जरलैंड के सिमोन एहैमर (8.09 मीटर) और क्यूबा के टोक्यो ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मेयेकेल मासो (7.93 मीटर) ने भी फाइनल्स के लिये क्वालीफाई किया।

साबले ने किया गजब का प्रदर्शन

साबले ने 2019 चरण में भी 3000 मीटर स्टीपलचेज फाइनल के लिये क्वालीफाई किया था। वह हीट 3 में 8:18.75 सेकेंड के समय से तीसरे स्थान पर रहे और सोमवार (भारत को मंगलवार में तड़के) को होने वाले फाइनल्स में पहुंचे। वह आधी रेस तक आगे चल रहे थे, लेकिन इथियोपिया के हेलेमरियम आमारे (8:18.34) और अमेरिका के इवान जागेर (8:18.44) ने इसके बाद उन्हें पछाड़ दिया। प्रत्येक हीट से शीर्ष तीन और तीन हीट में सर्वश्रेष्ठ छह तेज धावक फाइनल के लिये क्वालीफाई करते हैं।

हाल में साबले लगातार राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं जिसमें उन्होंने पिछले महीने रबात में प्रतिष्ठित डायमंड लीग प्रतियोगिता में पांचवें स्थान पर रहने के बाद 8:12.48 सेकेंड का समय निकाला था। वहीं एशियाई रिकॉर्डधारी गोला फेंक एथलीट तेजिंदरपाल सिंह तूर ने 'ग्रोइन' चोट के कारण अपनी प्रतियोगिता से हटने का फैसला किया, जो उन्हें अमेरिका पहुंचने से चार दिन बाद लगी थी। उन्होंने अभ्यास के लिये दो थ्रो करने का भी प्रयास किया लेकिन दर्द के कारण उन्होंने हटने का फैसला किया।

Times Now Navbharat
Times now
ET Now
ET Now Swadesh
Mirror Now
Live TV
अगली खबर