National Sports Day 2020: पहली बार 5 खिलाड़‍ियों को मिला खेल रत्‍न, वर्चुअल समारोह में किया सम्‍मानित

National Sports Day : हॉकी के जादूगर ध्‍यानचंद के जन्‍मदिन के मौके पर खिलाड़‍ियों व कोचों को अलग-अलग पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया। पहली बार पांच खिलाड़‍ियों को खेल रत्‍न से सम्‍मानित किया गया।

national sports awards
राष्‍ट्रीय खेल पुरस्‍कार 

मुख्य बातें

  • राष्‍ट्रीय खेल दिवस 2020
  • पहली बार पांच लोगों को खेल रत्‍न से सम्‍मानित किया गया
  • राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वर्चुअल समारोह में पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया

National Sports Day 2020:  भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोविड-19 महामारी के कारण ऑनलाइन आयोजित किये गये समारोह में शानदार प्रदर्शन करने वाले देश के खिलाड़‍ियों को सालाना राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों से सम्मानित किया जो कई शहरों से 'लॉग इन' हुए। इस साल 74 खिलाड़ियों को राष्ट्रीय पुरस्कार के लिये चुना गया, जिसमें पांच को खेल रत्न और 27 को अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया। इनमें से 60 खिलाड़ियों ने भारतीय खेल प्राधिकरण के 11 केंद्रों से वर्चुअल समारोह में हिस्सा लिया।

क्रिकेटर रोहित शर्मा (खेल रत्न) और इशांत शर्मा (अर्जुन पुरस्कार) समारोह में शामिल नहीं हो सके क्योंकि वे इंडियन प्रीमियर लीग की प्रतिबद्धता के लिये संयुक्त अरब अमीरात में हैं जबकि स्टार पहलवान विनेश फोगाट (खेल रत्न) और बैडमिंटन खिलाड़ी सत्विकसाइराज रंकीरेड्डी (अर्जुन पुरस्कार) को कोविड-19 पॉजिटिव पाये जाने के बाद समारोह से हटना पड़ा।

रोहित और विनेश के अलावा तीन अन्य खेल रत्न पुरस्कार टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा, पैरालंपिक स्वर्ण पदकधारी मरियप्पन थंगावेलू और महिला हॉकी कप्तान रानी रामपाल को दिये गये जिन्होंने समारोह में हिस्सा लिया। मनिका ने पुणे से जबकि थंगावेलू और रानी ने भारतीय खेल प्राधिकरण के बंगलुरू केंद्र से 'लॉग इन' किया। राष्ट्रपति कोविंद ने भाग लेने वाले पुरस्कार विजेताओं की प्रशंसा की जिनके नाम पुकारे गये और उनकी उपलब्धियों बतायी गयीं। हालांकि राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल की कमी महसूस हुई, जहां यह समारोह आयोजित किया जाता है।

खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने समारोह शुरू होने से पहले कहा, 'कोविड-19 के दौरान यह पहला पुरस्कार समारोह है, जिसमें राष्ट्रपति उपस्थित हुए हैं।' इस साल खिलाड़ियों के नकद पुरस्कारों में बढ़ोतरी की गयी है। आज सुबह खेल रत्न की पुरस्कार राशि को 25 लाख रुपए तक बढ़ा दिया गया जो पहले 7.5 लाख रुपए थी। अर्जुन पुरस्कार हासिल करने के लिये समारोह में 22 खिलाड़ी ऑनलाइन हुए, उन्हें 15 लाख रुपए दिये गये जो राशि पहले की तुलना में 10 लाख रुपए अधिक है।

द्रोणाचार्य (आजीवन) पुरस्कारों की राशि पहले पांच लाख हुआ करती थी जिसे 15 लाख रुपए कर दिया है। वहीं नियमित द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेताओं को 10 लाख रुपए प्रदान किये गये जो पहले पांच लाख रुपए होती थी। ध्यानचंद्र पुरस्कार विजेताओं को पांच लाख के बजाय 10 लाख रुपए दिये गये। कोविड-19 के कड़े प्रोटोकॉल के कारण पुरस्कार के 44 साल के इतिहास में पहली बार हुआ जब विजेता, मेहमान और गणमान्य लोग दरबार हॉल में इकट्ठा नहीं हो सके।

इस साल अर्जुन पुरस्कार हासिल करने वालों में स्टार धाविका दुती चंद, महिला क्रिकेटर दीप्ति शर्मा, गोल्फर अदिति अशोक और पुरूष हॉकी टीम स्ट्राइकर आकाशदीप सिंह शामिल थे। द्रोणाचार्य लाइफटाइम पुरस्कार आठ कोचों को दिया गया जिसमें तीरंदाजी कोच धर्मेंद तिवारी, नरेश कुमार (टेनिस), शिव सिंह (मुक्केबाजी) और रमेश पठानिया (हॉकी) शामिल हैं। नियमित वर्ग में हॉकी कोच ज्यूड फेलिक्स और निशानेबाजी कोच जसपाल राणा सहित पांच को द्रोणाचार्य पुरस्कार से नवाजा गया। शुक्रवार को एक दुखद घटना हुई जब द्रोणाचार्य (आजीवन) विजेता एथलेटिक्स कोच पुरूषोत्तम राय का दिल का दौरा पड़ने से बेंगलुरू में निधन हो गया।

इस साल ध्यानचंद पुरस्कार 15 कोचों को दिया गया है जिसमें सुखविदंर सिंह संधू (फुटबॉल), तृप्ति मुर्गुंडे (बैडमिंटन) और नंदन बाल (टेनिस) शामिल हैं।
गोल्फर अदिति अशोक और पूर्व फुटबॉलर सुखविंदर सिंह संधू इसमें हिस्सा नहीं ले सके क्योंकि वे देश से बाहर हैं। केंद्रों पर स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य और सुरक्षा संबंधित सभी प्रोटोकॉल का पालन किया गया। बल्कि पुरस्कार विजेता पीपीई किट पहने दिखे। खेल मंत्रालय के निर्देशानुसार प्रत्येक पुरस्कार विजेता को केंद्र में आने से पहले कोविड-19 जांच से गुजरना था।

 2012 से मनाया जा रहा है खेल दिवस

2012 में केंद्र सरकार ने 29 अगस्‍त को खेल दिवस में मनाने का फैसला किया था। हॉकी के जादूगर मेजर ध्‍यानचंद का इसी दिन जन्‍मदिन होता है। 29 अगस्‍त 1905 में ध्‍यानचंद का जन्‍म इलाहाबाद में हुआ था। 1928 में एम्सटर्डम में हुए ओलिंपिक गेम्स में वह भारत की ओर से सबसे ज्यादा गोल (14 गोल) करने वाले खिलाड़ी थे। 1932 के ओलिंपिक फाइनल में भारत ने अमेरिका को 24-1 से हराया था। उस मैच में ध्यानचंद ने 8 गोल किए थे। उनके भाई रूप सिंह ने भी 10 गोल किए थे।

इन्‍हें मिला राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्‍कार

  • रोहित शर्मा- क्रिकेट
  • मरियप्‍पन थंगावेलू- पैरा एथलीट
  • मनिका बत्रा - टेबल टेनिस
  • विनेश फोगाट - रेसलिंग
  • रानी रामपाल - हॉकी

इन्‍हें मिला द्रोणाचार्य पुरस्‍कार

  • धर्मेंद्र तिवारी - आर्चरी
  • पुरुषोत्‍तम राय - एथलेटिक्‍स
  • शिव सिंह - मुक्‍केबाजी
  • रोमेश पठानिया - हॉकी
  • कृष्‍ण कुमार हूडा - कबड्डी
  • वियज बालचंद्र मुनीश्‍वर - पैरा पावरलिफ्टिंग
  • नरेश कुमार - टेनिस
  • ओम प्रकाश दहिया - रेसलिंग

बी- नियमित वर्ग

  • जुड फेलिक्‍स सेबास्टियन - हॉकी
  • योगेश मालवीय - मलखंब
  • जसपाल राणा - निशानेबाजी
  • कुलदीप कुमार हंडू - वुशू
  • गौरव खन्‍ना - पैरा बैडमिंटन

अर्जुन पुरस्‍कार

  • अतानु दास - आर्चरी
  • दुती चंद - एथलेटिक्‍स
  • सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी - बैडमिंटन
  • चिराग शेट्टी - बैडमिंटन
  • विशेष ब्रिगुवंशी - बास्‍केटबॉल
  • मनीष कौशिक - बॉक्सिंग
  • लोविना बोर्गोहैन - बॉक्सिंग
  • इशांत शर्मा - क्रिकेट
  • दीप्ति शर्मा - क्रिकेट
  • सावंत अजय अनंत - इक्‍वीस्‍ट्रीयन
  • संदेश झिंगन - फुटबॉल
  • अदिति अशोक - गोल्‍फ
  • आकाशदीप सिंह - हॉकी
  • दीपिका - हॉकी
  • दीपक हूडा - कबड्डी
  • सारिका काले सुधाकर - खो खो
  • दत्‍तु भोकलन - रोइंग
  • मनु भाकर - निशानेबाजी
  • मधुरिका सुहास पाटकर - टेबल टेनिस
  • दिविज शरण - टेनिस
  • शिवा केशवन - विंटर स्‍पोर्ट्स 
  • दिव्‍या काकरण - रेसलिंग
  • राहुल अवारे - रेसलिंग
  • सुयश नारायण जाधव - पैरा स्विमिंग
  • संदीप - पैरा एथलेटिक्‍स
  • मनीष नरवाल - पैरा शूटिंग

ध्‍यानचंद अवॉर्ड

  • कुलदीप सिंह भुल्‍लर - एथलेटिक्‍स
  • जिंसी फिलिप्‍स - एथलेटिक्‍स
  • प्रदीप श्रीकृष्‍ण गांधे - बैडमिंटन
  • तृप्ति मुरगुंडे - बैडमिंटन
  • एन ऊषा - मुक्‍केबाजी
  • लाखा सिंह - मुक्‍केबाजी
  • सुखविंदर सिंह संधू - फुटबॉल
  • अजित सिंह - हॉकी
  • मनप्रीत सिंह - कबड्डी
  • जे रंजित कुमार - पैरा एथलेटिक्‍स
  • सत्‍यप्रकाश तिवारी - पैरा बैडमिंटन
  • मंजीत सिंह - रोइंग
  • सचिन नाग - तैराकी
  • नंदन पी बाल - टेनिस
  • नेत्रपाल हूडा - रेसलिंग

तेंजिंग नार्वे एडवेंचर स्पोर्ट्स पुरस्‍कार

  • अनिता देवी - लैंड एडवेंचर
  • सरफराज सिंह - लैंड एडवेंचर
  • ताका तामुत - लैंड एडवेंचर
  • नरेंद्र सिंह - लैंड एडवेंचर
  • केवल हिरेन कक्‍का - लैंड एडवेंचर
  • सत्‍येंद्र सिंह - वॉटर एडवेंचर
  • गजानंद यादव - एयर एडवेंचर
  • दिवंगत मगान बिसा - लाइफ टाइम अचीवमेंट

मौलाना अबुल कलाम आजाद (एमएकेए) ट्रॉफी

पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

राष्ट्रीय खेल प्रत्साहन पुरस्कार

लक्ष्य संस्थान

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर