Olympics 2020: कोरोना वायरस से ही नहीं, पहले भी इन कारणों से ओलंपिक्स पर लग चुका है ग्रहण

जुलाई महीने में जापान में होने वाले 2020 ओलंपिक्स को भी पोस्टपोन कर दिया गया है। ये पहली बार नहीं है कि इस तरह की महामारी या ऐसी कोई आपातकालीन घटना के कारण ओलंपिक्स को टाला गया है या फिर कैंसल किया गया है-

japan tokyo olympic 2020
जापान ओलंपिक्स 2020 

मुख्य बातें

  • खतरनाक महामारी कोरोना वायरस के कारण जापान में होने वाला ओलंपिक्स टाला गया
  • इससे पहले भी 3 बार आपातकालीन घटनाओं के कारण ओलंपिक्स रद्द किया गया है
  • ओलंपिक्स की शुरुआत 1896 में की गई थी

नई दिल्ली : कोरोना वायरस ने दुनिया की रफ्तार को रोक कर रख दिया है। कोरोना वायरस के कारण ना सिर्फ स्कूल कॉलेज और ऑफिसेस बंद किए गए हैं बल्कि दुनियाभर के बड़े-बड़े इवेंट्स भी कैंसल कर दिए गए हैं। जुलाई महीने में जापान में होने वाले 2020 ओलंपिक्स को भी पोस्टपोन कर दिया गया है। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने आईओसी प्रेसीडेंट थॉमस बैक के साथ बैठक कर इस नतीजे पर पहुंचे। जीडीपी के मामले में जापान दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और इस साल आयोजित होने वाले ओलंपिक्स के बाद देश की अर्थव्यवस्था में जबरदस्त बढ़ोत्तरी होने की संभावना थी।

बता दें कि केवल ओलंपिक्स ही नहीं 2020 में होने वाले दुनिया के तमाम बड़े स्पोर्ट्स इवेंट्स भी कैंसल कर दिए गए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि ये पहली बार नहीं है कि इस तरह की महामारी या ऐसी कोई आपातकालीन घटना के कारण ओलंपिक्स को टाला गया है या फिर कैंसल किया गया है इससे पहले भी कई अलग-अलग बड़ी घटनाओं के कारण ओलंपिक्स को टाल दिया गया था या कैंसल कर दिया गया था। 

2020 के पोस्टपोन होते ही कोरोना वायरस ने एक बार फिर से 1968 की घटना याद दिला दी है जिसमें इजरायली एथलीट्स का नरसंहार किया गया था। हालांकि ये मामला उस समय अभी के कोरोना वायरस के प्रभाव की तुलना में उतना गंभीर नहीं था। यही कारण है कि ओलंपिक्स शुरू होने के 10 दिनों पहले तक भी इसे कैंसल नहीं किया गया था। 

सरकार ने निहत्थे छात्र प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने की अनुमति दे दी थी जिसमें सैकड़ों छात्र कई मारे गए थे। यहां तक कि 1996 जॉर्जिया में ओलंपिक पार्क में हुए एक बम धमाके में दो लोगों की मौत हो गई थी और ये भी ओलंपिक के आय़ोजन को नहीं रोक पाया था। ओलंपिक्स की शुरुआत 1896 में हुई। तब से लेकर अब तक केवल 3 बार ही अप्रत्याशित कारणों से इसे कैंसल किया गया है।

1916
ओलंपिक गेम्स 1916 में जर्मनी के बर्लिन में आयोजित किया गया था। लेकिन 1914 में शुरू हुए पहले वर्ल्ड वॉर के दौरान इसे कैंसल कर दिया गया था। जर्मनी ने ओलंपिक्स के लिए 30,000 सीट का स्टेडियम भी तैयार कर लिया था। अगली बार बर्लिन ने 20 सालों के बाद अपने यहां ओलंपिक्स का आय़ोजन किया था। 

1940
ये समय वर्ल्ड वॉर 2 का था। समर और विंटर ओलंपिक्स का आयोजन जापान में होने वाला था। उस समय किसी नॉन-वेस्टर्न कंट्री में पहली बार किसी गेम्स इवेंट का आयोजन होने जा रहा था। गेम्स पहले समर में फिनलैंड में होने वाला था और विंटर में जापान में। 1937 में हालांकि जापान का चीन के साथ वॉर शुरू हो गया जिसके बाद ओलंपिक्स का वेन्यू जापान से जर्मनी कर दिया गया लेकिन पोलैंड जर्मनी की लड़ाई के बाद ये ओलंपिक्स भी कैंसल कर दिया गया। 

1944
तीसरी बार भी वर्ल्ड वॉर की वजह से ही ओलंपिक्स गेम्स को कैंसल किया गया। सेकेंड वर्ल्ड वॉर के कारण इसे रद्द किया गया था। लंदन में सनर ओलंपिक्स शुरू होने वाला था और इटली में विंटर ओलंपिक्स होने वाला था। लेकिन वर्ल्ड वॉर की वजह से इसे रद्द कर दिया गया था।  

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर