कोरोना महामारीः इस साल तीरंदाजी ओलंपिक क्वालीफायर नहीं होगा, विश्व रैंकिंग भी रोकी गई

ओलंपिक खेल अगले साल तक के लिए स्थगित कर दिए गए हैं जिसकी वजह से अब तमाम खेलों के क्वालीफायर टूर्नामेंट भी इस साल ना किए जाने का ऐलान हो रहा है। ताजा ऐलान विश्व तीरंदाजी की तरफ से आया है।

Archery Olympic qualifiers not to be held this year
Archery Olympic qualifiers not to be held this year  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • तीरंदाजी ओलंपिक क्वालीफिकेशन इस साल नहीं होगा
  • विश्व तीरंदाजी रैंकिंग को भी रोका गया
  • कोरोना महामारी की वजह से क्वालीफायर टूर्नामेंटों का स्थगित होना जारी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी की वजह से ओलंपिक खेलों को अगले साल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। जापान के प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप के बाद आईओसी ने इस सबसे बड़े खेल आयोजन को अगले साल गर्मियों में कराने का कार्यक्रम जारी किया। अब जब ओलंपिक स्थगित हो गए हैं तो इसकी वजह से इससे जुड़े तमाम क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट भी टाल दिए जा रहे हैं। ताजा खबर तीरंदाजी से जुड़ी है।

विश्व तीरंदाजी ने ये फैसला लिया है कि इस साल कोई ओलंपिक क्वालीफायर नहीं होगा। यही नहीं, इसके साथ ही विश्व रैंकिंग पर भी रोक लगा दी गई है। विश्व तीरंदाजी ने अगस्त के आखिर तक के लिये सारे अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट स्थगित कर दिये। इस साल के आखिरी कुछ महीनों के लिये नया कार्यक्रम भी तैयार कर लिया गया है।

विश्व तीरंदाजी ने एक बयान में कहा, ‘इस साल आगे कोई ओलंपिक क्वालीफायर नहीं होंगे ।सभी 2021 में होंगे । विश्व रैंकिंग पर भी रोक लगा दी गई है।’’ पहले अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट 30 अप्रैल तक स्थगित किये गए थे जो बाद में 30 जून तक और फिर 31 अगस्त तक स्थगित कर दिये गए। बयान में कहा गया, ‘विश्व तीरंदाजी के कार्यकारी बोर्ड ने सभी अंतरराष्ट्रीय स्पर्धायें 31 अगस्त 2020 तक के लिये टाल दी हैं । कोरोना महामारी के कारण लागू प्रतिबंध हटने की दशा में आखिरी कुछ महीनों का कैलेंडर बनाया गया है बशर्ते हालात सुरक्षित हों।’

इसमें कहा गया कि दो महीने से कम के नोटिस पर कोई टूर्नामेंट नहीं खेला जायेगा । इसने यह भी कहा कि एक जुलाई से वह सारे राष्ट्रीय टूर्नामेंटों को मान्यता देगा बशर्ते वे स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखकर आयोजित किये जायें। इससे पहले कई अन्य खेलों के ओलंपिक क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट भी टाल दिए गए हैं। इससे खिलाड़ियों को करारा झटका लगा है क्योंकि वे काफी समय से अभ्यास में जुटे थे, अब उन्हें अपने अभ्यास को खींचते हुए उसे अगली गर्मियों तक जारी रखना पड़ सकता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर