LIVE BLOG
More UpdatesMore Updates

Tulsi Vivah 2021, Puja Vidhi, Muhurat, Mantra: जानें कब है तुलसी विवाह, कैसे करें पूजन और शुभ मुहूर्त

Tulsi Vivah 2021 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Time, Samagri, Mantra, Aarti in Hindi: देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह मनाया जाता है। कई लोग द्वादशी तिथि को भी पूजन करते हैं। इस दिन भगवान विष्‍णु के रूप शालीग्राम का विवाह तुलसी जी से कराया जाता है।
Tulsi Vivah 2021 (pic: Istock)
Tulsi Vivah 2021

Tulsi Vivah 2021 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Time, Samagri, Mantra, Aarti: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को तुलसी विवाह मनाया जाता है। इस दिन भगवान विष्णु जी के अवतार शालीग्राम और देवी तुलसी का विवाह होता है। इस दिन को देवउठनी एकादशी या देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान विष्णु चार माह के बाद इस दिन निद्रा से उठते हैं। ऐसे में मांगलिक कार्यों की भी शुरूआत होती है। एकादशी तिथि इस बार 15 नवंबर सुबह 6 बजकर 38 मिनट तक है। जबकि द्वादशी तिथि 15 नवंबर को है। तुलसी विवाह एकादशी एवं द्वादशी दोनों तिथियों में कर सकते हैं। 

तुलसी विवाह के दिन भगवान विष्‍णु और तुलसी जी की पूजा होती है। हर सुहागन स्त्री को तुलसी विवाह जरूर करना चाहिए। इससे अंखड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही घर में सुख-समृद्धि आती है।  पूजा के समय मां तुलसी को सुहाग का सामान और लाल चुनरी जरूर चढ़ाएं। साथ ही 
गमले में शालीग्राम को साथ रखें और तिल चढ़ाएं। तुलसी और शालीग्राम को दूध में भीगी हल्दी का तिलक लगाएं। पूजा के बाद किसी भी चीज के साथ 11 बार तुलसी जी की परिक्रमा करें। पूजा खत्म होने पर शाम को भगवान विष्णु से जागने का आह्वान करें।

Nov 15, 2021  |  11:52 PM (IST)
तुलसी विवाह में गन्‍ने को करें शामिल

तुलसी विवाह के दिन घरों में चावल के आटे का चौक बनाकर उसपर गन्ने से पूजा की जाती है। कहते हैं इस पूजा में गन्‍ने का मंडप बनाया जाता है। ऐसा करने से भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है। 

Nov 15, 2021  |  10:50 PM (IST)
तुलसी विवाह के दिन पढ़ें ये मंत्र

तुलसी विवाह के दिन कुछ खास उपाय करने से धन धान्‍य की प्राप्ति होती है। ऐसे में इस दिन महाप्रसाद जननी सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं तुलसी त्वं नमोस्तुते..। मंत्र का जाप नियमित रूप से करने से व्यक्ति की सभी इच्छाएं पूर्ण होंगी। 

Nov 15, 2021  |  09:49 PM (IST)
क्‍यों मनाते हैं तुलसी विवाह

भगवान विष्णु आषाढ़ शुक्ल एकादशी को चार माह के लिए योग निद्रा में चले जाते हैं और देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं। इसके बाद भगवान विष्णु सबसे पहले तुलसी से विवाह करते हैं। ऐसा वे खुद को एक श्राप से मुक्ति होने के लिए करते हैं। इसलिए हर साल कार्तिक मास की द्वादशी को महिलाएं तुलसी और शालिग्राम का विवाह करवाती हैं। इस बार तुलसी-शालिग्राम विवाह सोमवार, 15 नवंबर को है। 

Nov 15, 2021  |  08:45 PM (IST)
कैसे करें पूजा

सबसे पहले कलश और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद माता तुलसी और भगवान शालिग्राम की धूप, दीप, फूल, वस्त्र, माला अर्पित करें। तुलसी मंगाष्टक का पाठ करें।-हाथ में आसन सहित शालिग्राम जी को लेकर तुलसी जी की सात बार परिक्रमा करें। इसके बाद भगवान विष्णु और तुलसी जी की आरती उतारें। भोग लगाएं

Nov 15, 2021  |  07:54 PM (IST)
तुलसी जी और शालिग्राम को अर्पित करें ये चीजें

तुलसी जी को रोली और शालिग्राम को चंदन का टीका लगाएं।तुलसी के गमले की मिट्टी पर गन्ने का मंडप बनाएं। साथ ही उस पर सुहाग का प्रतीक लाल चुनरी चढ़ाएं। फिर तुलसी के गमले को साड़ी लपेटकर उन्हें चूड़ी पहना कर दुल्हन की तरह उनका श्रृंगार करें। शालिग्राम जी को पीले वस्त्र पहनाएं।

Nov 15, 2021  |  06:41 PM (IST)
पूजा में शामिल करें ये सामग्री

तुलसी विवाह के पूजन के लिए कुछ खास चीजों का होना जरूरी है। इसलिए पूजा में मूली, आंवला, बेर, शकरकंद, सिंघाड़ा, मूली, सीताफल, अमरुद और अन्य ऋतु, मंडप तैयार करने के लिए गन्ने, भगवान विष्णु की प्रतिमा, तुलसी का पौधा, चौकी, धूप, दीपक, वस्त्र, माला, फूल, सुहाग का सामान, सुहाग का प्रतीक लाल चुनरी, साड़ी, हल्दी आदि का प्रयोग करें। 

Nov 15, 2021  |  05:22 PM (IST)
आज करें यह उपाय

आज तुलसी विवाह है, इस दिन तुलसी और भगवान शालिग्राम की पूजा करना लाभदायक माना गया है। ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः मंत्र का जाप करते हुए औज तुलसी जी की 11 बार परिक्रमा करें। ऐसा करने से मां तुलसी आपके सारे रोग-दोष दूर करेंगी।

Nov 15, 2021  |  03:57 PM (IST)
तुलसी जी को अवश्य चढ़ाएं यह चीज

तुलसी विवाह के दिन मां तुलसी को कुछ चीजें अवश्य चढ़ाना चाहिए। इसके साथ मां तुलसी का श्रृंगार करना चाहिए। तुलसी विवाह पर भगवान शालिग्राम को मां तुलसी के साथ रखें और तिल चढ़ाएं। इस दिन तुलसी मां को लाल चुनरी चढ़ाएं।

Nov 15, 2021  |  03:40 PM (IST)
तुलसी विवाह के लिए शुभ समय

सनातन धर्म में तुलसी विवाह करवाना लाभदायक माना गया है। देवउठनी एकादशी पर तुलसी विवाह का विशेष महत्व है। इस दिन भक्तों को तुलसी मां और शालिग्राम भगवान का विवाह अवश्य करवाना चाहिए। आज तुलसी विवाह करवाने के लिए दोपहर 01:02 से लेकर दोपहर 02:44 तक का समय शुभ है इसके साथ शाम 05:17 से लेकर शाम 05:41 का समय भी उत्तम माना जा रहा है।

Nov 15, 2021  |  03:08 PM (IST)
नौकरी में तरक्की पाने के लिए करें यह उपाय

अगर आप अपने कारोबार या नौकरी में तरक्की और बरकत चाहते हैं तो तुलसी विवाह के दिन श्यामा तुलसी की जड़ का एक टुकड़ा ले लें। अब इस टुकड़े को किसी पीले कपड़े में बांधकर अपनी दुकान या ऑफिस में सुरक्षित जगह पर रख दें। ऐसा करने से मुरादें पूरी होती हैं तथा तरक्की होती है।

Nov 15, 2021  |  02:40 PM (IST)
तुलसी पूजा के दौरान करें इस मंत्र का जाप

ॐ सुभद्राय नमः

ॐ सुप्रभाय नमः

Nov 15, 2021  |  02:07 PM (IST)
तुलसी दल तोड़ने का मंत्र

तुलसी दल तोड़ते समय नीचे दिए गए मंत्र का जाप करना लाभदायक माना गया है।

मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी।
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।

Nov 15, 2021  |  01:32 PM (IST)
तुलसी पौधे के पास जलाएं शुद्ध घी का दीपक

तुलसी विवाह के दिन तुलसी के पौधे के पास इस दिन शुद्ध घी के 11 दीपक जलाएं। 11 दीपक जलाते समय ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः मंत्र का जाप करें। ऐसा करने के बाद तुलसी जी की 11 बार परिक्रमा करें। मान्यताओं के अनुसार ऐसा करने से रोग दोष दूर होते हैं तथा घर में सुख समृद्धि बनी रहती है।

Nov 15, 2021  |  12:55 PM (IST)
तुलसी विवाह पर करें यह उपाय

हिंदू धार्मिक शास्त्रों के अनुसार, पीपल के वृक्ष में भगवान विष्णु का वास होता है। देवउठनी एकादशी पर पीपल के वृक्ष पर जल अर्पित करना चाहिए तथा शाम के समय दीपक जलाना चाहिए। तुलसी विवाह के दिन ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं तथा भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

Nov 15, 2021  |  10:05 AM (IST)
क्या है तुलसी विवाह का महत्व?

सनातन धर्म में तुलसी विवाह विशेष माना गया है। मान्यताओं के अनुसार, तुलसी विवाह करवाने से भक्तों के जीवन में आ रहे कष्ट समाप्त हो जाते हैं। इसके साथ उनके जीवन में सुख-समृद्धि हमेशा बनी रहती है। जिस व्यक्ति की शादी में अड़चनें आ रही हैं उसे तुलसी विवाह अवश्य करवाना चाहिए।

Nov 15, 2021  |  09:37 AM (IST)
कैसे करें एकादशी व्रत का पारण?

देवउठनी एकादशी पर व्रत रखना लाभदायक है। इस दिन तुलसी विवाह के समय घी का दीपक जलाएं और उसे रात भर जलने दें। विष्णु जी को प्रसन्न करने के लिए इस दिन जागरण करें। अगले दिन हरि वासर समाप्त होने के बाद आप व्रत का पारण कर सकते हैं। 

Nov 15, 2021  |  09:15 AM (IST)
क्यों तुलसी विवाह माना गया है फलदाई?

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, तुलसी विवाह अत्यंत लाभदायक है। ऐसा कहा जाता है कि तुलसी विवाह के दिन जो व्यक्ति सच्चे मन से मां तुलसी और भगवान शालिग्राम की पूजा करता है तथा तुलसी विवाह करवाता है उसे विशेष फल की प्राप्ति होती है तथा उसके सारे कष्टों का नाश होता है। विवाहित और अविवाहित लोगों के लिए तुलसी विवाह करवाना फायदेमंद है।

Nov 15, 2021  |  08:36 AM (IST)
तुलसी विवाह के लिए सामग्री लिस्ट

तुलसी विवाह 2021 के लिए पूजा से पहले यह सामग्री जुटा लें: तुलसी का पौधा, चौकी, भगवान विष्णु की प्रतिमा, आंवला, मूली, हल्दी, शकरकंद, सीताफल, गन्ने, बेर,सिंघाड़ा, धूप-दीप, फल, कपड़ें, माला, फूल, लाल चुनरी, सुहाग का सामान, साड़ी।

Nov 15, 2021  |  08:00 AM (IST)
तुलसी विवाह मुहूर्त कब है?

हिंदू पंचांग के अनुसार, हर वर्ष तुलसी विवाह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकदाशी तिथि पर पड़ता है। इस वर्ष एकादशी तिथि 15 नवंबर को सुबह 06:38 पर समाप्त हो रही है। ऐसे में द्वावशी तिथि पर भी तुलसी विवाह किया जाता है। 

द्वादशी तिथि प्रारंभ- 15 नवम्बर 2021 को 06:39 AM बजे
द्वादशी तिथि समाप्त- 16 नवम्बर 2021 को 08:01 AM बजे


 

Nov 15, 2021  |  07:37 AM (IST)
शालिग्राम जी की आरती, जानें यहां

शालिग्राम सुनो विनती मेरी | यह वरदान दयाकर पाऊं ||

प्रातः समय उठी मंजन करके | प्रेम सहित स्नान कराऊं ||

चन्दन धूप दीप तुलसीदल | वरण-वरण के पुष्प चढ़ाऊं ||

तुम्हरे सामने नृत्य करूं नित | प्रभु घण्टा शंख मृदंग बजाऊं ||

चरण धोय चरणामृत लेकर | कुटुम्ब सहित बैकुण्ठ सिधारूं || 

जो कुछ रूखा - सूखा घर में | भोग लगाकर भोजन पाऊं || 

मन बचन कर्म से पाप किये | जो परिक्रमा के साथ बहाऊं || 

ऐसी कृपा करो मुझ पर | जम के द्वारे जाने न पाऊं ||

माधोदास की विनती यही है | हरि दासन को दास कहाऊं ||