karwa chauth sargi items list : इन चीजों के ब‍िना अधूरी है करवा चौथ की सरगी की थाली, नोट करें सामग्री ल‍िस्‍ट

karva chauth sargi samagri list: करवाचौथ में सरगी की थाली का बहुत महत्‍व होता है। इनमें कुछ चीजों को शाम‍िल करना जरूरी है, वरना व्रत अधूरा रह जाएगा। जानें आपकी सरगी की थाली में क्‍या जरूर होना चाह‍िए।

karva chauth sargi, करवाचौथ की सरगी
karva chauth sargi, करवाचौथ की सरगी  

मुख्य बातें

  • सरगी की थाली में पांच चीजें जरूर होनी चाहिए
  • फ्रूट्स और दूध से बनी चीजें सरगी का मुख्य आहार हैं
  • फल और मेवे को खाने से दिन भर ऊर्जा बनी रहती है

करवा चौथ का व्रत पति की लंबी आयु और रक्षा के लिए क‍िया जाता है। इस द‍िन सुहागिन महिलाएं निर्जला व्रत करती हैं। करवा चौथ का व्रत सूर्योदय के साथ शुरू होकर चंद्रोदय तक जारी रहता है और इसमें पानी पीना भी मना होता है। करवाचौथ में सरगी का भी खासा महत्‍व होता है। इसे सूरज उगने से पहले खाया जाता है। सरगी को सास अपनी बहू के लिए बनाती हैं। बहू इसे खाकर व्रत शुरू करती है, लेकिन सरगी केवल एक प्रथा भर नहीं है। 

सरगी सेहत के लिहाज से भी होती है। परंपरा के अनुसार सरगी में कुछ चीजें शामिल करना बहुत जरूरी माना गया है। इसलिए यदि आप अकेले ये करवाचौथ व्रत करने जा रही है तो आपको यह जानना जरूरी है कि सरगी में क्या चीजें शामिल करनी चाहिए। तो आइए आज जानते हैं कि सरगी क्या है और सरगी की थाल में क्या कुछ होना ही चाहिए।

क्या होती है सरगी? (What is Sargi in Karwa Chauth)

करवाचौथ का व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक रखा जाता है, लेकिन करवाचौथ के भोर में जब सूर्योदय नहीं हुआ होता है तो सास अपनी बहू के लिए सरगी बनाती है। ये सरगी खाने के बाद व्रत प्रारंभ होता है। ये एक तरह से व्रत के लिए सास की ओर से दिया गया आशीर्वाद होता है।

जानें सरगी खाने का सही समय (Sargi time on Karwa Chauth)

सरगी भोर यानी सूर्य निकलने से पूर्व खाई जाती है। सरगी खाने का सबसे सही समय सुबह तीन या चार बजे होता है। इसके बाद व्रत करने वाली महिलाओं को पानी भी नहीं पीना होता है।

जानें सरगी की प्रथा (Sargi meaning and Sargi Tradition)

भोर में स्नान करने के बाद सास अपनी बहू के लिए सरगी बनाती है और बहू स्नान के बाद इस सरगी को खाती है। यदि सास साथ न रहती हों तो सरगी पहले ही बहू के लिए भिजवा दिया जाता है। बहू इस सरगी को खुद बनाकर खाती है। यदि सास न हो तो सास समान जेठानी या भाभी भी इस सरगी को दे सकती हैं।

पारंपरिक रूप से सरगी में होनी चाहिए ये चीजें (Sargi Thali Item List)

1. सेवईयां

दूध, चीनी, मावा के साथ तैयार सेवई सरगी की थाली में जरूर होनी चाहिए, तभी सरगी की थाली पूर्ण मानी जाती है। इस सरगी को खाने से पूरे दिन शरीर में ऊर्जा रहती है और पानी की कमी नहीं हाती।

2. कई तरह के फल

सरगी की थाली में दूसरा प्रमुख चीज होता है फल। केला, सेब, संतरा, खजूर आदि को सरगी में जरूर शामिल करें। ये फल खाने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। ताजे फलों में पर्याप्त मात्रा में फाइबर और पानी होता है।

3. ड्राई फ्रूट्स

सूखे मेवे जैसे बादाम, अखरोट, काजू आदि को भी सरगी में शामिल किया जाता है। सूखे मेवे न्यूट्रीएंट्स से भरे होते हैं और शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने में मदद भी करते हैं। भोर में एक मुठ्ठी इनका सेवन पूरे दिन की जरूरत को पूरा कर देगा।

4. हल्के और सुपाच्य भोज

सरगी में एक रोटी किसी हरी सब्जी के साथ या मेवे से बनी हलवे के साथ खा लें। ये शरीर को  पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करने के लिए काफी होगा। बस कोशिश करें कि सब्जी में तेल या मसाले का प्रयोग ज्यादा न हो।

5. मिठाई

मिठाई के बिना तो सरगी पूरी ही नहीं हो सकती है। इसलिए सरगी में छेने की मिठाई को शामिल करें क्योंकि ये सुपाच्य होने के साथ लंबे समय तक पेट को भरा महससू कराती है।

तो पारंपरिक रूप से सरगी की थाली में ये पांच चीजें शामिल होती है और इनमें से कुछ या सभी कुछ थोड़ा-थोड़ा सा खाकर व्रत की शुरुआत करनी चाहिए।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर