Devuthni ekadashi 2019: आज चार महीने बाद नींद से जागेंगे भगवान विष्‍णु, जानें किस विधि से करें पूजा 

व्रत-त्‍यौहार
Updated Nov 08, 2019 | 06:00 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Ddev uthani ekadashi puja vidhi: देवउठनी एकादशी के दिन घर पर चावल नहीं बनाना चाहिये। साथ ही पूजा करने के भी अपने ही नियम हैं। यहां जानें आज के दिन किस विधि से पूजा की जानी चाहिये।

 Devuthni ekadashi
Devuthni ekadashi   |  तस्वीर साभार: Instagram

मुख्य बातें

  • आज के दिन भगवान विष्णु अपनी निंद्रा से जागते हैं
  • देवउठनी एकादशी के दिन घर पर चावल नहीं बनाना चाहिये
  • घर के सभी लोग फलाहारी व्रत रखने का प्रयास करें

आज देवउठनी एकादशी है। आज के दिन भगवान विष्णु अपनी निंद्रा से जागते हैं। इसके अलावा इस दिन विष्‍णु जी के स्‍वरूप शालीग्राम जी के साथ तुलसी विवाह भी कराया जाता है। ऐसे में इस दिन तुलसी पूजा भी की जाती है। दोनों के विवाह का एक आध्‍यात्‍मित महत्‍व भी है जिसका अर्थ है कि तुलसी जी की पूजा के बिना शालिग्राम जी की पूजा नहीं की जा सकती है। 

देवउठनी एकादशी के दिन घर पर चावल नहीं बनाना चाहिये। वहीं,  घर के सभी लोग फलाहारी व्रत रखने का प्रयास करें तो जीवन में खुशहाली आएगी। वे लोग जो आज के दिन देवउठनी का व्रत रख रहे हैं वो इस विधि के साथ पूजा करें... 

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by yash trivedi (@yash_trivedi_2) on

 


देवउठनी एकादशी की पूजा विधि

 

 

  • देवउठनी एकादशी के दिन सुबह उठकर सबसे पहले नहा लें। 
  • इसके बाद भगवान विष्णु की पूजा का संकल्प लें। 
  • घर के आंगन में भगवान के चरणों की आकृति बनाएं। 
  • ये विश्वास किया जाता है कि भगवान इसी रास्ते आएंगे। 
  • फल, फूल, मिठाई इत्यादि को एक डलिया में रखें।
  • इसके बाद रात में पूरे परिवार के साथ भगवान विष्णु का पूजन करें। 
  • संध्या समय में विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ कर शंख बाजाकर भगवान को आमंत्रण दें। 
  • इस पूरी रात्रि श्रद्धानुसार भगवान के विभिन्न नामों का जप करें। 
  • भगवान का संकीर्तन करें। 


देवउठनी एकादशी के दिन शाम में व्रत खोलते हुए सबसे पहले भगवान विष्णु को भोग में लगाए तुलसी पत्ते का सेवन करें। इसके बाद ही कुछ मुंह में डालें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर