Vastu Tips: घर में कहां होने चाहिए बेडरूम और पूजाघर, वास्तु नियमों से जानें ये बातें

Vastu Shastra : घर वो जगह है जहांं सुकून न हो तो इंसान का रहना मुश्किल हो जाता है। वास्तुदोष से ऐसा कई बार हो जाता है, इसलिए यह जान लेना जरूरी है कि वास्तु के अनुसार घर में क्या चीज कहां बनाई जानी चाहिए।

Rules of Vastu For home, घर के लिए वास्तु के नियम
Rules of Vastu,वास्तु के नियम 

मुख्य बातें

  • कमरे में वास्तुदोष हो तो उसका असर मुखिया पर होता है
  • पूजा घर ईशान कोण पर बनाएं, ये स्थान ईश्वर का होता है
  • बेडरूम नैऋत्य या वायव्य कोण पर बनाया जाना चाहिए

वास्तु के अनुसार घर जिसका होता है उसके घर में सकारात्मकता और खुशियों का वाास होता है, लेकिन इसके उलट यदि घर में वास्तु दोष हो तो घर में सब कुछ अच्छा होते हुए भी समस्याएं आने लगती हैं। वास्तुदोष से केवल नकारात्मकता ही नहीं धन हानि, स्वास्थ्य हानि और सम्मान आदि की कमी होने लगती है। कई बार जाने या अनजाने में घरों में ऐसे वास्तु दोष रह जाते हैं, जो पूरे परिवा र की सुख और शांति को छीन लेते हैं। सुकून की नींद, अच्छी सेहत के साथ प्यार भरे माहौल को घर में बनाए रखने के लिए यह जानना जरूरी है कि घर में वास्तु के अनुसार कहां क्या चीज होनी चाहिए। वास्तु में हर स्थान तय है कि कहां क्या होना चाहिए। तो आइए आज आपको इसके बारे में ही बताते हैं।

दिशाओं के अनुसार जानें कहां क्या चीज का बनाना या होना जरूरी है

भवन का मुख्य द्वार

वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि किसी घर-ऑफिस का मुख्य द्वार पूर्व या उत्तर में ही होना चाहिए। सबसे श्रेष्ठ यही दिशाएं होती हैं। पूर्व दिशा में मुख्य द्वार होने से सूर्य कि किरणें अपने साथ नकारातमकता को हर लेती हैं। उत्तरमुखी भवन में लगाए जाने वाले मुख्य दरवाजे को चौकोर ही रखें। इसे गोल आकार या कोई अन्य आकार न दें। उत्तर की ओर खुला छत रखना चाहिए ताकि सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता रहे।

पूजाघर का स्थान

घर में पूजा के कमरे का स्थान सबसे महत्वूपर्ण माना गया है। यदि ये सही जगह पर न हो या पूजाघर की जगह कुछ अन्य चीजे रखी गईं हो तो इससे बहुत ही बुरा प्रभाव घर पर पड़ता है। मन की शांति और घर के चौमुखी विकास के लिए पूजाघर का स्थान उत्तर-पूर्व यानी ईशान कोण पर ही होना चाहिए। क्योंकि ये ही देवताओं का स्थान होता है। यह भी ध्यान रखें की पूजाघर के ऊपर या नीचे कभी टॉयलेट या रसोईघर न हो। इतना ही नहीं इसे सट कर भी न हो। सीढ़ियों के नीचे यदि पूजाघर बनाने की सोच रहे तो ये विचार भी बदल लें। पूजा घर हमेशा ग्राउंड फ्लोर पर रखें।

रसोईघर का स्थान

रसोईघर यानी किचन यदि सही दिशा में न हो तो ये परिवार में बीमारियों का कारण बनता है। इसलिए रसोईघर की दिशा वास्तुशास्त्र के अनुसार जान कर उसे वहीं बनाएं। रसोईघर हमेशा घर के आग्नेय कोण यानी दक्षिण-पूर्वी दिशा में होना चाहिए। यह दिशा अग्नि देव की होती है। यदि दक्षिण-पूर्व दिशा  नहीं मिल पा रही किचन के लिए तो आप उत्तर-पश्चिम दिशा भी रख सकते

बेडरूम का स्थान

वास्तु के अनुसार घर में बेडरूम दक्षिण-पश्चिम (नैऋत्य) या उत्तर-पश्चिम (वायव्य) की ओर होना चाहिए। यदि आपका घर कई मंजिला है तो अपना मास्टर बेडरूम ऊपरी मंजिल के दक्षिण-पश्चिम कोने पर बनाएं। याद रखें कभी भी बेडरूम में शीशा न रखें और न ही दरवाजे के सामने बेड। सोते समय पैर दक्षिण और पूर्व दिशा में न करें। बेड ऐसे रखें की आपका सोते समय पैर उत्तर दिशा की ओर हो, इससे स्वास्थ्य और आर्थिक स्थित दोनों ही बेहतर होंगे।

बाथरुम और टॉयलेट

बाथरुम और टॉयलेट कभी साथ-साथ न बनाएं क्योंकि बाथरुम में चंद्रमा और टॉयलेट में राहू का वास माना गया है। इन दोनों का साथ होने का मतलब है चंद्रग्रहण। ये आपके घर में कलह का कारण बन सकता है। बाथरुम हमेशा पूर्व दिशा में हो या नहाते समय आपका मुख पूर्व या उत्तर की ओर हो। वहीं टॉयलेट नैऋत्य कोण यानी पश्चिम-दक्षिण दिशा में हो। यानी टॉयलेट पश्चिम दिशा के मध्य या दक्षिण दिशा के मध्य होना चाहिए। टॉयलेट की सीट पर बैठते समय आपका मुख दक्षिण या उत्तर की ओर होना चाहिए।

स्टडी रूम का स्थान

वास्तु के अनुसार पूर्व, उत्तर, ईशान तथा पश्चिम के मध्य में अगर स्टडी रूप हो तो ये बेहद अच्छा होता है। इससे इस कमरे में पढ़ने वाले कि एकाग्रता सही रहती है। पढ़ते समय दक्षिण तथा पश्चिम की दीवार से सटकर पूर्व तथा उत्तर की ओर मुख करके बैठना चाहिए। पढ़ने वाले के पीठ के पीछे द्वार अथवा खिड़की न हो। कमरे का ईशान कोण खाली होना चाहिए।

वास्तु के इन महत्वपूर्ण बिंदुओं को घर बनवाते या लेते समय जरूर पालन करना चाहिए, क्योंकि इससे पूरे परिवार कि सुख-समृद्धि जुड़ी होती है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर